• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • आर्थराइटिस और गठिया कैंप में बड़ी संख्या में जांच कराने पहुंचे मरीज
--Advertisement--

आर्थराइटिस और गठिया कैंप में बड़ी संख्या में जांच कराने पहुंचे मरीज

सागर/ भोपाल | भोपाल के चिरायु मेडिकल कॉलेज ने रविवार को चैतन्य हॉस्पिटल में जोड़ों के दर्द और आर्थराइटिस कैंप का...

Dainik Bhaskar

May 14, 2018, 04:05 AM IST
आर्थराइटिस और गठिया कैंप में बड़ी संख्या में जांच कराने पहुंचे मरीज
सागर/ भोपाल | भोपाल के चिरायु मेडिकल कॉलेज ने रविवार को चैतन्य हॉस्पिटल में जोड़ों के दर्द और आर्थराइटिस कैंप का आयोजन किया। कैंप में 150 से अधिक मरीजों के स्वास्थ्य की जांच की गई। चिरायु हॉस्पिटल के हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. राजुल गुप्ता और डॉ. संदीप गौर ने अपनी टीम के साथ मरीजों की जांच की। इनमें अधिकांश मरीज कमर दर्द और जोड़ों में दर्द के कारण होने वाली परेशानियों से ग्रस्त पाए गए। डॉक्टरों ने मरीजों को नियमित व्यायाम और बेहतर खानपान के लिए प्रेरित किया। वहीं जोड़ों के दर्द से ग्रस्त बुजुर्गों की न्यूट्रीशियन काउंसिलिंग भी की गई। इस अवसर पर बिना जोड़ प्रत्यारोपण किए गए, जोडो़ं के दर्द से निजात दिलाने वाली क्रांतिकारी तकनीक एसवीएफ, स्ट्रोमल वैस्कुलर फ्रेक्शन की जानकारी भी दी गई। डॉ. गुप्ता ने बताया कि इस तकनीक में मरीज के शरीर से ही एसवीएफ बिना किसी एंजाइम, कल्चर या केमिकल के प्राप्त किया जाता है। इसलिए मरीज को किसी भी साइड इफेक्ट या रिएक्शन का खतरा न के बराबर होता है। यही नहीं, टेक्नोलॉजी से उपचार लेने के बाद 85 प्रतिशत मरीज बेहतर लाइफस्टाइल जीते हुए आराम से चल-फिर लेते हैं। साथ ही उन्हें भविष्य में किसी अन्य प्रकार के उपचार की आवश्यकता भी नहीं पड़ती है। उन्होंने बताया कि यह टेक्निक आर्थराइटिस के मूल कारक कार्टिलेज के डिजनरेशन, घिसना और टूटने को रोकती है और एसवीएफ में मौजूद सेल्स की मदद से कार्टिलेज का पुनः निर्माण करती है, जिससे आर्थराइटिस का जड़ से निदान होता है। इससे पूर्व शनिवार को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन सागर चैप्टर द्वारा अायोजित मेडिकल कॉन्फ्रेंस में डॉ. राजुल गुप्ता ने 40 से अधिक वरिष्ठ डॉक्टरों को संबोधित किया। उन्होंने स्ट्रोमल वैस्कुलर फ्रेक्शन टेक्नोलॉजी से आर्थराइटिस के इलाज पर महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की। इस कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सागर के वरिष्ठ हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. मनीष झा थे। साथ ही इंडियन मेडिकल एसोसिएशन सागर चैप्टर के अध्यक्ष डॉ. एनएस मौर्या भी उपस्थित थे।

X
आर्थराइटिस और गठिया कैंप में बड़ी संख्या में जांच कराने पहुंचे मरीज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..