• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • ओलिंपिक और एशियन गेम्स के बाद कॉमनवेल्थ गेम्स दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्पोट्‌र्स इवेंट है
--Advertisement--

ओलिंपिक और एशियन गेम्स के बाद कॉमनवेल्थ गेम्स दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्पोट्‌र्स इवेंट है

6 देश ही सभी 20 कॉमनवेल्थ गेम्स में शामिल हुए हैं

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 05:10 AM IST
6 देश ही सभी 20 कॉमनवेल्थ गेम्स में शामिल हुए हैं



1.90 लाख किमी यात्रा करती है क्वींस बेटन रिले। यह दूरी धरती का 4.25 चक्कर लगाने के बराबर है।


3

53 देशों की 71 टीमें 12 दिन खेल के मैदान में

दिन शेष


गोल्ड कोस्ट| ऑस्ट्रेलिया के शहर गोल्ड कोस्ट में 4 अप्रैल से 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आगाज हो रहा है। इसमें भारत सहित कॉमनवेल्थ के 53 देशों की 71 टीमें हिस्सा ले रही हैं। भारत से भी 218 सदस्यीय दल हिस्सा ले रहा है। दुनियाभर में जितने भी मल्टी स्पोर्ट मल्टी नेशनल इवेंट होते हैं उसमें भारत का सबसे अच्छा प्रदर्शन कॉमनवेल्थ गेम्स में ही रहता है। कॉमनवेल्थ गेम्स में मानव आबादी वाले सभी महाद्वीपों के देश हिस्सा लेते हैं। ये धरती के 20 प्रतिशत भूभाग और 33 प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं। गोल्डकोस्ट गेम्स की आयोजन समिति के चेयरमैन पीटर बिएटी ने शनिवार को कहा कि क्रिकेटरों की गलत हरकत से दुनिया भर में ऑस्ट्रेलिया को अपमानित होना पड़ा है। गेम्स यह कड़वाहट दूर करने में सफल होगा। उन्होंने कहा कि यह अब तक का सबसे क्लीन गेम्स होगा।

कॉमनवेल्थ ग्लासगो-2014

53 देशों की 71 टीमें

एथलीट 4947

खेल 18

इवेंट 261

कॉमनवेल्थ गुलामी नहीं, साथ आगे बढ़ने का माध्यम


अमेरिका नहीं तो भारत क्यों है कॉमनवेल्थ में?



कॉमनवेल्थ में होने के दो बड़े फायदे

1. ब्रिटेन में 6 माह से ज्यादा रहने वाले भारतीयों को वहां वोट देने का अधिकार। ब्रिटिश नागरिक बनना जरूरी नहीं।

2. भारत का कोई नागरिक किसी ऐसे देश में है, जहां भारतीय दूतावास नहीं है, तो यूके के दूतावास से मदद ले सकता है।

एशियन गेम्स इंचियोन-2014

45 देश शामिल हुए

एथलीट 9501

खेल 36

इवेंट 439

क्या है कॉमनवेल्थ: कॉमनवेल्थ ब्रिटिश साम्राज्य का हिस्सा रहे देशों का इंटरगवर्न्मेंट ऑर्गेनाइजेशन है। 53 देश सदस्य हैं। 28 अप्रैल 1949 को लंदन डिक्लेरेशन के जरिए कॉमनवेल्थ का गठन किया गया। इसमें शामिल सभी देश फ्री एंड इक्वल माने गए। 53 देशों में सिर्फ मोजांबिक ब्रिटिश साम्राज्य का हिस्सा नहीं रहा है।