--Advertisement--

ई- वे बिल:देवरी में माल नहीं भेज सके व्यापारी

सागर एक स्थान से दूसरे स्थान तक माल लाने ले जाने के लिए जीएसटी काउंसिल द्वारा 01 अप्रैल से ई-वे बिल शुरू हो गया।...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 05:45 AM IST
सागर एक स्थान से दूसरे स्थान तक माल लाने ले जाने के लिए जीएसटी काउंसिल द्वारा 01 अप्रैल से ई-वे बिल शुरू हो गया। रविवार का दिन होने और दिल्ली समेत बड़े मार्केट बंद रहने के कारण व्यवसायियों ने पहले दिन इसका ज्यादा उपयोग नहीं किया। लेकिन देवरी में तीन-चार व्यवसायियों ने कुछ माल मंगवाने के लिए यह बिल निकलवाना चाहे तो वह जनरेट नहीं नहीं हुए। यहां बता दें कि फिलहाल काउंसिल ने 50,000 रुपये से अधिक के सामान को एक से दूसरे राज्य में ले जाने पर ई-वे बिल लागू किया है। 15 दिन बाद राज्यों के भीतर होने वाली ढुलाई पर भी यह नियम लागू हो जाएगा।

टैक्स एडवोकेट संतोष दुबे के अनुसार सोमवार से बाजार खुलते ही व्यवसायियों को ई वे बिल कटवाना होगा। दुबे के अनुसार जिले में एसजीएसटी और सीजीएसटी के तहत करीब 7 हजार कारोबारियों के पंजीयन हैं। मुमकिन है कि सोमवार को वर्कलोड बढ़ने के कारण जीएसटी काउंसिल का सेंट्रलाइज सर्वर ठप पड़ जाए।

अब मैदान में दिखेगा सेंट्रल एक्साइज और कामर्शियल टैक्स का स्टाफ : ई-वे बिल सुविधा शुरु होने के बाद अब रोड पर ट्रकों की चेकिंग होगी। इसके लिए सेंट्रल एक्साइज और कॉमर्शियल टैक्स को क्रमश: सीजीएसटी और एसजीएसटी के लिए जवाबदेह बनाया गया है। स्थाई जांच चौकियां नहीं होने के कारण ये दोनों ही विभाग संबंधित राजस्व जिले में चेकिंग कर सकेंगे।