• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • अहम सुराग : दीपाली हत्याकांड की जांच में पुलिस के हाथ लगी मोबाइल रिकाॅर्डिंग
--Advertisement--

अहम सुराग : दीपाली हत्याकांड की जांच में पुलिस के हाथ लगी मोबाइल रिकाॅर्डिंग

भास्कर संवाददाता | टीकमगढ़/ निवाड़ी दीपाली हत्याकांड में 12 दिन की जांच के बाद बुधवार को पुलिस को एक अहम सुराग...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:05 AM IST
भास्कर संवाददाता | टीकमगढ़/ निवाड़ी

दीपाली हत्याकांड में 12 दिन की जांच के बाद बुधवार को पुलिस को एक अहम सुराग मोबाइल रिकार्डिंग प्राप्त हुई। जिसने पुलिस को जांच की दिशा बदलने पर मजबूर कर दिया है। अब पुलिस दीपाली हत्याकांड की जांच मोबाइल रिकार्डिंग तथा पूर्व से चली आ रही जांच यानी कि दोनों दिशाओं की ओर करेगी।

पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक ने बताया कि अभी तक पुलिस दीपाली की हत्या किए जाने को लेकर जांच कर रही थी, किन्तु पुलिस को एक मोबाइल रिकार्डिंग हाथ लगी गई। दीपाली 15 फरवरी को गुम हो गई थी, जिसका शव 17 फरवरी को बेतवा नदी के किनारे पड़ा मिला था। यूपी पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर एमपी पुलिस को सौंपा था। केश डायरी निवाड़ी पुलिस को सौंपी थी। दीपाली के पास एक बेग व मोबाइल के साथ साथ और भी रोज मर्रा का सामान बेग में था, जो पुलिस को अभी तक पुलिस को नहीं मिल सका है।

यह बेग सड़क पर चलते किसी यात्री को मिला जो उठा कर अपने साथ ले गया था। किन्तु जब उसने दीपाली का मोबाइल आन किया तो चचेरे भाई की काल उस पर आई। जिससे लम्बी बातचीत हुई। जिसमें यात्री ने अपना नाम अभिषेक पुरोहित निवासी ग्वालियर बताया और उसने यह भी बताया कि उसे यह बेग बेतबा नदी के पुल पर पड़ा मिला था। उसने बेग में एक मोबाइल के साथ अन्य सामान मिलने का जिक्र किया और फिर चचेरे भाई की प|ी ने भी उक्त व्यक्ति से काफी लम्बी बात की। बात के दौरान उन्होंने मोबाइल देने तथा पुलिस के समक्ष पेश होकर जानकारी देने की गुहार लगाई, किन्तु उसने फोन बंद कर लिया। इसके बाद से ही फोन बंद है। फोन बंद होने से पुलिस को भी जांच में काफी परेशानी आ रही है। पुलिस को यह जानकारी दीपाली के परिजनों से पूछताछ के दौरान हुई। पुलिस ने मोबाइल पर हुई लम्बी बात की रिकार्डिंग को अहम सबूत मानते हुए उसे सुरक्षित रख लिया तथा रिकार्डिंग के आधार पर अपनी जांच दो दिशाओं में करना आरंभ कर दिया। अब नए साक्ष्य मिलने से हत्या के साथ साथ आत्महत्या किए जाने पर आज से जांच आरंभ कर दी है। ऐसा भी बताया गया है कि बेग में दीपाली के द्वारा लिखा गया एक सोसाइड नोट भी रखा है। किन्तु जब तक पुलिस को बेग व मोबाइल नहीं मिल जाता, तब तक आत्महत्या किए जाने के साक्ष्य नहीं मिल सकेंगे।

लीगल एक्सपर्ट टीम से जांच में मदद लेगी

उन्होंने बताया कि पुलिस को अब जांच के लिए एक नई दिशा मिली है जिससे वह मेडीको लीगल एक्सपर्ट टीम से जांच में मदद लेगी, जिससे यह पता चल सकेगा कि क्या दीपाली ने आत्महत्या की है या फिर उसकी हत्या की गई है। मोबाइल रिकार्डिंग मिलने से अब जांच हत्या तथा आत्महत्या दो दिशाओं की ओर चल रही है । यदि आत्महत्या का मामला निकलता है तो फिर पुलिस को यह भी जांच करना होगी कि दीपाली को आत्महत्या के लिए किसने प्रेरित किया है। एसपी ने बताया कि पोस्ट मार्टम रिपोर्ट की विस्तृत जानकारी बिन्दुबार दिये जाने के लिए लिखा है।