• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
--Advertisement--

बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य

संभागीय बाल भवन में समय परिवर्तन के साथ ही बच्चों को आत्मरक्षा के लिए कराटे और उनकी नैसर्गिक प्रतिभा निखारने डांस...

Dainik Bhaskar

May 08, 2018, 04:50 AM IST
बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
संभागीय बाल भवन में समय परिवर्तन के साथ ही बच्चों को आत्मरक्षा के लिए कराटे और उनकी नैसर्गिक प्रतिभा निखारने डांस क्लासेस चल रही हैं। बच्चों को कराटे से हाेने वाले लाभ बताने के साथ ही उन्हेें यह भी बताया जा रहा है कि इसके जरिए वे कैसे अपनी व परिवार के सदस्यों की सुरक्षा कर सकते हैं। वहीं बच्चों को फ्रंट किक, साइड किक, ब्लाकिंग , अपर मिडिल लोअर पंच प्रहार के गुर भी सिखाए जा रहे है। यह काम प्रशिक्षक नरेंद्र मिश्र बखूबी निभा रहे है। प्रशिक्षण के अगले चरण में बच्चे कराटे के अन्य दाव-पेंच सीखेंगे और अभ्यास करेंगे।

नृत्य अनुदेशक दीपाली भोजक बच्चोंं को बुंदेलखंड के परम्परिक लोक नृत्य बरेदी और बधाई के स्टेप की जानकारी देने के साथ-साथ अभ्यास करवा रही हैँ। बच्चो को नृत्य के करतब के तहत मर घेरा-थाली घुमाना और मानव पिरामिड बनाना भी सिखाया जा रहा है।

बाल भवन में 11 मई को फैन्सी ड्रेस प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। इसमें बच्चों के तीन वर्ग बनाए गए हैं।

Á पहला वर्ग 5+ से 9+

Á दूसरा वर्ग 10+ से 12+

Á तीसरा वर्ग 13+ से 16+

इन तीन आयु वर्ग के बच्चे फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में भागीदारी करेंगे। तीनों वर्गों के विजेता बालभवन में ही पुरस्कृत किए जाएगा। प्रतियोगिता में वही बच्चों भाग ले सकेंगे। जिनके रजिस्ट्रेशन बाल भवन में हो चुके हैं। संभागीय अधिकारी रोहित बड़कुल ने बताया कि बाल भवन में कार्यशालाओं और प्रतियोगिता का सिलसिला जारी है। आगे भी चलता रहेगा। जो बच्चे इसमें सहभागिता करना चाहते हैं वे अपना पंजीयन संभागीय बालभवन में करा सकते हैं। इसके लिए बच्चों को स्कूल की अंकसूची की फोटो कॉपी, दो फोटो और पंजीयन शुल्क के रूप में 60 रुपए जमा करना होगा। पंजीयन एक वर्ष के लिए वैलिड रहता है। पंजीयन के बाद बच्चे बालभवन में आयोजित गतिविधियों में हर रोज भाग ले सकेंगे।

भास्कर संवाददाता| सागर

संभागीय बाल भवन में समय परिवर्तन के साथ ही बच्चों को आत्मरक्षा के लिए कराटे और उनकी नैसर्गिक प्रतिभा निखारने डांस क्लासेस चल रही हैं। बच्चों को कराटे से हाेने वाले लाभ बताने के साथ ही उन्हेें यह भी बताया जा रहा है कि इसके जरिए वे कैसे अपनी व परिवार के सदस्यों की सुरक्षा कर सकते हैं। वहीं बच्चों को फ्रंट किक, साइड किक, ब्लाकिंग , अपर मिडिल लोअर पंच प्रहार के गुर भी सिखाए जा रहे है। यह काम प्रशिक्षक नरेंद्र मिश्र बखूबी निभा रहे है। प्रशिक्षण के अगले चरण में बच्चे कराटे के अन्य दाव-पेंच सीखेंगे और अभ्यास करेंगे।

नृत्य अनुदेशक दीपाली भोजक बच्चोंं को बुंदेलखंड के परम्परिक लोक नृत्य बरेदी और बधाई के स्टेप की जानकारी देने के साथ-साथ अभ्यास करवा रही हैँ। बच्चो को नृत्य के करतब के तहत मर घेरा-थाली घुमाना और मानव पिरामिड बनाना भी सिखाया जा रहा है।

बाल भवन में 11 मई को फैन्सी ड्रेस प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। इसमें बच्चों के तीन वर्ग बनाए गए हैं।

Á पहला वर्ग 5+ से 9+

Á दूसरा वर्ग 10+ से 12+

Á तीसरा वर्ग 13+ से 16+

इन तीन आयु वर्ग के बच्चे फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में भागीदारी करेंगे। तीनों वर्गों के विजेता बालभवन में ही पुरस्कृत किए जाएगा। प्रतियोगिता में वही बच्चों भाग ले सकेंगे। जिनके रजिस्ट्रेशन बाल भवन में हो चुके हैं। संभागीय अधिकारी रोहित बड़कुल ने बताया कि बाल भवन में कार्यशालाओं और प्रतियोगिता का सिलसिला जारी है। आगे भी चलता रहेगा। जो बच्चे इसमें सहभागिता करना चाहते हैं वे अपना पंजीयन संभागीय बालभवन में करा सकते हैं। इसके लिए बच्चों को स्कूल की अंकसूची की फोटो कॉपी, दो फोटो और पंजीयन शुल्क के रूप में 60 रुपए जमा करना होगा। पंजीयन एक वर्ष के लिए वैलिड रहता है। पंजीयन के बाद बच्चे बालभवन में आयोजित गतिविधियों में हर रोज भाग ले सकेंगे।

बच्चों ने शिविर में देखे विज्ञान से जुड़े प्रयोग

भास्कर संवाददाता | सागर

अखिल भारतवर्षीय दिगंबर जैन महिला परिषद की शांतिनाथ शाखा द्वारा एकांगी रोड परकोटा में आयोजित विज्ञान शिविर में प्रतिभागी बच्चों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए। आयोजन में विज्ञान से जुड़ी नई जानकारियां एवं प्रयोगों से बच्चों को अवगत कराया जा रहा है। आठ दिवसीय शिविर में 50 बच्चे भाग ले रहे हैं। शाखा अध्यक्ष सुधा चौधरी के निवास पर शिविर में बच्चों को प्रमाण देकर प्रोत्साहित किया गया। इस अवसर पर मंजू जैन, नम्रता फुसकेले, कविता सेठ, संध्या रांधेलिया ने शिविर के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में आरती सवाई, अंजू सेठ, शकुंतला जैन, लक्ष्मी जैन, रजनी, माया, संगीता, वंदना, रूचि सीमा, ऋचा आदि उपस्थित रही।

लुहारी में विधान का आयोजन आज

सागर. मुनिश्री अजितसागर महाराज के ससंघ सानिध्य में लुहारी स्थित पाश्र्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर में मूलनायक पाश्र्वनाथ भगवान का महामस्तकाभिषेक और विधान का आयोजन मंगलवार को सुबह किया जा रहा है। सतीश मोदी ने बताया कि इस अवसर पर मुनिश्री के मंगल प्रवचन एवं आहारचर्या लुहारी में संपन्न होगी।

बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
X
बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
बाल भवन में बच्चे एक ओर कराटे के पंच तो दूसरी तरफ सीख रहे हैं बुंदेली लोक नृत्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..