• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sagar
  • 5 राज्यों और केंद्रशासित लक्षद्वीप में चक्रवाती तूफान ‘सागर’ का खतरा
--Advertisement--

5 राज्यों और केंद्रशासित लक्षद्वीप में चक्रवाती तूफान ‘सागर’ का खतरा

देश के कई हिस्से में आंधी-तूफान के बीच कई तटीय राज्यों को चक्रवाती तूफान सागर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। अदन की...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 06:10 AM IST
देश के कई हिस्से में आंधी-तूफान के बीच कई तटीय राज्यों को चक्रवाती तूफान सागर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। अदन की खाड़ी में यह चक्रवात उठा है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में गुरुवार को भी धूल भरी आंधी आई और बारिश हुई। इससे कई पेड़ उखड़ गए और कई स्थानों पर सड़क मार्ग बाधित हुअा। दिल्ली में शाम को अचानक मौसम बदला और इस दौरान करीब 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। वहीं तेलंगाना के हैदराबाद में आंधी-तूफान से 162 पेड़ उखड़ गए। इस दौरान ग्रेटर हैदराबाद में 5 सेंमी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और लक्षद्वीप में चक्रवाती तूफान “सागर’ की चेतावनी दी है। मछुआरों को समुद्र से लौटने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग के अनुसार अदन की खाड़ी में समुद्री चक्रवात “सागर’ उठा है। अगले 12 घंटों में यह भारत की ओर बढ़ेगा। इससे शुक्रवार, शनिवार और रविवार को पश्चिम, दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम हिस्सों में तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने कहा है कि इस पश्चिमी चक्रवात के कारण अगले तीन दिनों के दौरान देश के कई हिस्सों में आंधी-तूफान और बारिश होगी। हालांकि इससे गुजरात का तटीय हिस्सा ज्यादा प्रभावित नहीं होगा। चक्रवात को देखते हुए एहतियातन राज्य के सभी बंदरगाहों पर नंबर दो सिग्नल की चेतावनी जारी की गई है।

दिल्ली सहित उत्तर भारत में फिर आंधी-तूफान

एजेंसी | नई दिल्ली

देश के कई हिस्से में आंधी-तूफान के बीच कई तटीय राज्यों को चक्रवाती तूफान सागर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। अदन की खाड़ी में यह चक्रवात उठा है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में गुरुवार को भी धूल भरी आंधी आई और बारिश हुई। इससे कई पेड़ उखड़ गए और कई स्थानों पर सड़क मार्ग बाधित हुअा। दिल्ली में शाम को अचानक मौसम बदला और इस दौरान करीब 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। वहीं तेलंगाना के हैदराबाद में आंधी-तूफान से 162 पेड़ उखड़ गए। इस दौरान ग्रेटर हैदराबाद में 5 सेंमी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और लक्षद्वीप में चक्रवाती तूफान “सागर’ की चेतावनी दी है। मछुआरों को समुद्र से लौटने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग के अनुसार अदन की खाड़ी में समुद्री चक्रवात “सागर’ उठा है। अगले 12 घंटों में यह भारत की ओर बढ़ेगा। इससे शुक्रवार, शनिवार और रविवार को पश्चिम, दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम हिस्सों में तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने कहा है कि इस पश्चिमी चक्रवात के कारण अगले तीन दिनों के दौरान देश के कई हिस्सों में आंधी-तूफान और बारिश होगी। हालांकि इससे गुजरात का तटीय हिस्सा ज्यादा प्रभावित नहीं होगा। चक्रवात को देखते हुए एहतियातन राज्य के सभी बंदरगाहों पर नंबर दो सिग्नल की चेतावनी जारी की गई है।

7 राज्यों में अगले 3 दिनों में आंधी-तूफान की संभावना

चक्रवात के कारण जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, यूपी, राजस्थान, दिल्ली, उसके आसपास, पश्चिमी यूपी में अगले तीन दिनों में आंधी-तूफान आने की संभावना है।

एजेंसी | नई दिल्ली

देश के कई हिस्से में आंधी-तूफान के बीच कई तटीय राज्यों को चक्रवाती तूफान सागर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। अदन की खाड़ी में यह चक्रवात उठा है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में गुरुवार को भी धूल भरी आंधी आई और बारिश हुई। इससे कई पेड़ उखड़ गए और कई स्थानों पर सड़क मार्ग बाधित हुअा। दिल्ली में शाम को अचानक मौसम बदला और इस दौरान करीब 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। वहीं तेलंगाना के हैदराबाद में आंधी-तूफान से 162 पेड़ उखड़ गए। इस दौरान ग्रेटर हैदराबाद में 5 सेंमी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और लक्षद्वीप में चक्रवाती तूफान “सागर’ की चेतावनी दी है। मछुआरों को समुद्र से लौटने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग के अनुसार अदन की खाड़ी में समुद्री चक्रवात “सागर’ उठा है। अगले 12 घंटों में यह भारत की ओर बढ़ेगा। इससे शुक्रवार, शनिवार और रविवार को पश्चिम, दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम हिस्सों में तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने कहा है कि इस पश्चिमी चक्रवात के कारण अगले तीन दिनों के दौरान देश के कई हिस्सों में आंधी-तूफान और बारिश होगी। हालांकि इससे गुजरात का तटीय हिस्सा ज्यादा प्रभावित नहीं होगा। चक्रवात को देखते हुए एहतियातन राज्य के सभी बंदरगाहों पर नंबर दो सिग्नल की चेतावनी जारी की गई है।