सागर

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • पथरिया के तालाब की दो दशक से नहीं हुई सफाई, गंदगी के चलते बदबू से लोग परेशान
--Advertisement--

पथरिया के तालाब की दो दशक से नहीं हुई सफाई, गंदगी के चलते बदबू से लोग परेशान

नगर का एकमात्र जलस्रोत बड़ा तालाब कई दशकों से उपेक्षित है। इसमें आज तक न तो गहरीकरण कराया गया है और न ही सफाई कराई गई...

Dainik Bhaskar

May 09, 2018, 03:45 AM IST
पथरिया के तालाब की दो दशक से नहीं हुई सफाई, गंदगी के चलते बदबू से लोग परेशान
नगर का एकमात्र जलस्रोत बड़ा तालाब कई दशकों से उपेक्षित है। इसमें आज तक न तो गहरीकरण कराया गया है और न ही सफाई कराई गई है। ऐसी स्थिति में तालाब लगातार उथला होता जा रहा है।

गंदगी के कारण बदबू तक आने लगी है। कई जगह गाद जम गई है, बारिश का पानी भी तालाब के अंदर नहीं जाता, जिससे तालाब का पर्याप्त रूप से भराव भी नहीं हो पाता। आसपास का जलस्तर भी गिर रहा है। स्थानीय बुजुर्गों का कहना है कि पहले इस तालाब का लोग पानी पीते थे। नगर में कोई जलस्रोत नहीं था, लेकिन अब इस तालाब की दुर्दशा को देखकर लोग प्रशासन को कोसते हुए नजर आ रहे हैं।

सामाजिक संस्थाएं भी बेसुध: पथरिया नगर में ऐसे अनेक सामाजिक संस्थाएं चल रहीं हैं जो समाजसेवा के नाम पर शासन से खूब पैसा ले रहीं हैं, लेकिन यह संस्थाएं केवल नाम के लिए ही संचालित हैं। नगर के एकमात्र तालाब कई दशकों से उपेक्षित हैं, लेकिन इसकी ओर किसी का भी ध्यान नहीं दिया गया। यदि शासन या प्रशासन तालाब की ओर ध्यान नहीं दे रहा है तो सामाजिक संस्थाओं का दायित्व बनता है कि वह स्वयं ही तालाब की साफ-सफाई करने में आगे आएं और दूसरे को भी जागरूक करें, लेकिन सामाजिक संस्थाएं बेसुध हैं।

कलेक्टर को करा चाहिए पहल: नगर परिषद अध्यक्ष कृष्णा लक्ष्मण सिंह ने बताया कि यह तालाब पूर्व में उनके पूर्वजों द्वारा खुदवाया गया था, मालगुजारी शासन के समय से तालाब रहा है लेकिन बीच में कुछ राजस्व अधिकारियों द्वारा इसे किसी दूसरे के नाम कर दिया गया है। नगर परिषद का उसमें कोई स्वामित्व अधिकार नहीं है जिसके कारण नगर परिषद कुछ नहीं करवा सकती। कलेक्टर या अन्य अधिकारी इस ओर ध्यान दें तो जल्द खुदाई व सफाई करवाई जा सकती है।

मैं चर्चा करता हूं


पथरिया। उपेक्षित पड़ा नगर का एकमात्र तालाब।

गहरीकरण व सफाई हो जाए तो बदल जाएगी सूरत

बुजुर्ग रामप्रसाद पटेल, रूपलाल विश्वकर्मा ने बताया कि प्रशासन को चाहिए कि नगर के एकमात्र तालाब की गर्मियों में साफ-सफाई कराने के बाद गहरीकरण भी किया जाए। साथ ही तालाब में जमी हुई गाद को भी जेसीबी या ट्रैक्टर की मदद से बाहर निकाला जाए ताकि जब बारिश हो तो इसमें पर्याप्त रूप से पानी एकत्रित हो सके। हालांकि नगर परिषद द्वारा एक साल पहले तालाब किनारे घाट बनाए गए हैं। इस संबंध में नगर के वरिष्ठ जनप्रतिनिधि जमना जैन का कहना है कि भाजपा द्वारा स्वच्छ भारत मिशन चलाया जा रहा है। इसी के तहत जल्द ही योजना बनाकर तालाब की सफाई व गहरीकरण कराया जाएगा।

X
पथरिया के तालाब की दो दशक से नहीं हुई सफाई, गंदगी के चलते बदबू से लोग परेशान
Click to listen..