• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • Sagar - कांग्रेसियों ने कहा महापौर-विधायक विकास के नहीं बिजनेस के पार्टनर हैं
--Advertisement--

कांग्रेसियों ने कहा महापौर-विधायक विकास के नहीं बिजनेस के पार्टनर हैं

तीन मढ़िया पर कांग्रेसियों ने मंगलवार को नगर निगम की गड़बड़ियां उजागर करने के लिए धरना दिया। उन्होंने महापौर और...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:06 AM IST
तीन मढ़िया पर कांग्रेसियों ने मंगलवार को नगर निगम की गड़बड़ियां उजागर करने के लिए धरना दिया। उन्होंने महापौर और विधायक पर तीखे आरोप लगाए। कहा कि उस महापौर से विकास की क्या उम्मीद कर सकते हैं जो खुद 5 करोड़ रुपए का टिकट खरीदकर लाया हो। इसी तरह शहर की जनता को स्थानीय विधायक से भी कोई उम्मीद नहीं रखना चाहिए क्योंकि उन्होंने अपनी जमीन को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के रूप चिन्हित होने पर तीन साल तक प्रोजेक्ट नहीं लगने दिया।

कांग्रेसी सीएम की शिवराज से तुलना

जिलाध्यक्ष हीरासिंह राजपूत ने कांग्रेसी मुख्यमंत्री अर्जुनसिंह-दिग्विजयसिंह की कार्यप्रणाली की तुलना मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से की। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री घोषणावीर नहीं रहे। शहर अध्यक्ष रेखा चौधरी ने कहा कि भाजपाई, जनता की नाराजगी से डरे हुए हैं। इसका उदाहरण सोमवार को बंद के दौरान कांग्रेसियों पर जबरदस्ती बनाए गए मुकदमे हैं।

पूर्व मेयरों के चरित्र पर आरोप

कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष मुन्ना चौबे ने भाजपा की पूर्व महापौर मनोरमा गौर और प्रदीप लारिया पर निगम में भ्रष्टाचार कर अकूत संपत्ति अर्जित करने के आरोप लगाए। पूर्व अध्यक्ष जगदीश यादव ने कहा कि 200 साल पुराना रिकॉर्ड छिपाया जा रहा है। इस पर ढंग से काम हो जाए तो शहर की बेशकीमती जमीनें कहां और कैसे दबा ली गईं, इसका खुलासा हो जाएगा।

आवास घोटाले पर भी बोले

कमलेश बघेल ने कहा कि बीएलसी घपले में नगर निगम के स्टाफ और कंसल्टेंट की अहम भूमिका रही है। लेकिन इन्हें मामूली सजा दी गई। नेता प्रतिपक्ष अजय परमार ने कहा कि निगम प्रशासन आवास घोटाले में लिप्त भाजपाई पार्षदों की सदस्यता समाप्त करने की राजस्व कमिश्नर को अनुशंसा करे। कांग्रेसियों ने राज्यपाल के नाम सिटी मजिस्ट्रेट राजेंद्र सिंह को 16 सूत्रीय मांगपत्र सौंपा।