• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • एक्सीलेंस गर्ल्स कॉलेज को बनाएंगे महिला विश्वविद्यालय: गृहमंत्री
--Advertisement--

एक्सीलेंस गर्ल्स कॉलेज को बनाएंगे महिला विश्वविद्यालय: गृहमंत्री

गर्ल्स कॉलेज को जल्द ही आरटीओ कार्यालय की पुरानी जमीन आवंटित की जाएगी, साथ ही इसे महिला विवि का दर्जा दिलाने की...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 05:15 AM IST
गर्ल्स कॉलेज को जल्द ही आरटीओ कार्यालय की पुरानी जमीन आवंटित की जाएगी, साथ ही इसे महिला विवि का दर्जा दिलाने की कोशिश भी करूंगा। यह बात गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने गर्ल्स एक्सीलेंस कॉलेज में आयोजित स्मार्ट फोन वितरण कार्यक्रम के दौरान कही।

उन्होंने सागर विवि में स्थानीय छात्र-छात्राओं को 50 फीसदी आरक्षण दिलाने का मुद्दा उठाया और इसके मांग के लिए हर संभव प्रयास करने की बात कही। उन्होंने छात्राओं को स्मार्ट फोन देते हुए कहा कि प्रदेश में साइबर क्राइम को रोकने हेतु लगातार कानून बनाए जा रहे हैं। इसलिए इनका सावधानी से इस्तेमाल करें। गृहमंत्री ने कॉलेज में करियर काउंसिलिंग कराने की बात पर भी जोर दिया। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विधायक शैलेंद्र जैन ने कन्या महाविद्यालय को सर्वश्रेष्ठ महाविद्यालय बताते हुए इसे विवि बनाने के लिए विधानसभा में पुरजोर मांग रखने की बात कही। विशिष्ट अतिथि जनभागीदारी अध्यक्ष ममता लोधी ने कहा कि छात्राओं को दिए जा रहे स्मार्ट फोन शासन की एक नवीन योजना और शिक्षा में इससे होने वाले लाभ बताए। कार्यक्रम के दौरान अंत्योदय समिति के जिला उपाध्यक्ष डॉ सुखदेव मिश्रा भी उपस्थित थे।

कार्यक्रम में स्वागत भाषण प्राचार्य डॉ एके पटैरिया ने दिया और मंच संचालन डॉ भावना यादव ने किया। आभार डाॅ आनंद तिवारी ने माना। कार्यक्रम में स्मार्ट फोन वितरण प्रभारी डाॅ नवीन गिडियन, डाॅ आलोक सहाय, डाॅ सुनील श्रीवास्तव, डाॅ सुनीता त्रिपाठी, डाॅ अनिल शर्मा, डाॅ एसके गुप्ता, लक्ष्मण सिंह ठाकुर, छात्रसंघ अध्यक्ष नेहा जैन, सुनील आठिया सहित समस्त महाविद्यालय स्टाफ और छात्राएं उपस्थित थीं। पहले दिन करीब 500 स्मार्ट फोन का वितरण किया गया।

सागर. कार्यक्रम के बाद गृहमंत्री के साथ सेल्फी लेती एक्सीलेंस कॉलेज की छात्राएं।

अतिथि विद्वान महासंघ ने

गृहमंत्री को सौंपा ज्ञापन

महाविद्यालयीन अतिथि विद्वान महासंघ की गर्ल्स कॉलेज सागर इकाई द्वारा अपनी मांगों को लेकर गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह को ज्ञापन दिया गया। संघ के सचिव डॉ शीतांषु राजौरिया ने बताया कि कन्या महाविद्यालय में वर्ष 1996, 2008 और 2013 से कम्प्यूटर अनुप्रयोग, बीबीए और फूड एंड न्यूट्रीशियन (होम साइंस) विषय का संचालन महाविद्यालय स्तर पर स्ववित्तीय मद से हो रहा है। इनकी नियुक्ति यूजीसी द्वारा निर्धारित योग्यता अनुसार की जाती है। लेकिन लोकसेवा आयोग द्वारा अन्य विषयों की भांति सहायक प्राध्यापकों की नियमित भर्ती नहीं की जा रही है। सरकार यह नियमित भर्ती कराकर हमें न्याय दिलाए। ज्ञापन देने वालों में पुलकिता सिंह गौर, डॉ. प्रदीप श्रीवास्तव, रोहित सैनी, डॉ श्वेता ओझा, डॉ शैलेन्द्र पटैल आदि अतिथि विद्वान उपस्थित थे।