• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • 10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
--Advertisement--

10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन

एमपी बोर्ड के कक्षा-10वीं और 12वीं के परिणाम सोमवार को जारी हो गए। हाई स्कूल में इस बार 69.41 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए।...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 05:10 AM IST
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
एमपी बोर्ड के कक्षा-10वीं और 12वीं के परिणाम सोमवार को जारी हो गए। हाई स्कूल में इस बार 69.41 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए। जो पिछले साल के मुकाबले 17.96 प्रतिशत ज्यादा है। वहीं हायर सेकंडरी का रिजल्ट 3.67 प्रतिशत सुधरकर इस बार 73.53 प्रतिशत पर पहुंच गया। जिले से 11 विद्यार्थियों ने प्रदेश की मेरिट सूची में जगह बनाई। इनमें से दो दिव्यांग छात्र दिव्यांगों वाली मेरिट में हैं। कक्षा-10वीं की मेरिट में पहले नंबर पर 500 में से एक समान 485 अंक लेकर 8 विद्यार्थी पहले नंबर पर रहे।

इस बार पास हुए विद्यार्थियों में से हर दूसरा विद्यार्थी प्रथम श्रेणी में पास हुआ। कक्षा-10वीं का रिजल्ट सुधरने का एक प्रमुख कारण बेस्ट ऑफ फाइव और शिक्षा विभाग के प्रयोग रहे। इसी साल से शुरू हुई बेस्ट ऑफ फाइव स्कीम में विद्यार्थी कक्षा-10वीं के कुल 6 में से किसी भी पांच विषयों में पास हुआ तो उसे पास ही माना गया। इस बार शिक्षा विभाग ने अपने स्तर पर रिजल्ट सुधारने के लिए कुछ प्रयोग भी किए। जिसके चलते भी रिजल्ट सुधरा। कमजोर विद्यार्थियों के लिए स्पेशल क्लास लगाई। अद्धवार्षिक और प्री-बोर्ड एग्जाम की फीडिंग पोर्टल पर हुई। इसी के आधार पर हुई जिलों की ग्रेडिंग से विद्यार्थियों की स्थिति पता लगती गई और आवश्यक संसाधन वहां मुहैया कराए गए। बेस्ट ऑफ फाइव को हटा दें तो शेष प्रयोग कक्षा-10वीं और 12वीं दोनों ही कक्षाओं के लिए एक से ही हुए।

ये 3 प्रयोग हुए थे इस साल

1. स्कूलों में रेमेडियल क्लासेस लगाईं गईं

2. तिमाही के रिजल्ट के आधार पर कमजोर बच्चों की पहचान कर शैक्षिक अभ्युत्थान की टीम के विशेषज्ञ शिक्षकों को पढ़ाने भेजा

3. जिलों की ग्रेडिंग से विद्यार्थियों की स्थिति पता लगती गई और आवश्यक संसाधन वहां मुहैया कराए गए।

प्रदेश और संभाग दोनों से ज्यादा रहा जिले का प्रतिशत

मध्यप्रदेश

कक्षा 10वीं

66.54%

कक्षा-12वीं

68.07%

ऐसा रहा 10वीं का रिजल्ट

छात्र छात्राएं कुल

परीक्षा में शामिल 16567 15849 32414

पास हुए 10857 11644 22501

प्रथम श्रेणी 5219 6267 11486

पास होने का प्रतिशत 65.54 73.46 69.41

ऐसा रहा 12वीं का रिजल्ट

छात्र छात्राएं कुल

परीक्षा में शामिल 12879 12395 25274

पास हुए 8859 9617 18476

प्रथम श्रेणी 4127 5109 9236

पास होने का प्रतिशत 69.24 77.97 73.53

संभाग

कक्षा 10वीं

67.74%

कक्षा-12वीं

70.82%

सागर जिला

कक्षा 10वीं

69.41%

कक्षा-12वीं

73.53%

रिजल्ट का ट्रेंड : अलग-अलग दृष्टिकोण से इस तरह समझिए- साइंस, छात्राएं और कस्बे फिर आगे

79.05%

के साथ विज्ञान फिर टॉप पर, अन्य संकायों में भी सुधार

इस बार भी वर्ष 2017 की तरह विज्ञान संकाय के विद्यार्थी आगे रहे। 2017 में इस विषय में 79.23 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे। इस बार भी 79.05 प्रतिशत छात्र पास हुए। पिछले साल जहां कॉमर्स में 75.21 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे। इस बार प्रतिशत बढ़कर 77.40 हो गया। एग्रीकल्चर में पिछले साल के 74.01 के मुकाबले 74.39 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए। वहीं ह्यूमैनिटीज में पिछले साल के 61.05 प्रतिशत के मुकाबले इस बार 69.20 प्रतिशत छात्र पास हुए।

अनपढ़ मां व ड्राइवर पिता के बेटे ने किया जिले में टॉप, पढ़ाई के साथ खेल, टीवी के लिए समय निकालकर भी ये बने टॉपर

कक्षा 10वीं में यह रहे जिले में अव्वल

1st

1st

वंदना साहू

गर्व.हा.से. स्कूल बीना (97%)

कक्षा 12वीं में यह रहे जिले में अव्वल

1st

अंशिका राजपूत सरस्वती शिशु मंदिर जैसीनगर (97%)

