20 से अधिक संविदा शिक्षकों का संविलियन अटका,मंत्री तक लगाई गुहार, लेकिन नहीं मिला हक

Sagar News - जिले में एक ओर जहां अध्यापकों के संविलियन का काम बेहद धीमी और मनमर्जी की गति से चल रहा है, वहीं करीब 20 से अधिक संविदा...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 04:27 AM IST
Sagar News - mp news more than 20 contractual teachers were stabbed ministers held up but they did not get the right
जिले में एक ओर जहां अध्यापकों के संविलियन का काम बेहद धीमी और मनमर्जी की गति से चल रहा है, वहीं करीब 20 से अधिक संविदा शिक्षक एेसे भी हैं जाे अभी तक अध्यापक बनने के लिए ही परेशान हो रहे हैं। इनके संविदा से अध्यापक संवर्ग में संविलियन का काम अक्टूबर माह से अटका हुआ है और पूरे 4 माह गुजर जाने के बाद भी पूरा नहीं हुआ है। यह लोग आए दिन डीईओ ऑफिस में पहुंच रहे हैं, लेकिन यहां उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसके बाद यह संविदा शिक्षक जिला पंचायत सीईओ से लेकर क्षेत्रीय विधायकों और मंत्रियों के पास तक न्याय की गुहार लगा चुके हैं, लेकिन डीईअाे अाॅफिस द्वारा मंत्रियों तक के आदेशों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

पिछले दिनों एक मामले में केबिनेट मंत्री हर्ष यादव के पास जब शिकायत पहुंची तो उन्होंने तुरंत ही जिला पंचायत सीईओ चंद्रशेखर शुक्ला को निर्देश दिए थे कि जिले में जितने भी संविदा शिक्षक अब तक संविलियन के लिए शेष रह गए हैं, उनके मामले का निराकरण तुरंत किया जाए।

इसके बाद सीईओ शुक्ला ने डीईओ को तुरंत ही सभी के मामले में निराकरणा के निर्देश दिए थाे। इसके बाद भी अब तक फाइल न ताे जिला पंचायत सीईओ के समक्ष पहुंची हैं, न ही संविदा शिक्षकाें काे उनका हक मिल पाया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अध्यापकों के शिक्षा विभाग में संविलियन का मामले में सागर जिला फिसड्‌डी साबित क्यों हो रहा है, विशेषकर वरिष्ठ अध्यापकाें के मामले में। शासकीय अध्यापक संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष राममिलन मिश्रा ने बताया कि प्रदेश के अन्य जिलों में सभी वरिष्ठ अध्यापकों के शिक्षा विभाग में संविलियन के आदेश जारी हो चुके हैं, जबकि सागर में 100 से अधिक वरिष्ठ अध्यापकों के आदेश अब तक जारी नहीं हुए हैं। जिससे अध्यापकों में आक्रोश है।

क्योंकि आचार संहिता नजदीक है, एेसे में विधानसभा चुनाव की तरह यह मामला लोकसभा चुनाव की आचार संहिता में भी अटक सकता है। मामले में पक्ष जानने के लिए डीईओ अजब सिंह ठाकुर को दो बार कॉल किया गया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हाे सका। हालंाकि जिपं सीईअाे चंद्रशेखर शुक्ला ने कहा कि किसी भी संविदा शिक्षक के साथ अन्याय नहीं होगा। सभी के मामले में त्वरित निर्णय होगा।

X
Sagar News - mp news more than 20 contractual teachers were stabbed ministers held up but they did not get the right
COMMENT