जलसंकट / 3 माह में जिले का जलस्तर 1.62 मीटर गिरा, 126 से ज्यादा हैंडपंप बंद, अंचल में गहराया संकट



Water level in the district fell 1.62 meters in 3 months
X
Water level in the district fell 1.62 meters in 3 months

  • जनवरी से प्रतिमाह आधा मीटर जमीन में उतर रहा पानी, अब तक जिले का जलस्तर 33.67 मीटर नीचे गया 

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 10:21 AM IST

नीमच. जिले में भूजल स्तर लगातार नीचे जाने से ग्रामीण क्षेत्रों में जल संकट गहरा गया है। जनवरी से मार्च तक 1.62 मीटर से ज्यादा जल स्तर गिर गया। अप्रैल की रिपोर्ट आना बाकी है। जिले में करीब 700 ट्यूबवेल खनन होने के साथ खेती के लिए अधिक जल दोहन एवं भू-जल संरक्षण की अनदेखी कारण यह स्थिति बनी हैं। इससे जिले में करीब 126 हैंडपंप दम ताेड़ चुके हैं। 

 

तीन महीने में भू जलस्तर में 1.62.5 मीटर गिरने से जिले का जल स्तर 33.67 मीटर पर आ गया है। जबकि जनवरी में जल स्तर 32मीटर था। इसके हैंडपंप ने दम तोड़ रहे हैं, कुओं का जल स्तर गिरने के साथ नदी-नाले व तालाब सूखने लगे हैं। जिले के 126 से ज्यादा हैंडपंपों ने दम तोड़ दिया। जो चालू हैं उनमें भी पर्याप्त पानी नहीं रहा।

 

मई-जून में जलसंकट की स्थिति गंभीर हाे जाएगी। विभाग का कहना है कि पिछले वर्ष से अच्छी स्थिति है। जहां जलसंकट गहराएगा वहां निजी जल स्राेताें का अधिग्रहण कर लाेगाें काे पानी उपलब्ध करवाएंगे। अधिग्रहण की प्रक्रिया भी शुरू कर रहे हैं। जिले में सबसे ज्यादा स्थिति जावद ब्लॉक की खराब है। वहां का जलस्तर 41 मीटर नीचे चला गया है। जबकि नीमच ब्लॉक में 33.50 और मनासा ब्लॉक में 27.23 मीटर नीचे है। 

 

हैंडपंप की स्थिति  

  • 5083 हैंडपंप हैं जिले में 
  • 4957 हैंडपंप चालू 
  • 126 हैंडपंप बंद है 
  • 97 जलस्तर गिरने से बंद है 
  • 27  हैंडपंप विभिन्न कारणों से बंद है 

नोट : सभी आंकड़े जल संसाधन विभाग जिला नीमच से प्राप्त मार्च माह में जलस्तर व स्थिति के अनुसार।

 

 

जिले में माहवार भू-जल स्तर की स्थिति 

माह कुल 
जनवरी 32.05 
फरवरी   32.90

मार्च

33.67 

 

विभाग ने कहा-संसाधन मौजूद : लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग का दावा है कि जिले के लिए पर्याप्त संसाधन मौजूद है। यहां हैंडपंप सुधारने के लिए पाइप से लेकर सभी साधन और मैकेनिक तक उपलब्ध हैं। कहीं पर भी जल संकट की स्थिति में तुरंत सुधारेंगे। जहां आवश्यक हुआ निजी जल स्रोत का अधिग्रहण करेंगे। चीताखेड़ा, हरवार, जीरन में कुछ ट्यूबवेल अधिग्रहण किए हैं। इसके अलाव अन्य निजी जलस्रोतों को चिह्नित किया है। 

 

जिले के तीनों ब्लॉक का जलस्तर 

  • ब्लॉक 2019 
  • मनासा 27.23 
  • जावद 40.94 
  • नीमच 33.50 
  • जिले में 33.67 

पिछले साल से भू-जल स्तर की स्थिति बेहतर हैं। मई अंत स्थिति नहीं बिगड़ेगी हैं। इसके बाद भी गांवों में जलसंकट के हालात बनेंगे तो उसके लिए विभाग द्वारा निजी जलस्रोतों को चिह्नित किया जा रहा है। उसके माध्यम से लोगों को पानी उपलब्ध करवाएंगे। जनता को भी जागरूक होना पड़ेगा। जल का अपव्यय नहीं करें ताकि भीषण गर्मी में पानी के लिए नहीं भटकना पड़े।

एनके सोनार, उपयंत्री जल संसाधन विभाग जिला नीमच 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना