Hindi News »Madhya Pradesh »Sagar» महिला विवि की राह आसान, गर्ल्स डिग्री कॉलेज को केवि-3 के पास 10 एकड़ जगह और मिली

महिला विवि की राह आसान, गर्ल्स डिग्री कॉलेज को केवि-3 के पास 10 एकड़ जगह और मिली

महिला विश्वविद्यालय के लिए दावा कर रहे गर्ल्स कॉलेज को केन्द्रीय विद्यालय के पास 10 एकड़ जगह और आवंटित हो गई है। इस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 06:30 AM IST

महिला विश्वविद्यालय के लिए दावा कर रहे गर्ल्स कॉलेज को केन्द्रीय विद्यालय के पास 10 एकड़ जगह और आवंटित हो गई है। इस संबंध में कलेक्टर आलोक कुमार सिंह द्वारा एक पत्र भी कॉलेज के प्राचार्य के नाम से भेज दिया गया है।

इसके साथ ही कॉलेज के पास अब 20 एकड़ जगह हाे गई है। कुल मिलाकर निष्कर्ष यह कि सागर में मप्र के पहले महिला विश्वविद्यालय की राहत आसान होती जा रही है। इसी सिलसिले में कलेक्टर गुरुवार को कॉलेज पहुंचे और परिसर का निरीक्षण किया। छात्राओं की बैठक व्यवस्था की समस्या का जिक्र करते हुए कलेक्टर ने प्राचार्य डॉ. अखिलेश पटैरिया को निर्देश दिए कि आरटीओ ऑफिस की पुरानी बिल्डिंग में कॉलेज के किसी संकाय को शिफ्ट करने की प्रक्रिया जल्दी पूरी करें। इसके लिए उन्होंने एक प्रपोजल भी देने काे कहा है, ताकि यहां पर जरूरी निर्माण कार्य कराया जा सके। कलेक्टर ने कहा कि यह काम 4 से 5 माह के भीतर हो जाना चाहिए। संभव है कि कॉमर्स संकाय यहां शिफ्ट की जाए।

कलेक्टर से निर्देश मिलते ही प्राचार्य डॉ. पटैरिया ने तुरंत ही सोसायटी से नक्शा और इस्टीमेट सहित पूरी जानकारी मांगी है। 3 फरवरी को पूरा प्रपोजल कलेक्टर के समक्ष देने की उम्मीद है।

उधर 10 एकड़ जमीन मिलने के बाद अब कॉलेज प्रबंधन एक बार फिर रूसा के पास अपना पक्ष रखेगा। 20 एकड़ जमीन और 5 करोड़ से अधिक रुपए की राशि फिक्स होने के कारण गर्ल्स कॉलेज का दावा अब महिला विश्वविद्यालय के लिए और भी मजबूत हो गया है। इससे पहले जिले के प्रभारी मंत्री उमाशंकर गुप्ता पहले ही यह घोषणा कर चुके हैं कि महिला विश्वविद्यालय पर पहला हक सागर का ही है। मुख्यमंत्री से भी जब छात्राओं ने मांग की थी तो उन्होंने इस मामले में सहमति दी थी।

महिला विश्वविद्यालय के लिए फिर रूसा के पास जाएगा कॉलेज प्रबंधन

सागर. गर्ल्स कॉलेज पहुंचे कलेक्टर ने देखी छात्राओं की समस्याएं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×