• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • सर्वेयर ने देखा सुलभ कॉम्पलेक्स पर सुरेश रैना का फोटो है या नहीं
--Advertisement--

सर्वेयर ने देखा सुलभ कॉम्पलेक्स पर सुरेश रैना का फोटो है या नहीं

कैंट एरिया में स्वच्छता सर्वे-2018 के तहत मैदानी इनपुट लिया गया। दिल्ली की एक कंपनी के सर्वेयर ने कैंट के सिविल एरिया...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:30 AM IST
कैंट एरिया में स्वच्छता सर्वे-2018 के तहत मैदानी इनपुट लिया गया। दिल्ली की एक कंपनी के सर्वेयर ने कैंट के सिविल एरिया में विभिन्न स्थानों का सर्वे किया। इस दौरान चर्चा में उन्होंने बताया कि दिल्ली से मुझे मोबाइल पर जीपीएस लोकेशन दी जा रही है। इसमें 11 मुहाल में बने सुलभ कॉम्पलेक्स में क्रिकेटर सुरेश रैना का फोटोग्राफ वाला होर्डिंग्स का फोटो मांगा गया। बता दें कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत क्रिकेटर रैना को ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया है।

जागरुकता में ब्रांड एम्बेसडर की बड़ी भूमिका : सर्वेयर ने बताया कि स्वच्छता के प्रति जागरुक करने के लिए देश की नामचीन हस्तियों को ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया है। इनमें फिल्म स्टार, क्रिकेटर, समाजसेवी आदि शामिल हैं। इसी तारतम्य में निकायों को इन एम्बेसडर को अपने अभियान में शामिल करने के निर्देश दिए गए थे। इसलिए जहां भी लोकेशन दी गई, मेरे द्वारा इस तरह के फोटोग्राफ किए गए। इससे पहले टीम के सदस्य ने सदर बाजार की कुछेक स्कूलों का भी सर्वे किया। वहां उन्होंने स्कूल में सफाई कमेटी के गठन संबंधी रजिस्टर देखा। साथ ही पिछले दिनों की गतिविधियों का लेखा-जोखा लिया। सर्वेयर कछियाना स्थित एक प्राइवेट नर्सिंग होम में भी गए। वहां उन्होंने नर्सिंग होम के वार्ड, गैलरी और रिसेप्शन काउंटर पर स्वच्छता व्यवस्था के फोटो लिए। इस दौरान उन्होंने डाॅ. संजीव मुखारया से भी स्वच्छता कमेटी के बारे में ब्योरा लिया।

केन्ट में आई स्वच्छता सर्वेक्षण की टीम।

कैंट के अमले को भी

नहीं दी जानकारी

स्वच्छता सर्वे के सदस्य कहां-कहां पहुंचेंगे। इस बारे में कैंट के स्टाफ को भी कोई जानकारी नहीं दी गई। सर्वेयर को लोकेशन ढूंढने में मदद के लिए जरूर स्वच्छता शाखा के स्टाफ को साथ कर दिया गया। हालांकि कुछेक जगहों पर यह स्टाफ भी सर्वेयर से पीछे रह गया। नतीजतन बाद में उन्हें सर्वेयर को ढूंढने में परेशानी हुई। इस बारे में सर्वेयर का कहना था कि कंपनी के अफसरों का कहना है कि सर्वे पूर्णत: पारदर्शी रहे, इसलिए निकायों को इसके बारे में नहीं बताया जा रहा है। लोकेशन पर नॉर्म्स के मुताबिक सफाई या अन्य व्यवस्थाएं मिली या नहीं इस बारे में पूछने पर सर्वेयर ने कोई जवाब नहीं दिया। उनका कहना था कि यह जानकारी गोपनीय रखी जाती है।