--Advertisement--

नवतपा से पहले शुरू हो जाएगी प्री-मानसून बारिश

Sagar News - 8 जून से ही मानसून की बारिश शुरू हो सकती है भास्कर संवाददाता| जतारा मार्च से ही गर्मी से जूझ रहे लोगों को अब और...

Dainik Bhaskar

May 17, 2018, 03:00 AM IST
नवतपा से पहले शुरू हो जाएगी प्री-मानसून बारिश
8 जून से ही मानसून की बारिश शुरू हो सकती है

भास्कर संवाददाता| जतारा

मार्च से ही गर्मी से जूझ रहे लोगों को अब और ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा। ग्रह-नक्षत्रों एवं मौसम विभाग के ताजा संकेत बता रहे हैं कि अब बहुत जल्द ही मौसमी गतिविधि में बदलाव होगा।

ज्योतिष पक्ष के मुताबिक कृतिका नक्षत्र के अभी गतिशील रहने से 25 मई को नवतपा लगने से पहले ही जिले में प्री-मानसून बारिश शुरू हो जाएगी। इसके असर से रोहिणी नक्षत्र अवधि में भी बूंदें बरसेंगी। जबकि सूर्य का कर्क राशि में भ्रमण पूरा होने से 6 जुलाई तक गर्मी से भी पूरी तरह राहत मिलेगी। इधर, मौसम विभाग के संकेत बताते हैं कि यदि सबकुछ ठीक रहा तो शहर व जिले में इस साल दो दिन पहले यानी 8 जून से ही मानसून बारिश शुरू हो सकती है। सामान्यतः: जुलाई-अगस्त में ज्यादा बारिश होती है, लेकिन इस साल जून व सितंबर ज्यादा भीगेंगे।

जुलाई में गर्मी पूरी तरह होगी दूर : पंडित विवेक दीक्षित का कहना है कि वर्तमान में कृतिका नक्षत्र समयावधि चल रही है, जो 25 मई तक रहेगी। इस नक्षत्र में प्री-मानसून की बारिश का शुभारंभ होता है। 25 मई को रोहिणी नक्षत्र व नवतपा लगने से पहले ही आंधी-तूफान के साथ प्री-मानसून बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। इसका असर रोहिणी नक्षत्र समयावधि में भी रहेगा। इस नक्षत्र के 15 दिन 8 जून को पूरे होने के बाद मृगशिरा नक्षत्र लगेगा। इसकी उत्तरार्ध समयावधि में किसान खेत में बुआई कर सकते हैं। क्योंकि इस समय तक मानसून बारिश भी गति पकड़ने लगती है। पं. दीक्षित के अनुसार सूर्य 12 राशि में भ्रमण करता है, जिसकी शुरुआत मेष राशि से होती है। यहीं से गर्मी का प्रभाव होता है। वृषभ, मिथुन व कर्क राशि में 6 जुलाई तक भ्रमण पूरा होने से गर्मी से भी पूरी राहत मिलेगी। इसी समय पानी का नक्षत्र (पुनर्वसु, पुष्य) प्रभावशील होने से बारिश अपेक्षाकृत अच्छी होगी।

ज्योतिष

8 जून से ही मानसून की बारिश शुरू हो सकती है

भास्कर संवाददाता| जतारा

मार्च से ही गर्मी से जूझ रहे लोगों को अब और ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा। ग्रह-नक्षत्रों एवं मौसम विभाग के ताजा संकेत बता रहे हैं कि अब बहुत जल्द ही मौसमी गतिविधि में बदलाव होगा।

ज्योतिष पक्ष के मुताबिक कृतिका नक्षत्र के अभी गतिशील रहने से 25 मई को नवतपा लगने से पहले ही जिले में प्री-मानसून बारिश शुरू हो जाएगी। इसके असर से रोहिणी नक्षत्र अवधि में भी बूंदें बरसेंगी। जबकि सूर्य का कर्क राशि में भ्रमण पूरा होने से 6 जुलाई तक गर्मी से भी पूरी तरह राहत मिलेगी। इधर, मौसम विभाग के संकेत बताते हैं कि यदि सबकुछ ठीक रहा तो शहर व जिले में इस साल दो दिन पहले यानी 8 जून से ही मानसून बारिश शुरू हो सकती है। सामान्यतः: जुलाई-अगस्त में ज्यादा बारिश होती है, लेकिन इस साल जून व सितंबर ज्यादा भीगेंगे।

