हत्या के मामले में विचाराधीन नेत्रहीन बंदी काे सेंट्रल जेल में सीने में उठा दर्द, माैत

Bhaskar News Network

Aug 23, 2019, 09:30 AM IST
Sagar News - mp news blind pain in the case of murder in the central jail under consideration


भास्कर संवाददाता | सागर

बंडा से लाए गए हत्या के मामले में विचाराधीन नेत्रहीन बंदी की सागर सेंट्रल जेल में गुरुवार की दाेपहर माैत हाे गई। उसे उल्टी-दस्त व बुखार के बाद सीने में दर्द उठा था। उसका बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज में इलाज चला, लेकिन उसकी तबीयत में सुधार नहीं हुअा। जेल अस्पताल के डाॅक्टर भी उसे नहीं बचा पाए। पहले भी सेंट्रल जेल में बंद कैदियाें की माैत हाे चुकी है। कई मामले संदेहास्पद रहे। जेल में कैदियाें काे दिए जा रहे भाेजन व इलाज काे लेकर लगातार सवाल उठते रहे हैं।

जानकारी के अनुसार बंडा के लिधाैरा निवासी सत्तू उर्फ सतपाल पुत्र प्रहलाद सिंह राजगाैंड उम्र 30 साल, निवासी लिधाैरा बंडा ने एक युवक की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी थी। बंडा पुलिस ने उसके खिलाफ 294, 302, 307 के तहत केस दर्ज था। उसे उप जेल बंडा में रखा गया था। 17 अगस्त काे उसकी तबीयत बिगड़ने पर उपचार के लिए बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज सागर लाया गया था। वह यहां भर्ती रहा। अाैपचारिक जेल प्रवेश केंद्रीय जेल सागर में दिया गया। वहीं 19 अगस्त काे मेडिकल काॅलेज सागर से डिस्चार्ज किए जाने के बाद उसे केंद्रीय जेल में दाखिल किया गया था।

पेशी के 8 दिन पहले अा गई माैत : जानकारी के अनुसार बंदी का अपर सत्र न्यायाधीश बंडा की काेर्ट में केस विचारधीन है। 6 सितंबर काे उसकी काेर्ट में पेशी थी। गुरुवार काे उसे सेंट्रल जेल में उल्टी-दस्त व बुखार अाने के बाद सीने में दर्द उठा था। दाेपहर 11.50 बजे उसने वार्ड इंचार्ज काे बताया। इंचार्ज उससे जेल अस्पताल चलने काे कहा, लेकिन वह चलने में असमर्थ था। उसे व्हील चेयर से जेल अस्पताल ले जाया गया, तब तक उसकी माैत हाे चुकी थी। डाॅक्टराें ने जांच में उसे मृत घाेषित कर दिया। उसके परिजन गुरुवार शाम सागर पहुंचे। शुक्रवार काे उसका पीएम हाेगा। जेल अधीक्षक राकेश भांगरे का कहना था कि मरीज का पहले से इलाज चल रहा था। इसमें हम क्या कर सकते हैं। हार्टअटैक से माैत का संदेह है। पीएम रिपाेर्ट से स्थिति स्पष्ट हाे जाएगी। बंदी व सजायाफ्ता कैदियाें काे जेल में हर संभव सुविधाएं दी जाती हैं।

कैदियाें काे दिया जा रहा घटिया भाेजन

जेल मंे व्याप्त अव्यवस्थाअाें काे लगातार उठा रहे शिवसेना के प्रदेश पदाधिकारी पप्पू तिवारी का अाराेप है कि जेल में कैदियाें काे घटिया स्तर का भाेजन दिया जा रहा है। उनके इलाज का उचित प्रबंध नहीं। इस संबंध में अधिकारियाें काे अवगत कराया गया, लेकिन व्यवस्था में सुधार नहीं हुअा।

X
Sagar News - mp news blind pain in the case of murder in the central jail under consideration
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना