• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • Sagar - पानी को कपड़े से छानकर पीने से मन में करुणा के भाव आते हंै: विनिश्चय सागर
--Advertisement--

पानी को कपड़े से छानकर पीने से मन में करुणा के भाव आते हंै: विनिश्चय सागर

सागर | आचार्य विनिश्चय सागर महाराज ने मोराजी में धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा अपनी नजर से धरती को अच्छी तरह देख...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:05 AM IST
सागर | आचार्य विनिश्चय सागर महाराज ने मोराजी में धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा अपनी नजर से धरती को अच्छी तरह देख कर ही पैर रखें तथा पानी को वस्त्र से छानकर पी लें।

जल छानकर पीने में करुणामई भावना छिपी हुई है जो व्यक्ति पानी पीने तक में दूसरे जीवों की रक्षा की भावना रखता है उसके विचार कितने शुद्ध होंगे इसका अनुमान आप खुद लगा सकते हैं। बिना छना पानी पीने से हिंसा की संभावना तो रहती है। मनुष्य को अनेक प्रकार के रोगों का भी शिकार होना पड़ता है। आचार्य श्री ने कहा आपने कभी विचार किया सर्दी का मौसम आने वाला है आप अपनी अलमारियों से गर्म कपड़ों को निकालकर सुखाते हैं कहां सुखाते हैं सूर्य के प्रकाश में या कृत्रिम प्रकाश में कृत्रिम प्रकाश में भी सूख तो सकता है पर गंध नहीं छोड़ सकता। यह सूर्य प्रकाश की प्राजक्ता का प्रमाण है। रात्रि भोजन स्वास्थ्य की दृष्टि से भी हानिकारक है चिकित्सा शास्त्रियों का अभिमत है कि सोने के कम से कम 3 घंटे पूर्व तक भोजन कर लेना चाहिए।