• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Sagar
  • विस्थापितों को न्याय न मिलने पर तहसील परिसर में दी आत्महत्या करने की चेतावनी
--Advertisement--

विस्थापितों को न्याय न मिलने पर तहसील परिसर में दी आत्महत्या करने की चेतावनी

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 06:15 AM IST

Sagar News - भास्कर संवाददाता| तेंदूखेड़ा जनपद सभा कक्ष में एसडीएम बृजेंद्र रावत की उपस्थिति में सामूहिक जनसुनवाई हुई।...

विस्थापितों को न्याय न मिलने पर तहसील परिसर में दी आत्महत्या करने की चेतावनी
भास्कर संवाददाता| तेंदूखेड़ा

जनपद सभा कक्ष में एसडीएम बृजेंद्र रावत की उपस्थिति में सामूहिक जनसुनवाई हुई। जिसमें तिंदनी के विस्थापन के प्रकरण में मुन्ना अहिरवार, मानसिंह ने कहा कि कलेक्टर की जनसुनवाई में 4 सप्ताह पहले आवेदन दिया था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इस दौरान मुन्ना अहिरवार ने कहा कि यदि अगले मंगलवार तक हम लोगों की सुनवाई नहीं हुई तो बुधवार को तहसील परिसर में आत्महत्या करू लूंगा। यह सुनकर एसडीएम ने तत्काल ही सभी अधिकारियों के समक्ष पंचनामा बनवाया और कहा कि इसे आज ही कलेक्टर, एसपी व संबंधित थाना को भेजा जाएगा।

ग्राम पंचायत बमनोदा के गोजनसिंह, कुसमबाई, हुकम, राजाराम ने कहा कि सचिव द्वारा पीएम आवास की मजदूरी की राशि का भुगतान आज तक नहीं मिला है। हम लोगों ने 7 माह पूर्व काम किया था। सचिव से अगर राशि मांगने जाते हैं तो झूठे केश में फंसाने की धमकी दी जाती हैं। बहुत से लोगों की पीएम आवास की मजदूरी का पैसा नहीं मिला है। अधिकारियों से सचिव के ऊपर कार्रवाई करने की मांग की।

ग्राम बमनोदा के राजाराम, विष्णु, बालकिशन ने आवेदन देकर कहा कि सचिव के कहने पर एक वर्ष पूर्व शौचालय का निर्माण कराया था, सचिव ने सारे कागज ले लिए लेकिन आज तक शौचालय की राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है।

इस दौरान तहसीलदार मोनिका बाघमारे, जनपद सीईओ मनीष बागरी, सीएमओ शशांक शैडें, नायब तहसीलदार रोहित सिंह राजपूत, एसडीओ पीएचई महेंद्र उरमलिया, कैलाश राय, अभिषेक मोर, राधेश्याम डाबर, संतोष नेमा, एनएस राजपूत, संतोष प्रधान, एसके साहू, जीपी श्रीवास्तव, टेंकसिंह धुर्वे अधिकारी मौजूद रहे।

शिकायत

एसडीएम ने पंचनामा बनवाकर अधिकारियों को अवगत कराया

जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग

तेजगढ़ से आई महिला ने 2 साल से शौचालय का पैसा न मिलने की बात कही। ग्राम पंचायत झरौली के अनारीसिंह ने आवेदन देकर कहा कि पिछले वर्ष पीएम आवास स्वीकृत हुआ था जिन मजदूरों ने कार्य किया था उनके नाम मस्टररोल में नहीं डाले गए हैं बल्कि ग्राम पंचायत द्वारा अपने चहेतों के नाम डालकर राशि का आहरण कर लिया हैं। जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की हैं।

X
विस्थापितों को न्याय न मिलने पर तहसील परिसर में दी आत्महत्या करने की चेतावनी
Astrology

Recommended

Click to listen..