Hindi News »Madhya Pradesh »Rau» सरकार एयर इंडिया में 76% हिस्सेदारी बेचेगी

सरकार एयर इंडिया में 76% हिस्सेदारी बेचेगी

विपक्ष की आपत्तियों के बावजूद सरकार एयर इंडिया का विनिवेश करने जा रही है। खरीदार कंपनी को इसमें 76% हिस्सेदारी के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 04:30 AM IST

सरकार एयर इंडिया में 76% हिस्सेदारी बेचेगी
विपक्ष की आपत्तियों के बावजूद सरकार एयर इंडिया का विनिवेश करने जा रही है। खरीदार कंपनी को इसमें 76% हिस्सेदारी के साथ स्ट्रैटजिक नियंत्रण मिलेगा। साथ में सब्सिडियरी कंपनियों एयर इंडिया एक्सप्रेस और एयर इंडिया एयर ट्रांसपोर्ट की भी 100% हिस्सेदारी मिलेगी। खरीदार को एयर इंडिया के कर्मचारी बरकरार रखने होंगे और 5.1 अरब डॉलर (33,100) करोड़ रुपए कर्ज का बोझ भी उठाना पड़ेगा। एयर इंडिया के एसेट में 115 विमान और दूसरे देशों में सेवाएं देने के 9.7 लाख द्विपक्षीय अधिकार शामिल हैं। संभावित खरीदारों में घरेलू एयरलाइंस इंडिगो, जेट एयरवेज और विस्तारा के साथ कतर एयरवेज और तुर्की की सेलेबी एविएशन जैसी विदेशी कंपनियां भी हैं।

44,000 करोड़ का कर्ज डिफॉल्ट करने वाली भूषण को टाटा स्टील खरीदेगी

एक महत्वपूर्ण फैसले में टाटा स्टील को भूषण स्टील खरीदने का अधिकार मिल गया है। भूषण ने 44,000 करोड़ रुपए का कर्ज डिफॉल्ट किया है। टाटा स्टील ने इसके लिए 35,200 करोड़ रुपए का ऑफर दिया है। यह रकम बैंकों को मिलेगी। इसके अलावा वह ऑपरेशनल बिल के भी 1,200 करोड़ चुकाएगी। नए दिवालिया कानून (आईबीसी) के तहत सुलझने वाला यह अब तक का सबसे बड़ा केस है। भूषण स्टील ऑटो-ग्रेड स्टील बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी है। इसके क्लायंट में जनरल मोटर्स, ह्युंडई, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा और आयशर ट्रैक्टर शामिल हैं।

आरबीआई ने आईसीआईसीआई बैंक पर 59 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया

बांड बिक्री में नियमों के उल्लंघन के कारण आरबीआई ने आईसीआईसीआई बैंक पर 59 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज को कर्ज देने के मामले में आईसीआईसीआई बैंक ने स्पष्ट किया है कि इसमें हितों का कोई टकराव नहीं है। वीडियोकॉन को बैंकों के कंसोर्टियम ने 40,000 करोड़ का कर्ज दिया था। इसमें 3,250 करोड़ आईसीआईसीआई बैंक के हैं। इस बीच, हीरा कारोबारी नीरव मोदी के फर्जी एलओयू मामले में पंजाब नेशनल बैंक को दूसरे बैंकों को 6,500 करोड़ रुपए देने पड़ सकते हैं।

विलय की संभावनाएं तलाश रही हैं ओला और उबर, दोनों में सॉफ्टबैंक का निवेश

चर्चा है कि ओला-उबर भारत में विलय की संभावनाएं तलाश रही हैं। जापान के सॉफ्टबैंक का दोनों में निवेश है। कहा जा रहा है कि सॉफ्टबैंक विलय के पक्ष में है और ओला-उबर के शीर्ष अधिकारी चर्चा कर रहे हैं। उबर इससे पहले चीन, रूस और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों से निकल चुकी है। इन देशों में उसने अपनी सब्सिडियरी का बड़ा हिस्सा स्थानीय कंपनियों को बेच दिया था।

अमेरिका-चीन में ट्रेड वॉर से ग्लोबल इकोनॉमी में सुस्ती की आशंका

अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर अमेरिका ने चीन से आयात होने वाले स्टील और दूसरी अनेक वस्तुओं पर भारी-भरकम शुल्क लगा दिया है। इससे ट्रेड वॉर छिड़ने की आशंका है। चीन ने भी अमेरिकी वस्तुओं के आयात पर टैरिफ बढ़ा दिया है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर यह ट्रेड वॉर बढ़ी तो ग्लोबल इकोनॉमी में सुस्ती आ सकती है। भारत भी चीन के साथ व्यापार पर बातचीत कर रहा है।

जीएसटी में स्थिरता, संशोधित लक्ष्य से ज्यादा रह सकता है इसका कलेक्शन

फरवरी के जीएसटी कलेक्शन से पता चलता है कि नई टैक्स व्यवस्था स्थिर हो रही है। बजट के संशोधित अनुमान के मुताबिक 2017-18 में सेंट्रल जीएसटी मद में 4.4 लाख करोड़ रुपए आ सकते हैं। यह लक्ष्य न सिर्फ पूरा हो सकता है, बल्कि कलेक्शन इससे कुछ ज्यादा भी रह सकता है। सरकार अप्रैल-सितंबर 2017 के 3.7 लाख करोड़ की तुलना में 2018-19 की पहली छमाही में बांड से 22% कम, 2.88 लाख करोड़ रुपए जुटाएगी। इससे बांड बाजार पर दबाव कम होगा। पूरे वित्त वर्ष में 6.05 लाख करोड़ जुटाने का लक्ष्य है। इस हफ्ते रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति की समीक्षा करेगा। इसमें पॉलिसी दरें बढ़ने की उम्मीद नहीं है। ब्याज दरें वही रहीं तो यह नए वित्त वर्ष में निवेशकों के सेंटिमेंट पर सकारात्मक असर डालेगा।

बिजनेस राउंडअप

देवांग्शु दत्ता

कंट्रीब्यूटिंग एडिटर, बिजनेस स्टैंडर्ड

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rau

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×