--Advertisement--

कलेक्टर की आपत्ति पर जागा आबकारी, अहाते किए सील

अंग्रेजी शराब दुकानों के बाजू में रेस्टोरेंट और अहातों के नाम पर चल रहे अवैध अहातों को आबकारी विभाग ने सील कर दिया...

Dainik Bhaskar

May 09, 2018, 05:25 AM IST
अंग्रेजी शराब दुकानों के बाजू में रेस्टोरेंट और अहातों के नाम पर चल रहे अवैध अहातों को आबकारी विभाग ने सील कर दिया है। विभाग ने यह कार्रवाई नई आबकारी नीति के लागू होने के एक महीने बाद की है।

जानकारी के मुताबिक सहायक आबकारी आयुक्त यशवंत धनौरा और अधीनस्थ अमले ने कटरा बाजार, गुजराती बाजार और रेलवे स्टेशन के सामने चल रहे अवैध अहातों को बंद करा दिया। इस दौरान इन रेस्टोरेंट कम अहाता मालिकों ने कार्रवाई को लेकर सफाई देने की कोशिश की।

उन्होंने विभाग की टीम को शराब पीना मना है आदि के पोस्टर-स्टिकर वगैरह दिखाए। लेकिन जब टीम के सदस्यों ने अहातों के भीतर बड़े-बड़े बोरों में शराब के बारदाने दिखाए तो उनकी बोलती बंद हो गई।

शराब परोसना तो ठीक बेच तक रहे थे अहाता संचालक : अवैध अहातों को लेकर आबकारी विभाग की यह कार्रवाई करीब 40 दिन लेट है जबकि राज्य सरकार ने 01 अप्रैल से शुरू हुई नई आबकारी नीति में पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि अंग्रेजी शराब की दुकानों के बाजू में कोई भी अहाता नहीं रहेगा। लेकिन ठेकेदारों ने इसका तोड़ अहाता शब्द हटाकर रेस्टाेरेंट कर निकाल दिया था।

इधर इन अहातों में शराब दुकान बंद होने के बाद से लेकर शहर के गली-कूचों में शराब की सप्लाई के रूप में उपयोग हो रहा था। यहां बता दें कि अहातों के नाम पर आबकारी विभाग पिछले वित्त वर्ष में ठेकेदारों से सालाना लाइसेंस फीस की दो प्रतिशत राशि अलग से वसूल करता था। इससे शासन को अकेले सागर जिले से करीब 50 लाख रु. की अतिरिक्त आय होती थी। लेकिन इन अवैध अहातों के कारण यह रकम शराब ठेकेदारों की पॉकेट में जाना शुरू हो गई थी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..