साहित्य रोशनी का काम करता है : सुरेश आचार्य

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 04:26 AM IST

Sagar News - सागर | भारतीय लोकतंत्र साहित्यकारों के दम पर जीवित है। अगर हमें राजनीति पर छोड़ दिया जाए तो यह मंडी में बदल जाएगा।...

Sagar News - mp news literature works as light suresh acharya
सागर | भारतीय लोकतंत्र साहित्यकारों के दम पर जीवित है। अगर हमें राजनीति पर छोड़ दिया जाए तो यह मंडी में बदल जाएगा। साहित्य रोशनी का कार्य करता है। यह आँख, कान खोलने का कार्य करता है। साहित्यकारों के पास सत्ता और सम्पत्ति नहीं रहती किन्तु वे सत्ता परिवर्तन की सामथ्र्य रखते हैं। यह बात संस्था अध्यक्ष प्रो. सुरेश आचार्य ने हिन्दी-उर्दू मजलिस के वार्शिक कार्यक्रम ‘परिधि-सम्मान समारोह’ में कहीं। बी एस जैन धर्मशाला में आयोजित समारोह के प्रथम सत्र में पत्रिका ‘परिधि’ के विमोचन के बाद जैतपुर, सीतामढ़ी के साहित्यकार रामबाबू नीरव और सतना की साहित्यकार सुशमा मुनीन्द्र को शाल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र, पच्चीस सौ रुपए की सम्मान राशि देकर परिधि-सम्मान से सम्मानित किया गया। मशहूर शायर मायूस सागरी को ‘विशिष्ट साहित्य सेवा सम्मान’ से नवाजा गया। संस्था के संरक्षक डाॅ. जीवनलाल जैन, मुख्य अतिथि प्रो. आनंद प्रकाश त्रिपाठी, विशिष्ट अतिथि शुकदेव प्रसाद तिवारी संरक्षक डाॅ एन पी शर्मा ने कार्यक्रम को संबोधित किया।

X
Sagar News - mp news literature works as light suresh acharya
COMMENT