• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Sagar
  • पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया
--Advertisement--

पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया

Sagar News - सागर. मकरोनिया में बढ़ती आपराधिक घटनाओं के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मानव श्रृंखला बनाकर प्रदर्शन किया।...

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 04:00 AM IST
पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया
सागर. मकरोनिया में बढ़ती आपराधिक घटनाओं के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मानव श्रृंखला बनाकर प्रदर्शन किया।

भास्कर संवाददाता | सागर

मकरोनिया क्षेत्र में बीती रात हुई लूट और बर्बर मारपीट की घटना ने स्थानीय स्तर पर पुलिस की चाक-चौबंदी की पोल खोल दी है। क्षेत्र में लगातार बढ़ते अपराधों पर पुलिस अंकुश नहीं लगा पा रही है। उदाहरण के लिए 3 महीने पहले पुलिस थाने के सामने हुई चोरी से लेकर 15 दिन पहले श्री देवप्रभाकर नगर में चेन स्नेचिंग की घटना में पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं। इसके अलावा कुछ अन्य घटनाएं भी हुईं, पुलिस उनका भी खुलासा नहीं कर पाई। ताजा मामले में जिस सराफा दंपती के साथ लूट और बर्बर तरीके से मारपीट हुई है, उसकी दुकान पर ही 6 महीने पहले चोरी हुई थी लेकिन उसका भी कुछ पता नहीं चला।

पदमाकर नगर-बहेरिया दोनों ही जगह गश्त बंद : क्षेत्र में बढ़ती आपराधिक वारदातों को लेकर क्षेत्रीय रहवासियों ने आरोप लगाया है कि मकरोनिया से लेकर आसपास के फोरलेन पर पुलिस की गश्त नहीं के बराबर है। अगर ऐसा नहीं है तो फिर रजाखेड़ी, बिजली कंपनी की कॉलोनी से लेकर फोरलेन पर आपराधिक वारदातें क्यों होती। पिछले दिनों ही फोरलेन पर गश्त के अभाव में ट्रकों से लूट और हत्या हुई। वहीं पिछले सप्ताह एक युवक की संदिग्ध हालात में मौत हुई और आरोपियों ने उसके शव को बेखटके फोरलेन पर ठिकाने लगा दिया।

गृहमंत्री ने चौकी और पुलिस सहायता केंद्र बनाने की घोषणा की थी : पुलिस खुद इस बात को स्वीकार करती है कि कुछेक साल पहले पदमाकर नगर को थाने का भले ही दर्जा दे दिया गया। लेकिन स्टाफ के मामले में यह किसी बड़ी पुलिस चौकी से बेहतर नहीं है। जबकि यह शहर का सबसे तेजी से फैलता रहवासी एरिया बन चुका है लेकिन इस हिसाब बल की तैनाती नहीं की गई है। वर्तमान में मकरोनिया-रजाखेड़ी समेत आसपास के गांवों की आबादी 1 लाख से अधिक हो चुकी है। वहीं मकान-दुकान की संख्या भी 20 हजार से ऊपर बताई गई है।

यहां बता दें कि करीब 6 महीने पहले पदमाकर नगर थाने के नए भवन के लोकार्पण के समय गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह ने पुराने थाना भवन में एक पुलिस चौकी और दीनदयाल नगर क्षेत्र में एक पुलिस सहायता केंद्र बनाए जाने की घोषणा की थी। लेकिन इस पर कोई अमल नहीं हो पाया।

लूट की शिकार महिला को अाए 40 टांके

पति भी बुरी तरह चोटिल

घटनाक्रम के 24 घंटे गुजरने के बाद पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा है। स्थानीय प्राइवेट नर्सिंग होम में भर्ती सराफा व्यवसायी प्रदीप सोनी को 14 तो उनकी प|ी किरण सोनी को 40 टांके आए हैं। दोनों को ही आरोपियों ने सिर व शरीर के अन्य हिस्सों में लाठियों से बुरी तरह से मारा है। अस्पताल में भर्ती प्रदीप ने बताया कि मैं दुकान बंद कर प|ी के साथ तेजी से घर की तरफ जा रहा था। जैसे ही हम लाेग सेंट्रल स्कूल के सामने वाले मैदान के पास पहुंचे तभी पीछे की तरफ से मेरे सिर पर किसी ने वार किया। मैं संभल भी नहीं पाया कि उन दो लोगों ने मेरी प|ी पर भी ताबड़तोड़ लाठियां बरसाना शुरू कर दीं। प्रदीप का कहना है कि फिलहाल इस स्थिति में नहीं हूं कि ये बता सकूं कि वे लोग कितना माल लूट कर ले गए। इधर पुलिस ने इस मामले में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ लूट का मामला दर्ज करते हुए आरोपियों की खोजबीन शुरु कर दी है।

