• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली
--Advertisement--

अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली

कई महीनों से नगर का अंतर्राज्जीय बस अड्डा अव्यवस्थाओं का शिकार है। बस स्टैंड पर बसें बेतरतीब ढंग से खड़ी हो रही हैं ,...

Dainik Bhaskar

May 09, 2018, 03:40 AM IST
अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली
कई महीनों से नगर का अंतर्राज्जीय बस अड्डा अव्यवस्थाओं का शिकार है। बस स्टैंड पर बसें बेतरतीब ढंग से खड़ी हो रही हैं , इसके साथ ही हाथ ठेला बस स्टैंड के बीच खड़े होकर अव्यवस्था को और बढ़ा रहे हैं। जिसके चलते बस चालकों को जहां जगह मिलती है वहां बसें खड़ी कर देते हैं, जिससे अक्सर ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। बसों से लगेज उतार कर रास्ते में रखकर बसें आगे बढ़ जाती हैं, जिससे पैदल चलने वालों तक को असुविधा का सामना करना पड़ता है। इस गंभीर समस्या की ओर न तो पुलिस को सुध है और न ही प्रशासन को।

बस स्टैंड में व्यवस्था बनी रहे, यात्रियों, वाहन चालकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। बस स्टैंड में शांति व्यवस्था बनी रहे, अपराधों पर नियंत्रण हो, इसके लिए बस स्टैंड में पुलिस चौकी चालू की गई है लेकिन यह पुलिस चौकी महज दिखावा साबित हो रही है। बस स्टैंड में ट्रैफिक व्यवस्था पूर्णत: ध्वस्त हो चुकी है, आलम यह है कि पैदल चलने वालों का निकलना भी मुश्किल हो जाता है। जब कोई हादसा हो जाता है तो मोटर स्टैंड के हालात दुरूस्थ हो जाते हैं कुछ दिनों तक ट्रैफिक व्यवस्था ठीकठाक रहती है लेकिन कुछ समय बाद फिर वही पुराना ढर्रा शुरू हो जाता है। हाथ ठेला बसों के पास पहुंच जाते हैं जिससे उतरने चढ़ने वाले यात्रियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। रास्ते में खड़े यात्रियों को बैठाने के चक्कर में बस चालक या स्टाफ लगेज को बीच स्टैंड में छोड़कर भाग जाते हैं। यह लगेज किसका है यह तो तब पता चलता है जब कोई रिक्शा चालक या हाथठेला वाला उसको उठाने पहुंचता है।

हम व्यवस्था दुरूस्त कराते हैं


नौगांव। बस स्टेंड पर बेतरतीब खड़ी यात्री बसें, बीच में खडी हाथ ठिलिया। इनसेट में पुलिस चौकी पर मीडिया के पहुंचने पर ताश छुपाते पुलिस कर्मी।

शाम होते ही छलकने

लगते हैं जाम

जैसे ही सूरज ढलता है बस स्टैंड पर असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लगना शुरू हो जाता है। शाम ढलते ही मोटर स्टैंड पर खाने पीने के ठेले, होटल शराब पीने का अड्डा बन जाते हैं। यात्री प्रतीक्षालय में जाम छलकते हैं, जिससे यात्री भी न केवल भयभीत रहते हैं बल्कि कई बार तो उनको अपमानित भी होना पड़ता है। नौगांव पुलिस द्वारा मोटर स्टैंड व शहर से लगे होटल, ढाबा पर शराब पीने वालों पर नकेल कसी जाती है। उनके द्वारा समय- समय पर दबिश भी दी जा रही है।

ताश के पत्तों में व्यस्त पुलिस

बस स्टैंड में खुली पुलिस चौकी में डायल 100 में तैनात बल ताश के पत्तों में व्यस्त रहता है। बीते रोज जब चौकी जाकर देखा तो यहां पर एक वर्दी पहने हुए डायल 100 का पायलट था । एक रक्षा समिति का जवान सहित एक अन्य युवक मौजूद था। सभी ताश खेलने में मस्त थे। जैसे ही मीडिया का कैमरा देखा तो रक्षा समिति के जवान सहित युवक भाग खड़ा हुआ और पुलिस कर्मी सहित पायलट पत्ते छिपाने में लग गए। जबकि डायल 100 का प्वाइंट कोठी चौराहे पर रखा गया था। नियम यह भी है जिसकी ड्यूटी 100 पर होगी वह अपने प्वाइंट पर गाड़ी में सवार रहेगा।

अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली
X
अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली
अव्यवस्थाओं का शिकार नौगांव बसस्टैंड, पुलिस व्यवस्था के नाम पर होती है वसूली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..