विज्ञापन

खेत में बालक काे लगा करंट, परिजन ले गए अस्पताल; नहीं मिले डॉक्टर थम गई सांसें / खेत में बालक काे लगा करंट, परिजन ले गए अस्पताल; नहीं मिले डॉक्टर थम गई सांसें

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:15 AM IST

Sagar News - मंडीबामोरा चौकी अंतर्गत ग्राम शेखपुर में एक 12 वर्षीय बालक को शनिवार की सुबह करीब 8 बजे खेत की मोटर चालू करते समय...

Bina News - at the farm a young boy kannu took the family do not get doctor stopped breathing
  • comment
मंडीबामोरा चौकी अंतर्गत ग्राम शेखपुर में एक 12 वर्षीय बालक को शनिवार की सुबह करीब 8 बजे खेत की मोटर चालू करते समय करंट लगने से मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने मंडीबामोरा शासकीय अस्पताल के डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि यदि अस्पताल में सही समय पर डॉक्टर मिल जाते और उसका इलाज हो जाता तो शायद बालक की मौत नहीं होती।

मृतक के चाचा मेहरवान सिंह अहिरवार ने बताया कि भतीजा संदीप पिता बालकिशन अहिरवार उम्र 12 निवासी शेखपुर अपने खेत पर सुबह 8 बजे पानी की मोटर चालू करने गया था। तभी उसको करंट लग गया।जिसे बड़े भाई के लड़के हरिराम ने घायल अवस्था में देखा और अन्य परिजनों एवं गांव के लोगों के साथ निजी वाहन से सुबह करीब 9 बजे मंडीबामोरा शासकीय अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां कोई भी डॉक्टर,ड्यूटी पर नहीं मिला।अस्पताल में केवल ललित नाम का कम्पाउंडर ही मिला।उससे डॉक्टर के बारे में पूछा तो कोई उचित जबाव नहीं दिया। करीब आधा घंटे तक जब डॉक्टर अस्पताल में नहीं आए तो उसे कुरवाई के शासकीय अस्पताल ले गए।जहां ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर ने संदीप को मृत घोषित कर दिया। थाना कुरवाई ने मर्ग कायम कर शासकीय अस्पताल में मृतक का पीएम कराया गया।

शासकीय अस्पताल मंडीबामोरा के प्रभारी डॉक्टर राजेश पस्ताेर ने बताया कि सुबह के वक्त ड्यूटी पर डॉक्टर आरएस ठाकुर थे। उनकी तबियत खराब है। लेकिन जैसे ही उनको मोबाइल पर सूचना मिली वह तत्काल अस्पताल पहुंचे लेकिन तब तक वह जा चुके थे। हालांकि बालक की करंट लगने के बाद उसकी गांव में ही मौत हो चुकी थी।परिजन अस्पताल में उसे मृत अवस्था में लेकर आए थे।

बीना। करंट लगने से 12 साल के बेटे की हुई मौत। बिलखती मां। इनसेट में संदीप।

अस्पताल में चल रही थी सांस

चाचा मेहरवान सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब संदीप को शासकीय अस्पताल मंडीबामोरा लाए थे उस समय उसकी सांसें चल रही थी।लेकिन उसे करीब आधा घंटे तक इलाज नहीं मिला और कुरवाई ले जाने में भी समय लग गया।जिस कारण समय पर इलाज नहीं ं मिलने के अभाव में संदीप की मौत हो गई।उनका कहना है कि यदि समय पर संदीप को इलाज मिल जाता तो शायद उसकी मौत नही होती।

X
Bina News - at the farm a young boy kannu took the family do not get doctor stopped breathing
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन