• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • अब सिर्फ 11 व 12 को विवाह के मुहूर्त, अधिकमास के बाद 19 जून से फिर बजेगी शहनाई
--Advertisement--

अब सिर्फ 11 व 12 को विवाह के मुहूर्त, अधिकमास के बाद 19 जून से फिर बजेगी शहनाई

इस बार ज्येष्ठ अधिकमास के चलते मई में अब केवल दो यानी 11 और 12 को विवाह के मुहूर्त हैं। इसके बाद 13 जून तक विवाह आदि मंगल...

Danik Bhaskar | May 09, 2018, 05:25 AM IST
इस बार ज्येष्ठ अधिकमास के चलते मई में अब केवल दो यानी 11 और 12 को विवाह के मुहूर्त हैं। इसके बाद 13 जून तक विवाह आदि मंगल कार्य नहीं हो सकेंगे। फिर 19 जून से विवाह के मुहूर्त शुरू होंगे, यह 10 जुलाई तक रहेंगे। इस साल जून में विवाह के सबसे अधिक मुहूर्त हैं। पंडितों के मुताबिक इसके बाद इस साल विवाह के मुहूर्त पंचांगों ने नहीं दिए गए हैं।

इस साल ज्येष्ठ अधिकमास है। इसमें प्रतिष्ठा, कर्म, विवाह आदि मंगल कार्य वर्जित हैं। व्रत, दान, उपवास, पारायण आदि कार्य का अक्षय पुण्य मिलता है। ऐसे में विवाह आदि मंगल कार्य नहीं होंगे। मई में भी विवाह के अब सिर्फ दो मुहूर्त 11 और 12 मई के हैं। पं. राम गोविंद शास्त्री के अनुसार 10 जुलाई तक विवाह के मुहूर्त हैं। 23 जुलाई से 19 नवंबर तक देवशयन काल रहेगा। देवउठनी एकादशी के साथ विवाह के मुहूर्त शुरू हो जाते हैं, लेकिन 17 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक शुक्र का तारा अस्त रहेगा। वहीं, गुरु का तारा 12 नवंबर से अस्त हो जाएगा, जो 7 दिसंबर को उदित होगा। 16 दिसंबर से मलमास लग जाएगा, जो 14 जनवरी तक रहेगा। ऐसे में विवाह के मुहूर्त अगले साल मकर संक्रांति के बाद ही हैं।

विवाह के मुहूर्त

की तारीखें



हालांकि अलग-अलग पंचांगों ने अलग-अलग विवाह के मुहूर्त दिए हैं।