• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Sagar
  • 1.10 करोड़ में 262 टुकड़ों को जोड़कर 14 महीने में तैयार हुई 52 फीट ऊंची प्रतिमा
--Advertisement--

1.10 करोड़ में 262 टुकड़ों को जोड़कर 14 महीने में तैयार हुई 52 फीट ऊंची प्रतिमा

Sagar News - बुंदेलखंड के महान योद्धा बुंदेलखंड केसरी महाराजा छत्रसाल की 52 फीट ऊंची पीतल की प्रतिमा बनकर तैयार है। मऊसहनियां...

Dainik Bhaskar

Mar 02, 2018, 04:45 AM IST
1.10 करोड़ में 262 टुकड़ों को जोड़कर 14 महीने में तैयार हुई 52 फीट ऊंची प्रतिमा
बुंदेलखंड के महान योद्धा बुंदेलखंड केसरी महाराजा छत्रसाल की 52 फीट ऊंची पीतल की प्रतिमा बनकर तैयार है। मऊसहनियां स्टेडियम में स्थापित होने वाली प्रतिमा 14 माह में बनकर तैयार हुई है। बाहर से आए कलाकार प्रतिमा को रंग देने में जुटे हैं, जल्द प्रतिमा काे रंगने का काम पूरा हो जाएगा। इस विशालकाय प्रतिमा के निर्माण में अब तक 1 करोड़ 10 लाख की राशि खर्च हो चुकी है। प्रतिमा का अनावरण राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. .मोहन भागवत 21 मार्च को समारोह पूर्वक करेंगे। निर्माण कराने वाली महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान समिति ने दावा किया है कि यह प्रतिमा देश की सबसे विशाल प्रतिमा होगी।

इस प्रतिमा के निर्माण में करीब 10 टन पीतल का उपयोग किया गया है। प्रतिमा का निर्माण जयपुर से आए 6 कलाकारों और 6 मजदूरों के द्वारा किया गया है। मूर्ति के निर्माण में 14 महीने का समय लगा है। समिति के सहसचिव और मूर्ति निर्माण के प्रभारी जयदेव सिंह बुंदेला ने बताया कि मूर्ति के निर्माण से लेकर इसको स्थापित करने, म्यूजियम , पार्क निर्माण , लाईट एंड साउंड शो प्रारंभ करने सहित अन्य निर्माण कार्य में करीब 2 करोड़ की राशि खर्च होने का अनुमान है। अभी मूर्ति निर्माण और स्थापना स्थल के निर्माण में एक करोड़ 10 लाख रुपए खर्च हो गए हैं। प्रतिमा जहां स्थापित की जाना है उस प्लेटफार्म को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है। जल्द ही प्रतिमा वहां स्थापित हो जाएगी।

जयपुर के कलाकारों ने किया निर्माण

जयपुर के मूर्ति निर्माण कर्ता फिरोज खान कहते हैं कि 52 फिट ऊंची इस प्रतिमा निर्माण के लिए लखनऊ से 262 टुकड़ों में पीओपी की डाई का निर्माण कराया गया था। इन 262 टुकड़ों से कड़ी मेहनत के बाद 52 फीट ऊंची पीतल की प्रतिमा बनकर तैयार हुई है। कलाकार फिरोज खान ने बताया कि उनके साथ कलाकार निर्मल कुमार, राजेश, शंकर, जुनैद, हाशिम शामिल हैं, इस कार्य में 6 मजदूर भी उनके साथ लगे हुए हैं।

प्रतिमा की ऊंचाई - 52 फीट

लागत - 1.10 करोड़

पीतल - 10 टन

कारीगर - 6

समय - 14 माह

52 अजेय युद्ध लड़े, इसलिए

प्रतिमा भी 52 फीट की

समिति के सहसचिव एवं मूर्ति निर्माण प्रभारी जयदेव सिंह बुंदेला ने बताया कि महाराज छत्रसाल ने 5 घुड़सवारों और 25 सैनिकों की दम पर कई अविश्वसनीय लड़ाइयां लड़ीं, 13 साल की उम्र से 83 साल की उम्र तक कुल 52 लड़ाइयां लड़ने वाले महाराज छत्रसाल देश के सच्चे नायक हैं। महाराजा छत्रसाल ने 52 युद्ध लड़े और सभी युद्ध जीते। इस कारण समिति 52 फीट की प्रतिमा का निर्माण करा रही है।

X
1.10 करोड़ में 262 टुकड़ों को जोड़कर 14 महीने में तैयार हुई 52 फीट ऊंची प्रतिमा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..