सागर

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • सीवर पर बदले सुर: ठेकेदार अब सबको "अच्छे' लगने लगे
--Advertisement--

सीवर पर बदले सुर: ठेकेदार अब सबको "अच्छे' लगने लगे

नगर निगम परिषद की बुधवार को हुई बैठक में सीवर प्रोजेक्ट पर सबसे आखिर में चर्चा हुई। पक्ष-विपक्ष के सुर इस बार...

Danik Bhaskar

Mar 01, 2018, 07:30 AM IST
नगर निगम परिषद की बुधवार को हुई बैठक में सीवर प्रोजेक्ट पर सबसे आखिर में चर्चा हुई। पक्ष-विपक्ष के सुर इस बार बिल्कुल बदलेे नजर आए। जिस परिषद में कभी सीवर ठेकेदार व इंजीनियरों को उल्टा टांगने की नसीहत दी जाती थी, वहां उनके काम की तारीफ के पुल बांधे जाने लगे। यानी अब सबको वे अचानक "अच्छे' लगने लगे हैं।

महापौर अभय दरे को ठेकेदार में कहीं कोई कमी नहीं दिखी। जो भी कुछ गलत हुआ, उसके लिए उन्होंने पीडीएमसी (प्रोजेक्ट की मॉनीटरिंग करने वाली थर्ड पार्टी एजिस ) को दोषी ठहराते हुए भुगतान रोकने की अनुशंसा कर दी। बेडिंग में ठेकेदार की गलती तब मानी जाएगी जब उसका भुगतान कर दिया गया हो। सीवर पर शुरुआत से ही आंखें तरेरने वाले निगमाध्यक्ष राजबहादुर सिंह ने काफी देर से खड़े रहकर जवाब दे रहे ठेकेदार से कहा कि शाह साहब अब आप बैठ जाइए। नेता प्रतिपक्ष अजय परमार ने कहा कि बड़ी मेहनत से यह योजना सेंशन हुई है। हम भी नहीं चाहते कि काम में कहीं कोई बाधा आए। निगम कमिश्नर अनुराग वर्मा ने सवालों के जवाब दिए।

ये खास मुद्दे जिन पर हुई चर्चा और निर्णय

लीकेज सुधारने और पानी बचाने के लिए निगम अभियान चलाएगा।

संपत्तिकर पर जो भी आपत्तियां आएंगी, उनका तत्काल निराकरण होगा।

31 मार्च तक जलकर जमा करने पर एक वर्ष के सरचार्ज में छूट मिलेगी।

 राजीव नगर काॅलोनी की डीपीआर तैयार करने के लिए एकल निविदा आभा सिस्टम एंड कंसल्टेंसी सागर को स्वीकृति। Âनिगम में 5 इंजीनियर एवं 1 केमिस्ट की संविदा पर नियुक्ति।

पार्षदों से बचे सीवर ठेकेदार तो पैनाल्टी पर फंसे, छूटा पसीना

भाजपा पार्षद शारदा काेरी, एमआईसी सदस्य नीरज जैन गोलू, कांग्रेस पार्षद विनोद सोनी ने वार्डों में चल रहे रेस्टोरेशन के काम को बेहतर बताते हुए कहा कि हम ठेकेदार से संतुष्ट हैं। इसी बीच भाजपा पार्षद नरेश यादव ने भास्कर द्वारा उठाए गए पैनाल्टी के मामले में ठेकेदार को उलझा दिया। निगम के इंजीनियर और ठेकेदार की बोलती बंद हो गई। ठेकेदार ने कहा कि ईएनसी कह गए थे कि काम सुधार लो तो पैनाल्टी माफ कर देंगे। जब उनसे पूछा गया कि वह पत्र कहां गया जिसमें पैनाल्टी की अनुशंसा की गई थी। लगभग सभी निरुत्तर रहे।

पार्षद का मजाकिया सवाल-कहीं चूहे तो नहीं खा जाएंगे ये पाइप

पार्षद पुरुषोत्तम विश्वकर्मा ने ठेकेदार से पूछा जो प्लास्टिक की पाइप लाइन बिछाई जा रही है उसे कहीं चूहे तो नहीं खा जाएंगे। ठेकेदार ने बताया कि ये एचडीपी पाइप लेटेस्ट टेक्नालॉजी के हैं। ठेकेदार ने बताया कि कुछ काम हम पेटी कांट्रेक्ट पर करा सकते हैं। ऐसा एग्रीमेंट में भी है। जो ठेकेदार भाग गया है वह एक बहुत छोटी कड़ी है। हमें 10 साल तक मेंटेनेंस भी करना है।

पसीना पोंछता ठेकेदार मनीष शाह।

भास्कर के उठाए राजीव आवास, सीवर और संपत्तिकर के मुद्दों पर परिषद में बहस, नेता प्रतिपक्ष ने लहराया अखबार

निगम परिषद की बैठक में भास्कर द्वारा उठाए गए मुद्दों पर चर्चा हुई। बुधवार के अंक में प्रकाशित खबर बगैर पजेशन कर दिया राजीव आवासों का अावंटन और होर्डिंग्स व अतिक्रमण से ढंकी म्यूनिसिपल स्कूल की ऐतिहासिक बिल्डिंग की तरफ नेता प्रतिपक्ष परमार ने भास्कर की प्रति बताते हुए परिषद का ध्यान खींचा। सीवर ठेकेदार से पैनाल्टी वसूलना भूल गया निगम और संपत्तिकर के गलत बिल बांटने संबंधी मामले को भास्कर ने प्रमुखता से उठाया था। एमआईसी सदस्य जिनेश साहू व याकृति जड़िया ने इसे ई नपा की गलती बताते हुए इनमें सुधार के बात बांटे जाने की बात कही। नेता प्रतिपक्ष इसके विरोध में थे। जिससे पक्ष-विपक्ष में तीखी नोकझोंक हुई। वहीं पाइप लाइन बिछाए जाने का टेंडर लगने के बावजूद काम न होने पर निगमाध्यक्ष ने निगम कमिश्नर अनुराग वर्मा से जवाब मांगा। बैठक में पार्षद राजेश केशरवानी, किरण मिश्रा, महेश जाटव, कंसल्टेट अनुराग सोनी, उपायुक्त आरपी मिश्रा, मनीष शाह, विजय कटकंवार आदि मौजूद थे।

भास्कर ने ऐसे उठाए मुद्दे

Âस्वच्छता पर पान की पीक : बैठक के दौरान एक एमआईसी सदस्य पान की पीक से स्वच्छता अभियान का माखौल उड़ाते रहे।

Â2.50 लाख लौटाना नहीं है: पार्षद सीताराम पचकोंड़ी के सवाल पर बताया कि पीएम आवास के 2.50 लाख रुपए अनुदान है लोन नहीं यह राशि लौटाना नहीं होगी।

Click to listen..