• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • चार वर्षों से घर-घर जाकर टैंकर से लोगों को नि:शुल्क पानी उपलब्ध करवा रहे हरेेंद्र
--Advertisement--

चार वर्षों से घर-घर जाकर टैंकर से लोगों को नि:शुल्क पानी उपलब्ध करवा रहे हरेेंद्र

बुंदेलखंड का अधिकांश क्षेत्र सूखे की मार से परेशान है। लोगों को काेसों दूर से पीने का पानी लाना पड़ रहा है। 43 डिग्री...

Dainik Bhaskar

May 13, 2018, 02:35 AM IST
चार वर्षों से घर-घर जाकर टैंकर से लोगों को नि:शुल्क पानी उपलब्ध करवा रहे हरेेंद्र
बुंदेलखंड का अधिकांश क्षेत्र सूखे की मार से परेशान है। लोगों को काेसों दूर से पीने का पानी लाना पड़ रहा है। 43 डिग्री तापमान में भी गांव की महिलाओं को सिर पर कलश रखकर दूर दराज से पीने का पानी ला रही है। ऐसे में मऊरानीपुर मार्ग पर पहाड़ी बुजुर्ग ग्राम में विगत चार वर्षों से घर-घर जाकर लोगों को टैंकर से नि:शुल्क पानी की व्यस्था कर रहे हैं हरेंद्र सिंह। वह सुबह से लेकर शाम तक करीब छह चक्कर पानी के टैंकर का परिवहन करते हैं, जिससे महिलाओं को तपती गर्मी के पीने के पानी के लिए परेशान न होना पड़े। स्थानीय लोगों का कहना है सरकार भले की हमें पानी का इंतजाम न करें, लेकिन गांव के पानीदार हरेंद्र प्रतिदिन लोगों को पीने का पानी मुहैया करा रहे हैं।

तपती धूप में पानी भरते लोगों को देखकर होता था दुख

चार साल पहले गांव में भीषण पेयजल संकट की स्थिति बनीं थी। उसी समय से हरेंद्र सिंह लगातार लोगों को रोज नि:शुल्क पानी का परिवहन कर रहे हैं। हरेंद्र सिंह का कहना है कि बेटियां और माताएं खेतों में बने कुओं से पानी लाने को मजबूर रहती है। तपती गर्मी में भी उन्हें परिवार वालों को पीने का पानी उपलब्ध करवाना पड़ता है। जिसे देखकर उनके मन में पीढ़ा होने लगती है। उन्होंने बताया कि गांव से लगभग लगभग दो किलोमीटर दूर से पानी भरने में महिलाओं का आधा दिन निकल जाता है। पानी के संकट को बढ़ते देख उन्होंने 2014 में अपने ट्रैक्टर से टैंकर को अटैच कर गांव से 2 किलोमीटर दूर खेतों में बने कुओं से पानी लाकर मोहल्ले में सभी को पानी बांटते हैं।

जतारा। लोगों को टैंकर से पानी पहुंचा रहे हरेंद्र सिंह।

चार हैंडपंप में से दो सूखे

गांव के मनोज प्रजापति ने बताया कि तीन हजार की आबादी वाले गांव में चार हैंडपंप लगे हैं। जिनमें से दो खराब हैं और दो में रुक-रुक कर पानी आता है। एेसे में गांव के लोगों को हरेंद्र सिंह के टैंकर का आने का इंतजार रहता है। जिससे लोगों को पीने का पानी मिल सके। वहीं मालती कुशवाहा ने बताया कि जब हरेंद्र सिंह टैंकर द्वारा पानी सप्लाई नहीं करते थे। तब हम महिलाओं को दो किलोमीटर दूर से सिर पर कलश रखकर पानी लाना पड़ता था, लेकिन अब पानी आसानी से घर के द्वार पर ही मिल जाता है।

पानी देना पुण्य का काम

हरेंद्र सिंह का कहना है कि गर्मी के मौसम में लोगों को पानी पिलाना पुण्य का काम है। इसलिए प्रतिदिन छह चक्कर लगाकर सभी को पानी उपलब्ध कराता हूं। उन्होंने बताया कि जब पानी का टैंकर मोहल्ले में देखकर लोगों को उत्साहित देखता हूं तो दिल खुश हो जाता है कि एक काम तो पुण्य का हुआ।

शादियों में नि:शुल्क टेंट लगाते हैं

सिंह ने बताया कि अब हमने गांव में किसी भी समाज में लड़का, लड़की की शादी हो तो उसे टेंट का पूरा सामान नि:शुल्क देते हैं। इसमें वह किसी के साथ भेदभाव नहीं करते हैं। उन्होंने बताया कि लड़का या लड़की किस समाज या वर्ग की है। इससे उन्हें कोई लेना देना है। समान रुप से पानी और टेंट का सामान लड़के-लड़कियों की शादी में निशुल्क देते हैं।

X
चार वर्षों से घर-घर जाकर टैंकर से लोगों को नि:शुल्क पानी उपलब्ध करवा रहे हरेेंद्र
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..