सागर

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • आग लगी, फायर लॉरी 2 घंटे तक नहीं पहुंची; एक के बाद एक 3 सिलेंडर फटे, 12 घर जले
--Advertisement--

आग लगी, फायर लॉरी 2 घंटे तक नहीं पहुंची; एक के बाद एक 3 सिलेंडर फटे, 12 घर जले

मातगुवां थाना क्षेत्र के गौंची गांव में मंगलवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे आदिवासी मोहल्ले के मकानों में आग लग गई। आग...

Danik Bhaskar

May 09, 2018, 03:10 AM IST
मातगुवां थाना क्षेत्र के गौंची गांव में मंगलवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे आदिवासी मोहल्ले के मकानों में आग लग गई। आग लगने पर गांव के लोगों ने फायर ब्रिगेड को फोन किया पर वह नहीं पहुंची। इसके बाद गांव के लोगों ने 181 पर कॉल किया तब कहीं जाकर दो घंटे बाद फायर ब्रिगेड गांव पहुंची। तब तक गांव में 12 परिवारों के आशियाने जलकर खाक हो गए थे। घर में आग लगने से इन आदिवासी परिवारों की गृहस्थी। उनके सामने भोजन पानी तक का संकट गहरा गया है। हालांकि छतरपुर से पहुंचे समाज सेवियों ने पीड़ित परिवारों को भोजन और कपड़े वितरित करके शुरुआती मदद मुहैया कराई।

छतरपुर शहर से 17 किमी दूर गौंची गांव में मंगलवार की दोपहर डेढ़ बजे आदिवासी मुहल्ले के एक घर में आग लग गई। हवा चलने और तेज धूप से तापमान अधिक होने के कारण यह आग एक मकान से दूसरे मकान में बढ़ती गई।

छतरपुर के मातगुवां थाना क्षेत्र के गौंची गांव में आग लगने से कई मकान जल गए।

बाइक की टंकी फटती तो बड़ा हादसा तय

गांव के नथुआ, रामू, पूरन और लक्ष्मण कुशवाहा ने बताया कि एक मकान में आग लगने के बाद तेज हवा चलने के कारण दूसरे, फिर तीसरे मकान में आग फैलती चली गई। इस दौरान घरों में रखे तीन रसोई गैस सिलेंडरों और दो बाइकों मे आग लग गई। सिलेंडरों में धमाके होने से आग बेकाबू हो गई। इस कारण गांव के लोग इस आग को बुझाने के लिए इन घरों तक जाने से डर रहे थे। यदि लाेग आग बुझाने जाते और बाइक की टंकी या सिलेंडर फट जाता तो बड़ा हादसा हो जाता। सीएम हेल्प लाइन पर फोन करने पर पहुंची फायर ब्रिगेड गौंची गांव के सतीश वर्मा उर्फ संजू ने बताया कि आग लगने पर गांव वालों ने छतरपुर की फायर ब्रिगेड को फोन किया, पर एक घंटे तक फायर ब्रिगेड गांव नहीं पहुंची। इसके बाद हम लोगों ने मुख्यमंत्री हेल्प लाइन 181 नंबर पर फोन किया। तब तीन फायर तीन ब्रिगेड गांव पहुंचीं।

टीकमगढ़ में रात भर जलता रहा मकान, सुबह राख

भास्कर संवाददाता | टीकमगढ़

शहर के तालदरवाजा स्थित अखाड़ा मोहल्ला के पास रहने वाले ग्यासी कुशवाहा के कच्चे मकान में सोमवार देर रात 11 बजे अचानक आग लग गई। देखते ही देखते आग इतनी बढ़ गई कि पूरे मकान को घेर लिया। रात 3 बजे तक आग धधकती रही। मकान में रखे सिलेंडर में आग लगने का अंदेशा लगाया जा रहा था।

मोहल्ले वालों ने सुबह देखा तो मकान पूरी तरह खाक मिला। कच्चे में मकान में निवास करने वाले ग्यासी कुशवाहा परिवार सहित उज्जैन गए थे। उसी समय देर रात मकान में आग लग गई। जिससे मकान में रखा गृहस्थी का सामान पूरा जल गया। फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चला। गौरतलब है कि आगजनी की घटनाएं मार्च के अंितम सप्ताह में ही होने लगी है। इस महीने आंकड़ों पर गौर की जाए तो बुंदेलखंड अंचल में 200 से ज्यादा घटनाएं हो चुकी हैं।

Click to listen..