• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Sagar
  • किसी को पात्र होने पर भी नहीं मिला प्रधानमंत्री आवास तो कोई टॉयलेट बनवाने के लिए परेशान
--Advertisement--

किसी को पात्र होने पर भी नहीं मिला प्रधानमंत्री आवास तो कोई टॉयलेट बनवाने के लिए परेशान

Sagar News - मंगलवार को हुई जनसुनवाई में आवेदन लेकर आए अधिकांश लोगों की शिकायतें इस बार एक सी ही रहीं। कोई शहरी क्षेत्र से आया...

Dainik Bhaskar

May 16, 2018, 05:00 AM IST
किसी को पात्र होने पर भी नहीं मिला प्रधानमंत्री आवास तो कोई टॉयलेट बनवाने के लिए परेशान
मंगलवार को हुई जनसुनवाई में आवेदन लेकर आए अधिकांश लोगों की शिकायतें इस बार एक सी ही रहीं। कोई शहरी क्षेत्र से आया तो ग्रामीण लेकिन उन्होंने आवेदन यही दिए कि पात्र होने के बाद भी उन्हें शासन की आवास, टॉयलेट जैसी योजनाओं से वंचित किया जा रहा है। जबकि कई ऐसे अपात्रों को पहले ही लाभ पहुंचा दिया गया जो या तो संपन्न हैं या फिर पूर्व में ही इन योजनाओं से लाभांवित हो चुके हैं।

ग्राम पंचायत गुड़ा से आए मुकेश कुर्मी ने बताया कि आखों से दिव्यांग है। शौचालय निर्माण कराने के लिए आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है, लेकिन उसे इस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। उसने घर पर टॉयलेट बनाने के लिए आर्थिक राशि दिलाने की मांग की। राहतगढ़ ब्लॉक हरि उमरिया गांव से आए रवींद्र घोषी ने बताया कि उसकी मां कुटीर योजना के लिए पात्र है, लेकिन उसे प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं दिया जा रहा है जबकि अपात्र लोगों को इसका लाभ दिया गया है।

जनसुनवाई में ग्राम पंचायत बिरोर से आए ग्रामीणों ने सरपंच सचिव द्वारा शासकीय योजनाओं में अनियमितता बरती जाने की शिकायत की। विट्ठल नगर वार्ड निवासी अरविंद अहिरवार ने आवेदन दिया कि पार्षद द्वारा अपात्र लोगों को एवं सरकारी कर्मचारियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत लाभ दिया जा रहा है। जबकि कुछ लोगों के मकान पहले से ही बने हुए हैं। केसली तहसील से आए धनीराम गुप्ता ने आवेदन दिया कि सरकारी हाई स्कूल एवं हायर सेकंडरी स्कूलों में मनमाने अवैधानिक तरीके से शुल्क वसूली की जा रही है। विकास शुल्क के नाम पर बच्चों से पैसे लिए जा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ स्कूलों में अवैधानिक रूप से बंदिया भी छाप ली गई हैं। इनकी जांच होना चाहिए। अखिल भारतीय बाल्मीकि अंशकालीन सफाई कर्मचारी संघ सदस्यों ने आवेदन दिया कि आदिम जाति कल्याण विभाग के अंशकालीन सफाई कर्मचारी को सिर्फ 2000 वेतन दिया जाता है। यह बढ़ाया जाए। देवरी ब्लॉक के आनंदपुरा निवासी राधेश्याम कुर्मी ने आवेदन दिया कि उन्हें भावांतर भुगतान योजना के तहत फसल बेचने के बाद राशि का भुगतान अब नहीं हुआ है।

परसोरिया में लोग दो किलोमीटर दूर से पानी लाने मजबूर

ग्राम पंचायत परसोरिया से आए किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष अफजल खान ने गांव में पेयजल व्यवस्था सुनिश्चित कराने की मांग की। उन्होंने बताया कि गांव के लोग दो किलोमीटर दूर से पानी लाने के लिए परेशान होते हैं। हंसरी गांव से आए गोरेलाल अहिरवार ने आवेदन दिया कि उसका अपनी प|ी से विवाद हुआ था इसके बाद उसने अपने भाई के साथ थाने में मेरी झूठी रिपोर्ट दर्ज कराई और थाने में बुलाकर ही मारपीट की। उसने बमनोरा थाने के पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

X
किसी को पात्र होने पर भी नहीं मिला प्रधानमंत्री आवास तो कोई टॉयलेट बनवाने के लिए परेशान
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..