जुलाई में गर्मी पूरी तरह होगी दूर : पंडित विवेक दीक्षित का कहना है कि वर्तमान में कृतिका नक्षत्र समयावधि चल रही है, जो 25 मई तक रहेगी। इस नक्षत्र में प्री-मानसून की बारिश का शुभारंभ होता है। 25 मई को रोहिणी नक्षत्र व नवतपा लगने से पहले ही आंधी-तूफान के साथ प्री-मानसून बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। इसका असर रोहिणी नक्षत्र समयावधि में भी रहेगा। इस नक्षत्र के 15 दिन 8 जून को पूरे होने के बाद मृगशिरा नक्षत्र लगेगा। इसकी उत्तरार्ध समयावधि में किसान खेत में बुआई कर सकते हैं। क्योंकि इस समय तक मानसून बारिश भी गति पकड़ने लगती है। पं. दीक्षित के अनुसार सूर्य 12 राशि में भ्रमण करता है, जिसकी शुरुआत मेष राशि से होती है। यहीं से गर्मी का प्रभाव होता है। वृषभ, मिथुन व कर्क राशि में 6 जुलाई तक भ्रमण पूरा होने से गर्मी से भी पूरी राहत मिलेगी। इसी समय पानी का नक्षत्र (पुनर्वसु, पुष्य) प्रभावशील होने से बारिश अपेक्षाकृत अच्छी होगी।

सूर्य का कर्क राशि में भ्रमण पूरा होने से 6 जुलाई तक गर्मी से मिलेगी पूरी तरह राहत

मौसम विभाग : गर्मी बढ़ी तो आंधी के साथ बरसेंगी बूंदें, दो माह ज्यादा बारिश

मौसम विभाग के अनुसार सामान्यत: मार्च से ही प्री-मानसून एक्टिविटी शुरू होना माना जाता है। वर्तमान में भी जिले में कहीं-कहीं आंधी चलकर बूंदाबांदी के समाचार मिल रहे हैं। शहर में बादल भी छा रहे हैं। आगामी 4-5 दिन में गर्मी और बढ़कर यदि पारा 43-44 डिग्री के आसपास जाता है तो आंधी के साथ हल्की बारिश हो सकती है। हालांकि 1-2 इंच बारिश पर उसे प्री-मानसून बारिश होना माना जाता है। रोहिणी नक्षत्र में यदि ऐसी स्थिति बनती भी है तो गर्मी से तो राहत मिलेगी, लेकिन आर्द्रता/उमस ज्यादा बढ़ने से बेचैनी रहेगी। विभाग के अनुसार मानसून के 28 मई तक केरल पहुंचने के प्रारंभिक संकेत हैं। यदि इस समय तक मानसून केरल पहुंचता है तो जिले व शहर में 8 जून के आसपास मानसून बारिश शुरू होने की पूरी उम्मीद है।

8 जून से ही मानसून की बारिश शुरू हो सकती है

भास्कर संवाददाता| जतारा

मार्च से ही गर्मी से जूझ रहे लोगों को अब और ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा। ग्रह-नक्षत्रों एवं मौसम विभाग के ताजा संकेत बता रहे हैं कि अब बहुत जल्द ही मौसमी गतिविधि में बदलाव होगा।

ज्योतिष पक्ष के मुताबिक कृतिका नक्षत्र के अभी गतिशील रहने से 25 मई को नवतपा लगने से पहले ही जिले में प्री-मानसून बारिश शुरू हो जाएगी। इसके असर से रोहिणी नक्षत्र अवधि में भी बूंदें बरसेंगी। जबकि सूर्य का कर्क राशि में भ्रमण पूरा होने से 6 जुलाई तक गर्मी से भी पूरी तरह राहत मिलेगी। इधर, मौसम विभाग के संकेत बताते हैं कि यदि सबकुछ ठीक रहा तो शहर व जिले में इस साल दो दिन पहले यानी 8 जून से ही मानसून बारिश शुरू हो सकती है। सामान्यतः: जुलाई-अगस्त में ज्यादा बारिश होती है, लेकिन इस साल जून व सितंबर ज्यादा भीगेंगे।

जुलाई में गर्मी पूरी तरह होगी दूर : पंडित विवेक दीक्षित का कहना है कि वर्तमान में कृतिका नक्षत्र समयावधि चल रही है, जो 25 मई तक रहेगी। इस नक्षत्र में प्री-मानसून की बारिश का शुभारंभ होता है। 25 मई को रोहिणी नक्षत्र व नवतपा लगने से पहले ही आंधी-तूफान के साथ प्री-मानसून बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। इसका असर रोहिणी नक्षत्र समयावधि में भी रहेगा। इस नक्षत्र के 15 दिन 8 जून को पूरे होने के बाद मृगशिरा नक्षत्र लगेगा। इसकी उत्तरार्ध समयावधि में किसान खेत में बुआई कर सकते हैं। क्योंकि इस समय तक मानसून बारिश भी गति पकड़ने लगती है। पं. दीक्षित के अनुसार सूर्य 12 राशि में भ्रमण करता है, जिसकी शुरुआत मेष राशि से होती है। यहीं से गर्मी का प्रभाव होता है। वृषभ, मिथुन व कर्क राशि में 6 जुलाई तक भ्रमण पूरा होने से गर्मी से भी पूरी राहत मिलेगी। इसी समय पानी का नक्षत्र (पुनर्वसु, पुष्य) प्रभावशील होने से बारिश अपेक्षाकृत अच्छी होगी।

X
नवतपा से पहले शुरू हो जाएगी प्री-मानसून बारिश
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..