Hindi News »Madhya Pradesh »Sagar» नालों का सीमांकन कर नापा था अतिक्रमण; कार्रवाई तो हुई नहीं, रिपोर्ट ही गायब कर दी

नालों का सीमांकन कर नापा था अतिक्रमण; कार्रवाई तो हुई नहीं, रिपोर्ट ही गायब कर दी

नगर निगम और राजस्व विभाग की टीम ने दो साल पहले शहर के नालों का सीमांकन कराकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई प्रस्तावित...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 09, 2018, 05:25 AM IST

  • नालों का सीमांकन कर नापा था अतिक्रमण; कार्रवाई तो हुई नहीं, रिपोर्ट ही गायब कर दी
    +1और स्लाइड देखें
    नगर निगम और राजस्व विभाग की टीम ने दो साल पहले शहर के नालों का सीमांकन कराकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई प्रस्तावित की थी। एक-एक नाला नाप कर देखा था कि कहां-कितने हिस्से में मकान बन गए। रिपोर्ट तैयार हुई, लेकिन जब कब्जे हटाने की बारी आई तो दोनों विभागों को सांप सूंघ गया। कार्रवाई ऐसी थमी कि दोबारा उस पर चर्चा भी नहीं हुई। यहां तक कि अतिक्रमणकारियों ने निगम के पीडब्ल्यूडी विभाग से वह रिपोर्ट तक गायब करा दी। नालों से अतिक्रमण हटाकर उन्हें साफ न किया तो इस बार भी बरसाती पानी निचली बस्तियों के घरों में भरना तय मानिए।

    मधुकरशाह वार्ड का नाला 20 फीट का था, बचा 8 फीट

    विश्वविद्यालय पहाड़ी से पूरे फोर्स के साथ आने वाले बरसाती पानी को शहर से बाहर निकलने वाला सबसे लंबा नाला मधुकरशाह वार्ड में जेल के पीछे से निकलता है। सरकारी रिकॉर्ड में यह नाला 20 फीट चौड़ा है, जबकि अतिक्रमण से कहीं 7 तो कहीं 8 फीट ही बचा है। सीमांकन के दौरान मधुकर शाह वार्ड से लोक प्लाजा तिली तक नाले पर कई जगह अतिक्रमण पाया गया था। राजस्व अमले ने नाले पर बनी बाउंड्रीवाल पर अतिक्रमण का निशान लगाया था। निगम ने संबंधित लोगों के दस्तावेज मंगाए थे।

    भास्कर सरोकार

    नालों पर अतिक्रमण की गंदगी

    ये देखिए, कितने सिकुड़ गए शहर के बड़े नाले, सफाई के लिए अब जेसीबी नहीं जा पाती

    स्थान : परमानंद व पोद्दार काॅलोनी

    20 से घटकर 8 फीट का बचा नाला

    पंतनगर में अवैध कॉलोनी से सिकुड़ गया नाला

    पंतनगर वार्ड में पहले नाले के बाजू से अवैध कॉलोनी काटी गई। धीरे-धीरे नाले के आधे से अधिक हिस्से पर प्लॉट काट दिए गए। नाला सिकुड़ गया। अब बरसात में यहां से पानी निकासी न होने से आसपास के घरों में पानी भरना तय है। वार्ड पार्षद शारदा कोरी का कहना है कि कई बार निगम परिषद की बैठक में यह बात उठाई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

    इन नालों पर भी अतिक्रमण

    मोतीनगर वार्ड में लिंक रोड से निकले नाले के ऊपर ही रैंप बनाकर उस पर गाड़ियां रखी जा रही हैं। कबूलापुल से मोमिनपुरा, सुभाषनगर श्मशान घाट, विठ्ठल नगर पानी की टंकी से मोमिनपुरा, छत्रसाल अखाड़े से रेलवे अंडर ब्रिज, भगवानगंज तुलसीनगर, तिलकगंज मीट मार्केट नाला, मधुकरशाह वार्ड नाला, इंद्रानगर एवं गौर नगर वार्ड नाला, वृंदावन वार्ड नाला, तिली वार्ड नाला, सूबेदार वार्ड नाला, संत रविदास वार्ड नाला एवं रविशंकर वार्ड एवं राजीवनगर वार्ड नालों पर भी किए गए अतिक्रमण को निगम नजरअंदाज कर रहा है।

    स्थान : लोकप्रिय हॉिस्पटल के बाजू में

    15 फीट से घटकर 5 फीट बचा नाला

    फोटो | मनुज नामदेव

    Ã महापौर अभय दरे का कहना कि नालों का अतिक्रमण हटना तय है। मुझे जानकारी मिली है कि पहले नालों का सीमांकन कराया गया था। बरसात के पहले नालों की सफाई का काम शुरू करा दिया है। जहां अतिक्रमण होगा उसे भी हटवाएंगे।

    Ã निगम कमिश्नर अनुराग वर्मा का कहना है कि कल ही नालों के सीमांकन की रिपोर्ट तलब करूंगा। इसके बाद कार्रवाई क्यों आगे नहीं बढ़ी इस बारे में जिम्मेदार इंजीनियरों से बात करूंगा। बरसात से पहले यह काम होगा ही यह तय मानिए।

  • नालों का सीमांकन कर नापा था अतिक्रमण; कार्रवाई तो हुई नहीं, रिपोर्ट ही गायब कर दी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×