एसपी ने किया घटनास्थल का दौरा, बोले-आरोपी जल्द गिरफ्तार होंगे

मंगलवार रात लूट और मारपीट की घटनाओं के बाद एसपी सत्येंद्रकुमार शुक्ल घटनास्थल का मुआयना करने पहुंचे। उन्होंने घायल सराफा व्यवसायी दंपती से भी बातचीत की। इधर जिला कांग्रेस कमेटी ने क्षेत्र में बढ़ती आपराधिक घटनाओं के विरोध में मकरोनिया चौराहा पर मुंह पर पट्टी बांधकर मानव श्रृंखला बनाई। इस दौरान बड़ी संख्या में चौराहे पर पुलिस मौजूद रहा। इसके बाद प्रदर्शनकारी एसपी ऑफिस में शिकायती ज्ञापन देने पहुंचे। यहां एसपी शुक्ल ने उन्हें अाश्वस्त किया कि जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। घटनाएं दोबारा नहीं हों, इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था के और बेहतर इंतजाम किए जाएंगे। मानव श्रृंखला और ज्ञापन सौंपने वालों में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हीरासिंह राजपूत, वीरेन्द्र गौर,वरिष्ठ काॅग्रेस नेता सुरेन्द्र सुहाने,राजेश्वर सेन,शारदा खटीक, राजकुमार पचौरी, नीरज मुखारया,जिला पंचायत सदस्य ज्योति पटैल, कमलेश बघेल,राकेश राय,दीपक दुबे आदि शामिल थे।

भास्कर संवाददाता | सागर

मकरोनिया क्षेत्र में बीती रात हुई लूट और बर्बर मारपीट की घटना ने स्थानीय स्तर पर पुलिस की चाक-चौबंदी की पोल खोल दी है। क्षेत्र में लगातार बढ़ते अपराधों पर पुलिस अंकुश नहीं लगा पा रही है। उदाहरण के लिए 3 महीने पहले पुलिस थाने के सामने हुई चोरी से लेकर 15 दिन पहले श्री देवप्रभाकर नगर में चेन स्नेचिंग की घटना में पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं। इसके अलावा कुछ अन्य घटनाएं भी हुईं, पुलिस उनका भी खुलासा नहीं कर पाई। ताजा मामले में जिस सराफा दंपती के साथ लूट और बर्बर तरीके से मारपीट हुई है, उसकी दुकान पर ही 6 महीने पहले चोरी हुई थी लेकिन उसका भी कुछ पता नहीं चला।

पदमाकर नगर-बहेरिया दोनों ही जगह गश्त बंद : क्षेत्र में बढ़ती आपराधिक वारदातों को लेकर क्षेत्रीय रहवासियों ने आरोप लगाया है कि मकरोनिया से लेकर आसपास के फोरलेन पर पुलिस की गश्त नहीं के बराबर है। अगर ऐसा नहीं है तो फिर रजाखेड़ी, बिजली कंपनी की कॉलोनी से लेकर फोरलेन पर आपराधिक वारदातें क्यों होती। पिछले दिनों ही फोरलेन पर गश्त के अभाव में ट्रकों से लूट और हत्या हुई। वहीं पिछले सप्ताह एक युवक की संदिग्ध हालात में मौत हुई और आरोपियों ने उसके शव को बेखटके फोरलेन पर ठिकाने लगा दिया।

