कृषि उत्पादन आयुक्त प्रभांशु कमल बोले- अमानक खाद और बीज मिले तो तत्काल कराएं एफआईआर

Sagar News - अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त प्रभांशु कमल ने गुरूवार को सागर संभाग की रबी सीजन की फसलाें की समीक्षा एवं...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:00 AM IST
Sagar News - mp news agricultural production commissioner prabhanshu kamal bole if the non standard fertilizers and seeds are found do so immediately
अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त प्रभांशु कमल ने गुरूवार को सागर संभाग की रबी सीजन की फसलाें की समीक्षा एवं आगामी खरीफ फसल की तैयारियों की समीक्षा की। कमिश्नर ऑफिस में आयोजित संभागीय बैठक में कमल ने कलेक्टर्स से कहा अमानक बीज एवं खाद रखने वालों के खिलाफ तत्काल पुलिस कार्यवाही करें औैर उनके गोदाम भी सील किए जाए। सागर सहित संभाग के सभी कलेक्टर्स आज से ही अमानक बीज एवं खाद की जांच की मानीटरिंग करें। बैठक में तय किया गया कि बार खरीफ फसल में संभाग में 1821 हजार हैक्टेयर में खरीफ फसल की बाेवनी की जाए। इसमें 337 हजार में सोयाबीन, 6.9 हजार में मक्का, 9.2 हजार में ज्वार, 169.2 हजार में धान, 1088 हजार में उड़द, 31.5 हजार में मूंग, 23.3 हजार क्षेत्र में मूंगफली, 130 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में तिल-रामतिल औैर अन्य फसलें बोई जाएंगी।

इस दौरान प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी, संभागायुक्त आनंद कुमार शर्मा, सहकारिता आयुक्त एमके अग्रवाल, बीज विकास निगम के प्रबंध संचालक रमेश भंडारी, संचालक कृषि मुकेश शुक्ला, संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी व कृषि उप संचालक मौजूद थे। कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि सभी कलेक्टर अपने-अपने जिलों में अग्रिम उठाव योजना का प्रचार-प्रसार करें एवं इसके लक्ष्य की पूर्ति नहीं होने के कारणों की समीक्षा करें। किसानों की आय को दोगुना करने के लिये विभिन्न उपायों की सतत समीक्षा भी करें। कृषि में उन्नत तकनीक, रासायनिक उर्वरक, खेती की लागत को कम करने जैसे उपायों पर जोर दिया जाए। सोयाबीन की उत्पादकता जब तक 22 क्विंटल प्रति हेक्टेयर नहीं होगी, तब तक किसानों के लिये यह लाभकारी नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों की सलाह लेकर जिलों में विभिन्न तकनीकों जिनमें रेस्ड बेड सिस्टम, उन्नत बीज आदि को अपनाकर उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है। कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि रासायनिक उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक के सेम्पल अमानक पाये जाने पर विभिन्न जिलों में कृषि उप संचालकों द्वारा कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं की जाती है।

कृषि उत्पादन आयुक्त ने सभी जिला कलेक्टर्स को हिदायत दी है कि वे अमानक सेम्पल पाए जाने पर सम्बन्धित कंपनी के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज कराएं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा के दाैरान कहा कि सागर, दमोह, छतरपुर, टीकमगढ, पन्ना, निवाड़ी जिलों में अऋणी कृषकों का बीमा कम हुआ था, इसे बढ़ाया जाए। गाैरतलब है कि संभाग में वर्ष 2018 में 253923 ऋणी कृषकों का तथा 6585 अऋणी कृषकों का बीमा कराया गया। कमिश्नर आनंद शर्मा ने कलेक्टर्स से कहा कि किसानों की ऋण माफी के लिए शत-प्रतिशत काम कर किसानों को कर्ज मुक्त बनाकर उनको मुख्य धारा में जोड़ें। परिवहन अधिकारी पंजाब हरियाणा से आने वाले हार्वेस्टर को चिन्हित करें औैर पॉलीहाउस एवं आचार्य विद्यासागर गोसंबंधर्न को उन्नत करें ।

25 ग्राम पंचायतों में सब्जी उत्पादन के प्रयास होंगे

कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक ने बताया कि जिले में वृक्षारोपण का कार्यक्रम, 25 ग्राम पंचायतों में सब्जी उत्पादन के प्रयास किए जाएंगे। इसके साथ ही ड्रिप से सिंचाई को आगे बढ़ाने की कार्ययोजना बताई। जिले में हार्वेस्टर चलाने कार्यशाला आयोजित कर हार्वेस्टर चलाने के इच्छुक व्यक्तियों को प्रशिक्षित किया जाएगा, जीवन कौशल विकास केन्द्र की मदद से हार्वेस्टर खरीदने नीति तैयार की जाएगी। समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी, सहकारिता आयुक्त एमके अग्रवाल, बीज विकास निगम के प्रबंध संचालक रमेश भंडारी, संचालक कृषि मुकेश शुक्ला, संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी व कृषि उप संचालक मौजूद थे।

X
Sagar News - mp news agricultural production commissioner prabhanshu kamal bole if the non standard fertilizers and seeds are found do so immediately
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना