• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • प्रधानमंत्री आएं या न आएं, 1 जून से खोल दें एक्सप्रेस वे : सुप्रीम कोर्ट
--Advertisement--

प्रधानमंत्री आएं या न आएं, 1 जून से खोल दें एक्सप्रेस वे : सुप्रीम कोर्ट

ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का उद्‌घाटन दो बार टलने पर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कड़ी नाराजगी जताई। एनएचएआई...

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 02:25 AM IST
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का उद्‌घाटन दो बार टलने पर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कड़ी नाराजगी जताई। एनएचएआई ने कोर्ट में कहा कि प्रधानमंत्री के व्यस्त रहने के चलते उद्‌घाटन नहीं हो पाया। कोर्ट ने इस पर फटकार लगाते हुए कहा कि 31 मई तक प्रधानमंत्री उद्‌घाटन करें या न करें, 1 जून से हर हाल में एक्सप्रेस-वे को जनता के लिए खोल दिया जाए। दिल्ली-एनसीआर पहले से ही ट्रैफिक का भारी दबाव झेल रहा है। हालांकि, कोर्ट के सख्त रुख के बाद सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की ओर से सफाई आई कि एक्सप्रेस-वे नहीं खुलने का प्रधानमंत्री से कोई लेना-देना नहीं। काम पूरा नहीं होने के चलते यह देरी हुई है। निर्माण कार्य जल्द पूरा करवाकर प्रधानमंत्री से उद्‌घाटन करवाएंगे।





उल्लेखनीय है कि 135 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेस-वे सोनीपत के कुंडली से पलवल और गाजियाबाद तक जाता है। यह शुरू होने के बाद हरियाणा और यूपी के बीच चलने वाले वाहन दिल्ली में नहीं घुसेंगे।

कोर्ट ने कहा- जब सरकार की ओर से एडिशनल सॉलीसिटर जनरल पक्ष रख सकते हैं, तो उसकी ओर से उद्‌घाटन भी कर दें

सुनवाई के दौरान नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के वकील ने जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच को बताया कि पीएम को 20 अप्रैल को उद्‌घाटन करना था। कुछ कारणों से नहीं हो पाया। अगली तारीख 29 अप्रैल रखी, उस दिन भी पीएम के पहले से कार्यक्रम तय थे। इस पर जस्टिस लोकुर ने कहा कि अपनी लापरवाही का जिम्मा सरकार पर क्यों डाल रहे हैं। आखिर पीएम का इंतजार क्यों कर रहे हैं? मेघालय हाईकोर्ट बिना औपचारिक उद्घाटन के 5 साल से काम कर रहा है। एडिशनल सॉलीसिटर जनरल एएनएस नाडकर्णी केंद्र सरकार की ओर से कोर्ट में पक्ष रख सकते हैं तो उसकी ओर से उद्‌घाटन भी कर दें।

हरियाणा सरकार ने कहा- अभी 81% काम ही पूरा हुआ

हरियाणा सरकार ने कोर्ट को बताया कि एक्सप्रेस-वे का काम अभी 81% ही पूरा हुआ है। यह 30 जून तक पूरा होने की संभावना है। इसपर जस्टिस लोकुर ने कहा- एनएचएआई ने तो हमें बताया था कि काम पूरा हो गया है और प्रधानमंत्री अप्रैल में उद्‌घाटन करने वाले थे।

दिल्ली को ट्रैफिक से निजात दिलाने को बना एक्सप्रेस-वे

दिल्ली को ट्रैफिक की समस्या से निजात दिलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के बाहर रिंग रोड बनाने का आदेश दिया था। इसके बाद ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे की प्लानिंग 2006 में शुरू हुई थी। एक्सप्रेस-वे गाजियाबाद, फरीदाबाद, गौतमबुद्धनगर, सोनीपत को जोड़ेगा।





यह एक्सप्रेस-वे इसलिए बनाया है, ताकि हरियाणा से यूपी आने-जाने वाले ट्रक दिल्ली में न घुसें। इनसे ट्रैफिक का बोझ बढ़ता है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..