• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • मेरिट में सागर से 11 विद्यार्थी; इनमें 2 दिव्यांग, 5 छात्राएं भी, 4 शहर और 7 ग्रामीण क्षेत्र से
--Advertisement--

मेरिट में सागर से 11 विद्यार्थी; इनमें 2 दिव्यांग, 5 छात्राएं भी, 4 शहर और 7 ग्रामीण क्षेत्र से

माशिमं भोपाल द्वारा बोर्ड परीक्षा कक्षा-10वीं और 12वीं का रिजल्ट सोमवार को घोषित कर दिया जाएगा। इस बार की मेरिट सूची...

Danik Bhaskar | May 14, 2018, 05:30 AM IST
माशिमं भोपाल द्वारा बोर्ड परीक्षा कक्षा-10वीं और 12वीं का रिजल्ट सोमवार को घोषित कर दिया जाएगा। इस बार की मेरिट सूची में सागर के 11 विद्यार्थियों ने जगह बनाई है। इनमें दो विद्यार्थी आखों से दिव्यांग भी हैं। यह रिकॉर्ड है, जिले से इसके पहले कभी भी एक साथ 11 विद्यार्थी प्रदेश की मेरिट में नहीं आए हैं। भोपाल से इन विद्यार्थियों को बुलावा आ गया है।

सोमवार को रिजल्ट खुलने के साथ ही मुख्यमंत्री इन सभी विद्यार्थियों को सम्मानित करेंगे। वर्ष 2012 से लगातार छठवीं साल 12वीं में सागर से एक भी विद्यार्थी ने मेरिट में जगह नहीं बनाई है। जिले से कक्षा-10वीं में 43 हजार 650 एवं कक्षा-12वीं में 29 हजार 611 छात्रों ने परीक्षा दी थी।

पिछले पांच सालों से ऐसा आ रहा है जिले का परिणाम

वर्ष 10वीं 12वीं

2017 51.45% 69.86%

2016 55.85% 80.50%

2015 50.40% 68.19%

2014 45.82% 59.67%

2013 35.11% 58.93%

घबराएं नहीं, प्रदेश में हर तीसरा तो सागर में दूसरा विद्यार्थी रुक जाना नहीं से पास

रुक जाना नहीं योजना से दो साल में 3 लाख विद्यार्थियों ने परीक्षा दी। इनमें से 98 हजार 965 विद्यार्थी पास होकर अगली कक्षाओं में पहुंचे। बात सागर की करें तो दो साल में करीब 15 हजार विद्यार्थियों ने रुक जाना नहीं की परीक्षा दी। इनमें 8000 हजार विद्यार्थी पास हुए। यानी प्रदेश में जहां हर तीसरा विद्यार्थी इसमें पास हो रहा है तो सागर में हर दूसरा विद्यार्थी इसमें पास होकर अगली कक्षा में पहुंचा।

चिंता न करें, जुलाई में आ जाएगा रिजल्ट, नहीं होगी साल खराब

जिनका रिजल्ट बिगड़ता है तो वे घबराएं बिल्कुल भी नहीं। रुक जाना नहीं योजना के फॉर्म 14 मई से ऑनलाइन जमा होना शुरू हो जाएंगे। यह 25 अप्रैल तक जमा होंगे। फेल होने वाले विद्यार्थी यह फॉर्म भरकर 20 जून से शुरू होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। जुलाई में इसका रिजल्ट आ जाएगा।

यह करेंगे काउंसिलिंग, परामर्श भी मिलेगा






किसी की मां सिलाई करती हैं तो किसी के पिता हैं मजदूर-किसान

Ãसरस्वती शिशु मंदिर स्कूल की छात्रा गरिमा के पिता यशवंत विपिन रूसिया अगरबत्ती कंपनी में सेल्समैन हैं।

गरिमा रूसिया

राज सोनी

रविकांता

प्रहलाद

à सरस्वती शिशु मंदिर लक्ष्मीपुरा के छात्र राज के पिता देवेंद्र सोनी सुनारी मजदूरी करते हैं।

à शिशु मंदिर बंडा की छात्रा रविकांता के पिता प्रताप सिंह लोधी किसान हैं।

अंध-मूकबधिर शाला के प्रहलाद मूलत: बंडा ब्लॉक के बारछा गांव के रहने वाले हैं। उनके पिता महाराज सिंह किसान हैं। प्रहलाद मुख्यमंत्री शिवराज की हूबहू मिमिक्री करते हैं। सोमवार को उन्हें सीएम खुद सम्मानित करेंगे। प्रहलाद के साथ ही सम्मानित होने जा रहे उनके सहपाठी भूपेंद्र सिंह के पिता गोविंद सिंह भी किसान हैं।

विभोर भट्‌ट

संध्या ठाकुर

अनीह कार्तिक

Ãसरस्वती शिशु मंदिर जैसीनगर के छात्र विभोर के पिता बृजेश भट्ट कृषि कार्य करते हैं।

à जैसीनगर सरस्वती शिशु मंदिर की छात्रा संध्या के पिता रजनीश सिंह ठाकुर के पिता किसान हैं।

à सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल जैसीनगर के छात्र अनीह कार्तिक के पिता अश्विनी दुबे शिक्षक हैं।

श्रेया जैन

साक्षी पटेल

शिवानी दांगी

Ãसरस्वती शिशु मंदिर गढ़ाकोटा की छात्रा श्रेया जैन की मां सिलाई का काम करती हैं तो पिा मुकेश जैन मजदूरी करते हैं।

à सरस्वती शिशु मंदिर की छात्रा साक्षी के पिता डालचंद पटेल इमलिया गांव में किसानी का काम करते हैं।

à पंडित बीडी मैमोरियल हायर सेकंडरी स्कूल की छात्रा शिवानी के पिता जितेंद्र दांगी किसान हैं।

कमलेश