• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Rau News
  • विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस को संजीवनी, भाजपा को विकास पर मंथन का वक्त मिला
--Advertisement--

विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस को संजीवनी, भाजपा को विकास पर मंथन का वक्त मिला

मुंगावली : 10.5% बढ़ी भाजपा, फिर भी हार गई भास्कर न्यूज | अशोकनगर मुंगावली उपचुनाव में भाजपा को 46.67 प्रतिशत वोट...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:10 AM IST
मुंगावली : 10.5% बढ़ी भाजपा, फिर भी हार गई

भास्कर न्यूज | अशोकनगर

मुंगावली उपचुनाव में भाजपा को 46.67 प्रतिशत वोट मिले तो वहीं कांग्रेस को 48.11 प्रतिशत वोट मिले। 2013 के विधानसभा चुनाव के मुकाबले भाजपा को इस चुनाव में 27.70 फीसदी और कांग्रेस को 36.23 प्रतिशत वोट मिले थे। यानी भाजपा का वोट बैंक 10.50 प्रतिशत बढ़ा फिर भी लिया, लेकिन डाॅ. केपी यादव को पार्टी में शामिल करने, ज्योतिरादित्य सिंधिया के सांसद प्रतिनिधि से बंद कमरे में बात करने और कई बड़ी-बड़ी घोषणाएं करने के बावजूद सीएम शिवराज और उनकी कैबिनेट के 19 मंत्री भी मुंगावली की सीट नहीं जिता पाए। मतगणना के हर राउंड के बाद टेबुलेशन करना पड़ रहा था। इसी वजह से फाइनल परिणाम आने में करीब 5 घंटे अधिक समय लग गया। मुंगावली में कांग्रेस-भाजपा व 11 अन्य प्रत्याशी होने के बावजूद तीसरे नंबर पर नोटा (2253) के वोट रहे।

सील खुली मिली तो 18वें राउंड में आधा घंटे रुकी काउंटिंग : 18वें राउंड की मतगणना में जब पोलिंग नंबर 248 के ईवीएम की सील खुली निकली तो कांग्रेस और एक निर्दलीय प्रत्याशी ने इस पर आपत्ति दर्ज कराई। इसलिए करीब आधा घंटे तक मतगणना रुकी रही। बाद में समझाइश के बाद फिर से मतगणना शुरू हो सकी।

मुंगावली

13 प्रत्याशी थे मैदान में

19 राउंड में से 9 चरणों में भाजपा जीती, कांग्रेस ने 10 चरण जीते, मतदान में 48.11 % वोट मिले

बाईसहाव यादव

जीत का प्रमाण-पत्र देते निर्वाचन अधिकारी

महेंद्र यादव

कोलारस : कांग्रेस 1% बढ़ी, फिर भी जीत गई

भास्कर टीम | शिवपुरी/कोलारस

कोलारस उपचुनाव में कांग्रेस ने सीट जीत ली है, लेकिन भाजपा के वोट पिछले साल के मुकाबले 13 प्रतिशत बढ़े हैं। वहीं चुनाव जीतने के बाद भी कांग्रेस के वोट केवल एक प्रतिशत ही बढ़े हैं। यहां मुख्यमंत्री ने 50 से ज्यादा और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने 500 से अिधक सभाएं की थीं लेकिन उसके बाद भी भाजपा सीट नहीं बचा पाई। आदिवासी परिवार की मुखिया महिला के खाते में 1000 रु. जमा करने की घोषणा के बावजूद ज्यादातर आदिवासी क्षेत्रों में भाजपा को हार मिली। टुडयावद गांव में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र यादव की ससुराल है। यहां वह 57 वोटों से चुनाव हार गए। जबकि भाजपा प्रत्याशी देवेंद्र जैन की ससुराल भी कोलारस है। वे कोलारस नगर से महेंद्र से 41 वोटों से हारे। कांग्रेस ने हर राउंड के बाद टेबुलेशन की मांग रखी थी।

सीएम व मंत्रियों की मेहनत भी काम न आई :


कोलारस

22 प्रत्याशी थे मैदान में

अपने पहले उपचुनाव में महेंद्र यादव जीते। जबकि देवेंद्र जैन लगातार दूसरी बार हारे

देवेंद्र जैन

जीत का प्रमाण-पत्र देते रिटर्निंग आॅफिसर