• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • राजघाट में जून तक का पानी, सप्लाई में कटौती कर रोकी फिजूलखर्ची
--Advertisement--

राजघाट में जून तक का पानी, सप्लाई में कटौती कर रोकी फिजूलखर्ची

राजघाट बांध में अभी जून तक के लिए पानी बचा है। सोमवार को वाटर लेवल 508.94 मीटर था, जो कि पिछले साल से 2 सेमी ज्यादा है। यदि...

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 05:10 AM IST
राजघाट में जून तक का पानी, सप्लाई में कटौती कर रोकी फिजूलखर्ची
राजघाट बांध में अभी जून तक के लिए पानी बचा है। सोमवार को वाटर लेवल 508.94 मीटर था, जो कि पिछले साल से 2 सेमी ज्यादा है। यदि मानसून लेट नहीं हुआ तो इस बार पीने के पानी के लिए शहर के लोगों को निगम के टेंकरों व अन्य जल स्त्रोतों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।

दूसरी तरफ नगर निगम ने दैनिक भास्कर में प्रकाशित वाटर ऑडिट संबंधी खबर के बाद पानी सप्लाई के समय में 10-15 मिनट की कटौती कर पानी की फिजूलखर्ची पर रोक लगाई है। इससे अब दो दिन छोड़कर पानी देने की स्थिति नहीं बनेगी। वहीं पंपिंग घटने से बिजली का खर्च भी बचेगा।

भास्कर ने वाटर ऑडिट के जरिए बताया था कितने पानी की है फिजूलखर्ची

भास्कर ने 20 मार्च के अंक में वाटर ऑडिट के जरिए बताया था कि सप्लाई हाे रहे पानी से कितना पानी फिजूल में ही बह रहा है। मांग से कितना ज्यादा पानी घरों की टंकियों में पहुंच रहा है। इसी अाधार पर निगम ने पानी सप्लाई के समय में कटौती की है। पहले 45 मिनट तक पानी सप्लाई हो रहा था। अब कहीं 30 तो कहीं 35 मिनट ही नलों से पानी आ रहा है। फीडर व मेन लाइन से कनेक्शन वाले स्थानों पर अभी भी घंटों पानी सप्लाई हो रहा है।

समय में कटौती से दिन में कटौती : महापौर अभय दरे का दावा है कि पानी सप्लाई के समय में 10-15 मिनट की कटौती करने से हम अब मानसून आने तक पहले की तरह एक दिन छोड़कर पानी देने की स्थिति में है। यदि पानी के समय में कटौती न की जाती तो दो दिन छोड़कर पानी देने के हालात भी बन सकते थे। राजघाट में बांध में जून तक का पानी है।

धर्मश्री में जेसीबी से टूटी पाइप लाइन : अंबेडकर वार्ड के धर्मश्री में नाली निर्माण के दौरान ठेकेदार ने जेसीबी पाइप लाइन फोड़ दी। जिससे पानी बर्बाद हो गया। नगर निगम ने मेंटेनेंस कराकर ठेकेदार को नोटिस देने की बात कही है।

X
राजघाट में जून तक का पानी, सप्लाई में कटौती कर रोकी फिजूलखर्ची
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..