--Advertisement--

ग्राम लखनी में पानी की किल्लत

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 05:10 AM IST

Sagar News - जबेरा जनपद के दर्जनों गांव में मई माह की शुरूआत के साथ ही भीषण जलसंकट की स्थिति बनी हुई है। वहीं दूसरी ओर सिमरी जालम...

ग्राम लखनी में पानी की किल्लत
जबेरा जनपद के दर्जनों गांव में मई माह की शुरूआत के साथ ही भीषण जलसंकट की स्थिति बनी हुई है। वहीं दूसरी ओर सिमरी जालम ग्राम पंचायत का लखनी गांव में बारह माह पेयजल संकट की स्थिति बनी रहती है।

बारह सौ आबादी वाले इस गांव में पीने के पानी का एक भी जलस्रोत नहीं हैं। जिससे लोगों को गांव से दो किमी दूरी में खेतों में बने कुओं से पानी लाना पड़ रहा है। लेकिन भीषण गर्मी के कारण अब इन कुओं में भी नाम मात्र का पानी बचा है। ग्राम के सरपंच खिलान सिंह ने बताया कि हमारे गांव में पेयजल संकट तो हमें विरासत में मिला है। लेकिन गांव में एक भी जलस्रोत नहीं है जिसमें बारह माह पानी रह सके। गांव में तीन हैंडपंप लगे थे, लेकिन उनमें पानी नहीं हैं। ऐसी स्थिति में गांव से दो किमी दूर सरकारी कुएं से पानी लेने जाना पड़ रहा है। तीन साल पहले बुंदेलखंड पैकेज के तहत 12 लाख की नलजल योजना स्वीकृत हुई थी, लेकिन पूरी राशि खर्च होने के बाद भी ग्रामीणों को एक बूंद पानी नहीं मिला। हैरानी की बात तो यह है कि लखनी गांव शून्य नदी के तट पर बसा है। इसके बावजूद ग्रामीणों को पेयजल संकट बना रहता है। जबकि नदी में साल भर पानी रहता है। वहीं दूसरी ओर ग्राम पंचायत द्वारा पेयजल परिवहन के नाम पर लाखों रुपए के बिल लगाकर राशि निकाल ली गई लेकिन ग्रामीणों को टैंकर से एक बूंद भी पानी नहीं मिला। महिलाओं ने कहा राशन से अधिक पानी की जरूरत: लखनी गांव की पंच महिला शिवरानी, संध्या, शीलरानी, उजयारी बाई ने बताया कि शासन प्रशासन भले ही हमें राशन न दे लेकिन गांव में पीने का पानी का इंतजाम कर दे। क्योंकि इस गांव में ब्याह करके जब से आई हूं तब पीने के पानी की समस्या है।

ग्राम लखनी में गांव से दो किमी दूर खेतों में बने कुएं से पानी भरकर लाना पड़ रहा है।

X
ग्राम लखनी में पानी की किल्लत
Astrology

Recommended

Click to listen..