• Hindi News
  • Mp
  • Sagar
  • Sagar News mp news kharmas end manglik work will start from today marriage will not be held again for one month from 13th march till then 32 muhurtas of marriage

खरमास समाप्त, अाज से शुरू होंगे मांगलिक कार्य, 13 मार्च से फिर एक माह के लिए नहीं हाेंगे विवाह, तब तक विवाह के 32 मुहूर्त

Sagar News - बुधवार काे सूर्य के राशि परिवर्तन होते ही खरमास समाप्त हो गया है। इसके साथ ही विवाह और मांगलिक कार्य शुरू हो...

Jan 16, 2020, 09:10 AM IST
Sagar News - mp news kharmas end manglik work will start from today marriage will not be held again for one month from 13th march till then 32 muhurtas of marriage
बुधवार काे सूर्य के राशि परिवर्तन होते ही खरमास समाप्त हो गया है। इसके साथ ही विवाह और मांगलिक कार्य शुरू हो जाएंगे। पंडित रामगाेविंद शास्त्री के अनुसार मकर संक्रांति के दूसरे दिन यानी कि गुरुवार से विवाह मुहूर्त प्रारंभ होंगे। जो 1 मार्च तक रहेंगे। इसके अगले दिन से होलाष्टक शुरू हो जाएगा। वहीं 13 मार्च से खरमास प्रारंभ होगा, जो 13 अप्रैल तक रहेगा। इस एक माह की अवधि में विवाह नहीं होंगे। इसके बाद 14 अप्रैल से शुरू होकर विवाह मुहूर्त विभिन्न तिथियों में 26 जून तक रहेंगे। इस बीच मई के आखिरी दिनों में 8 दिन के लिए शुक्र तारा अस्त रहेगा। वहीं देव उठनी एकादशी पर 25 नवंबर से प्रारंभ होंगे, जो 11 दिसंबर तक होंगे। इसके बाद पुन: एक माह के लिए खरमास प्रारंभ हो जाएगा।

ज्याेतिष
जनवरी से दिसंबर तक विवाह मुहूर्त

Áजनवरी 16 से 22 Áफरवरी 3 से 5, 9 से 18, 20, 25 से 27 Áमार्च 1 से 3, 7 से 13 Áअप्रैल 14, 15, 20, 25 से 27

Áमई 1 से 8, 10, 12, 17, 18 Áजून 13 से 15, 25, 26 Áनवंबर 26, 30 Áदिसंबर 1, 2, 6 से 9, 11

बृहस्पति की राशि धनु में सूर्य के आ जाने से रुक जाते हैं शुभ कार्य

ज्योतिषाचार्य पंडित केशव महाराज एवं शास्त्री नरेंद्र भारद्वाज के अनुसार 14 या 15 दिसंबर को सूर्य धनु राशि में प्रवेश करता है। जिससे मलमास या खरमास शुरू हो जाता है। सूर्य लगभग 1 महीना इस राशि में रहता है और मकर संक्रांति पर मकर राशि में सूर्य के प्रवेश करते ही मलमास खत्म हो जाता है। इस बार 15 जनवरी काे खरमास समाप्त हुअा। बृहस्पति की राशि धनु में सूर्य के आ जाने से शुभ काम नहीं किए जाते हैं। इसलिए जब सूर्य धनु राशि में रहता है तो इस 1 महीने के समय को खरमास कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार मलमास की अवधि के दौरान विवाह, यज्ञोपवीत संस्कार, वास्तु पूजन, नींव पूजा, नए व्यापारिक के मुहूर्त, नामकरण आदि कई तरह के शुभ कार्य वर्जित माने गए हैं। इसीलिए इस दाैरान शुभ कार्य नहीं हुए।

X
Sagar News - mp news kharmas end manglik work will start from today marriage will not be held again for one month from 13th march till then 32 muhurtas of marriage
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना