• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • उत्तर भारत के आंधी तूफान के कारण इस साल 5 दिन पहले आ सकता है मानसून
--Advertisement--

उत्तर भारत के आंधी तूफान के कारण इस साल 5 दिन पहले आ सकता है मानसून

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार उत्तर भारत में आए आंधी-तूफान और दक्षिण भारत मंे बढ़ते तापमान के कारण इस बार मानसून 4-5...

Danik Bhaskar | May 13, 2018, 05:15 AM IST
मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार उत्तर भारत में आए आंधी-तूफान और दक्षिण भारत मंे बढ़ते तापमान के कारण इस बार मानसून 4-5 दिन पहले दस्तक दे सकता है। बारिश भी अच्छी होगी। आंधी-तूफान के कारण मानसून कम-ज्यादा नहीं होगा, बल्कि इसके समय में परिवर्तन हो सकता है। इस संदर्भ मंे एग्रोमीट्रियोलॉजिस्ट डॉ. रामचंद्र साबले ने बताया कि डस्ट स्टॉर्म हर साल होने वाली प्रक्रिया है। यह एक प्री मानसून एक्टिविटी है। इस साल अरब सागर से आने वाली गर्म हवा राजस्थान से पूर्व की ओर तेज रफ्तार से बहने लगी, उसी समय उत्तर-पश्चिम में वेस्टर्न डिस्टर्बन्स मौजूद होने से आंधी तूफान का असर बढ़ गया। ठीक इसी समय उत्तर भारत में हवा का दाब 1000 से 1002 हेप्टा पास्कल (हवा के दाब की यूनिट) रहा, इस वजह से चक्रवात को बढ़ावा मिला। दक्षिण भारत मंे भी लू जैसी स्थिति हो गई। इसका मतलब है की मानसून इस साल भारतीय उपखंड में जल्द दस्तक देने की तैयारी में है। ऐसे ही हालात रहे तो मानसून 4 से 5 दिन पहले यानी 25 मई को केरल मंे पहुंच सकता है। आमतौर पर केरल मंे 1 जून तक मानसून आता है। डॉ. साबले ने बताया कि अगर कश्मीर पर 1002 हेप्टा पास्कल, राजस्थान में 1004, महाराष्ट्र में 1006, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश मंे 1004 और उसी वक्त हिंद महासागर में 1008 और इक्वेटर पर 1010 हेप्टा पास्कल हवा का दाब रहेगा तो मानसून केरल मंे 25 मई को दाखिल हो सकता है।