सागर

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • 32 हजार फीट पर कॉकपिट की खिड़की टूटी, को-पायलट बाहर लटक गया; पायलट बोला- मैं संभाल लूंगा ...और 20 मिनट में लैंडिंग करा दी
--Advertisement--

32 हजार फीट पर कॉकपिट की खिड़की टूटी, को-पायलट बाहर लटक गया; पायलट बोला- मैं संभाल लूंगा ...और 20 मिनट में लैंडिंग करा दी

चीन में शिचुआन एयरलाइंस का विमान- 3यू8633। सोमवार को चोंगक्यूंग से ल्हासा के लिए उड़ान भरी थी। उड़ान भरे डेढ़ घंटा हुआ था...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 04:10 AM IST
32 हजार फीट पर कॉकपिट की खिड़की टूटी, को-पायलट बाहर लटक गया; पायलट बोला- मैं संभाल लूंगा ...और 20 मिनट में लैंडिंग करा दी
चीन में शिचुआन एयरलाइंस का विमान- 3यू8633। सोमवार को चोंगक्यूंग से ल्हासा के लिए उड़ान भरी थी। उड़ान भरे डेढ़ घंटा हुआ था कि कॉकपिट की खिड़की टूटकर प्लेन से अलग हो गई। विमान 32 हजार फीट ऊंचाई पर था। खिड़की टूटते ही विमान के अंदर हवा आने लगी। हवा इतनी तेज कि को-पायलट तो विमान से बाहर लटकने की स्थिति में आ गए। अंदर पैसेंजर्स के बैग, खाना और अन्य सामान छितर-बितर हो गए। अफरा-तफरी मच गई। तभी पायलट लियू शुआनजियान ने अनाउंस किया- ‘घबराइए नहीं। स्थिति संभाल लेंगे।’ और इतना कहने के 20 मिनट के अंदर लियू ने 32 हजार फीट की ऊंचाई से विमान की सफल लैंडिंग करा दी। फ्लाइट में सवार सभी 119 यात्री सुरक्षित हैं।


पायलट लियू शुआनजियान हीरो बने; कहा- इस रूट पर 100 से ज्यादा उड़ान भर चुका हूं, उसका फायदा मिला

तेज हवा की वजह से विमान के अंदर लंच पैकेट्स, पैसेंजर्स के बैग यूं बिखर गए।

फ्लाइट के भीतर का तापमान माइनस 400 पहुंच गया था, 5-6 सेकंड में ही नीचे गिरने लगा : लियू

लियू ने ऐसा कैसे किया? जवाब में वो खुद बताते हैं- ‘विंडशीट टूटते ही कुछ देर में विमान का तापमान माइनस 40 डिग्री तक पहुंच गया। 5 से 6 सेकंड में ही विमान नीचे की ओर भागने लगा। मेरा को-पायलट भी मुश्किल में था। मैंने स्क्वैक वॉर्निग-7700’ जारी की। इसका मतलब होता है- विमान को गंभीर खतरा। एयर ट्रैफिक कंट्रोल को सूचना दी। उनके निर्देशों का पालन करते हुए सफल लैंडिंग कराई। मैं इस रूट पर 100 से ज्यादा बार उड़ान भर चुका हूं। इसका भी फायदा मिला।’

टेकऑफ और लैंडिंग के 11 मिनट में सतर्क रहें: अगर आप विमान में हों और इमरजेंसी हालात बन जाएं, तो क्या करें? विमान में कुल 11 मिनट बहुत अहम होते हैं। टेकऑफ के समय के 3 मिनट और लैंडिंग के वक्त के 8 मिनट। इस दौरान जूते पहने रहें, ताकि कोई इमरजेंसी होने पर एक्टिव मोड में रहें।

X
32 हजार फीट पर कॉकपिट की खिड़की टूटी, को-पायलट बाहर लटक गया; पायलट बोला- मैं संभाल लूंगा ...और 20 मिनट में लैंडिंग करा दी
Click to listen..