ह्यूमैनिटीज संकाय

1st

अभिषेक दांगी

सरस्वती िशशु मंदिर खुरई (97%)

1st

अनिकेश यादव

शास.हा.से. स्कूल

जरुआखेड़ा (87%)

1st

रितु पटेल सरस्वती शिशु मंदिर जैसीनगर (97%)

2nd

नैन्सी खरे

आदर्श सरस्वत शिशु मंदिर, सागर (96.8%)

2nd

मेहसर कसाई एमएलबी स्कल-2 सागर (86.8%)

09%

आगे रहीं बेटियां जबकि लिंगानुपात देंखे तो 1 हजार बेटों पर 107 बेटियां कम

जिले का लिंगानुपात 2011 की जनगणना में प्रति हजार पुरुषों पर 893 महिलाओं का था। इस हिसाब से देखा जाए तो प्रति हजार पर 107 बेटियां कम हैं। इसके बाद भी हाई और हायर सेकंडरी स्कूल दोनों के ही रिजल्ट में छात्राआें ने छात्रों के मुकाबले अधिक बेहतर प्रदर्शन किया है। हाई स्कूल में जहां छात्र 65.54 प्रतिशत पास हुए वहीं छात्राएं 73.46 प्रतिशत पास हुईं। इसी प्रकार 12वीं में छात्रों के 69.24 प्रतिशत के मुकाबले 77.97 प्रतिशत छात्राएं पास हुईं। कक्षा-10वीं में जिले में शामिल 13 विद्यार्थियों में से 8 छात्राएं हैं।

1st

अरुण कुर्मी सरस्वती शिशु मंदिर बीना (97%)

विज्ञान संकाय

1st

वैष्णवी पटेल

सरस्वती हा.से. स्कूल गढ़ाकोटा (97%)

2nd

अमृत्य सेन

सरस्वती शिशु मंदिर सागर (96.8%)

1st

भूपेंद्र सिंह राजपूत शा.हा.से. स्कूल

गढ़ौलाजागीर (94%)

2nd

दीपिका राय एक्सीलेंस स्कूल सागर (93.8%)

1st

सौम्या भटयारा

सरस्वती हा.से. स्कूल गढ़ाकोटा (97%)

2nd

आंशी साहू एक्सीलेंस स्कूल सागर (96.8%)

3nd

सौरभ पाल शास.हा.से. स्कूल

देवरी (93.6%)

12वीं : स्कूलों की ग्रेडिंग, कमजोर छात्रों की पहचान से 3.67% आया सुधार

1st

सारिका ठाकुर

सरस्वती हा.से. स्कूल रहली (97%)

3rd

नीलम दांगी सरदार पटेल हा.से. स्कूल, बीना (96.6%)

कॉमर्स संकाय

1st

नीतेश पालीवाल एसपी जैन गुरुकुल हा.से. स्कूल, खुरई (92.8%)

72.72%

इस बार ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों का दबदबा रहा, जो 11 विद्यार्थी कक्षा-10वीं में प्रदेश की मेरिट में आए हैं, उनमें से 7 ग्रामीण क्षेत्र के हैं। वहीं जिले की मेरिट सूची में कक्षा 10वीं में टॉप-3 में शामिल 13 विद्यार्थियों में से 10 ग्रामीण अंचल के हैं। कक्षा 12वीं में अलग-अलग संकाय के जिन 9 विद्यार्थियों ने मेरिट में जगह बनाई है, उनमें 7 गांवों से हैं।

पहले स्थान पर एक साथ 8 छात्र, जिले की मैरिट में कुल 22 विद्यार्थी

इस बार प्रदेश से लेकर जिले तक की मेरिट में विद्यार्थियों में एक-एक नंबर को लेकर काफी जद्दोजहद रही। कक्षा 10वीं की जिले की मेरिट में 8 विद्यार्थी पहले नंबर पर रहे। हाई और हायर सेकंडरी में कुल 22 विद्यार्थी टॉप-3 में रहे।

प्रदेश की मेरिट में कक्षा-10वीं में ऐसी रही सागर की उपस्थिति :
6070 को सप्लीमेंट्री, डीईओ बोले-15 जून से लगेंगी स्पेशल क्लासेस

कक्षा-10वीं और 12वीं के रिजल्ट में 6070 विद्यार्थियों के लिए सप्लीमेंट्री आई है। इनमें 2216 कक्षा-12वीं और 3854 कक्षा-10वीं के विद्यार्थी हैं। डीईओ संतोष शर्मा ने बताया कि इन विद्यार्थियों के लिए 15 जून से स्पेशल क्लासेस लगवाई जाएंगी। विद्यार्थी पहले चाहेंगे तो पहले भी यह विशेष क्लासेस शुरू कर दी जाएंगी। इन कक्षाओं में वे विद्यार्थी भी पढ़ सकेंगे जो रूक जाना नहीं योजना के लिए फार्म भर रहे हैं।

बच्चे ग्रामीण क्षेत्र से मेरिट में, प्रदेश- जिले दाेनों में दबदबा

10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
X
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
10वीं : बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति और कुछ प्रयोगों ने 18% सुधारा रिजल्ट; जिले में हर दूसरा विद्यार्थी फर्स्ट डिवीजन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..