Hindi News »Madhya Pradesh »Sagar» Water Crisis In Tikamgarh District Of Bundelkhand

जान जोखिम में डालकर 50 फीट गहरे कुएं में रस्सी के सहारे उतरते हैं पानी भरने

रस्सी के सहारे करीब 50 फीट गहरे सूखे कुएं में उतरकर एक छोर पर बने गड्ढे को खोद.खोदकर निकालना मजबूरी बन गई है।

रवि ताम्रकार | Last Modified - May 12, 2018, 04:47 PM IST

जान जोखिम में डालकर 50 फीट गहरे कुएं में रस्सी के सहारे उतरते हैं पानी भरने

टीकमगढ़ (एमपी)।जिले में पानी का भीषण संकट गहरा गया है। करीब 1100 आबादी वाले जिले के कोड़िया गांव में चार हैंडपंप और चार कुएं हैं, जो पूरी तरह सूख चुके हैं। लोगों को बूंद-बूंद पानी के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। हालात इतने खराब हैं कि लोगों को अपनी प्यास बुझाने के लिए अपनी जान जोखिम में डालना पड़ रही है। रस्सी के सहारे करीब 50 फीट गहरे सूखे कुएं में उतरकर एक छोर पर बने गड्ढे को खोद-खोदकर निकालना मजबूरी बन गई है।

- यहां से निकले गंदे पानी का इस्तेमाल लोग खाना बनाने से लेकर पीने तक में कर रहे है और इसके लिए लोग दिन में करीब तीन बार कुएं में उतरते हैं।

- जब कहीं बमुश्किल उनकी पानी की पूर्ति हो पाती है। इसके लिए उन्हें पूरे दिन कुएं के पास बैठकर कुएं के अंदर बने गड्ढे में पानी आने का इंतजार करना पड़ता है।
- बुंदेलखंड क्षेत्र के टीकमगढ़ जिले में गर्मी पूरे शबाब पर है और हालात इतने भयावह हो गए हैं कि लोगों को पानी के लिए तमाम प्रकार के जतन करने पड़ रहे हैं।

- गांव की एक महिला ने बताया कि यहां के लोग अपना पूरा दिन पानी के जुगाड़ में लगा देते हैं। प्रशासन की तरफ से पानी को लेकर कोई उपाय नहीं किए गए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×