गृहमंत्री ने चौकी और पुलिस सहायता केंद्र बनाने की घोषणा की थी : पुलिस खुद इस बात को स्वीकार करती है कि कुछेक साल पहले पदमाकर नगर को थाने का भले ही दर्जा दे दिया गया। लेकिन स्टाफ के मामले में यह किसी बड़ी पुलिस चौकी से बेहतर नहीं है। जबकि यह शहर का सबसे तेजी से फैलता रहवासी एरिया बन चुका है लेकिन इस हिसाब बल की तैनाती नहीं की गई है। वर्तमान में मकरोनिया-रजाखेड़ी समेत आसपास के गांवों की आबादी 1 लाख से अधिक हो चुकी है। वहीं मकान-दुकान की संख्या भी 20 हजार से ऊपर बताई गई है।

यहां बता दें कि करीब 6 महीने पहले पदमाकर नगर थाने के नए भवन के लोकार्पण के समय गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह ने पुराने थाना भवन में एक पुलिस चौकी और दीनदयाल नगर क्षेत्र में एक पुलिस सहायता केंद्र बनाए जाने की घोषणा की थी। लेकिन इस पर कोई अमल नहीं हो पाया।

भास्कर संवाददाता | सागर

मकरोनिया क्षेत्र में बीती रात हुई लूट और बर्बर मारपीट की घटना ने स्थानीय स्तर पर पुलिस की चाक-चौबंदी की पोल खोल दी है। क्षेत्र में लगातार बढ़ते अपराधों पर पुलिस अंकुश नहीं लगा पा रही है। उदाहरण के लिए 3 महीने पहले पुलिस थाने के सामने हुई चोरी से लेकर 15 दिन पहले श्री देवप्रभाकर नगर में चेन स्नेचिंग की घटना में पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं। इसके अलावा कुछ अन्य घटनाएं भी हुईं, पुलिस उनका भी खुलासा नहीं कर पाई। ताजा मामले में जिस सराफा दंपती के साथ लूट और बर्बर तरीके से मारपीट हुई है, उसकी दुकान पर ही 6 महीने पहले चोरी हुई थी लेकिन उसका भी कुछ पता नहीं चला।

पदमाकर नगर-बहेरिया दोनों ही जगह गश्त बंद : क्षेत्र में बढ़ती आपराधिक वारदातों को लेकर क्षेत्रीय रहवासियों ने आरोप लगाया है कि मकरोनिया से लेकर आसपास के फोरलेन पर पुलिस की गश्त नहीं के बराबर है। अगर ऐसा नहीं है तो फिर रजाखेड़ी, बिजली कंपनी की कॉलोनी से लेकर फोरलेन पर आपराधिक वारदातें क्यों होती। पिछले दिनों ही फोरलेन पर गश्त के अभाव में ट्रकों से लूट और हत्या हुई। वहीं पिछले सप्ताह एक युवक की संदिग्ध हालात में मौत हुई और आरोपियों ने उसके शव को बेखटके फोरलेन पर ठिकाने लगा दिया।

गृहमंत्री ने चौकी और पुलिस सहायता केंद्र बनाने की घोषणा की थी : पुलिस खुद इस बात को स्वीकार करती है कि कुछेक साल पहले पदमाकर नगर को थाने का भले ही दर्जा दे दिया गया। लेकिन स्टाफ के मामले में यह किसी बड़ी पुलिस चौकी से बेहतर नहीं है। जबकि यह शहर का सबसे तेजी से फैलता रहवासी एरिया बन चुका है लेकिन इस हिसाब बल की तैनाती नहीं की गई है। वर्तमान में मकरोनिया-रजाखेड़ी समेत आसपास के गांवों की आबादी 1 लाख से अधिक हो चुकी है। वहीं मकान-दुकान की संख्या भी 20 हजार से ऊपर बताई गई है।

यहां बता दें कि करीब 6 महीने पहले पदमाकर नगर थाने के नए भवन के लोकार्पण के समय गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह ने पुराने थाना भवन में एक पुलिस चौकी और दीनदयाल नगर क्षेत्र में एक पुलिस सहायता केंद्र बनाए जाने की घोषणा की थी। लेकिन इस पर कोई अमल नहीं हो पाया।

पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया
X
पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया
पुरानी चोरी, चेन स्नेचिंग के आरोपियों का सुराग नहीं, कांग्रेस ने प्रदर्शन किया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..