पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sagar News Mp News Smart City Even After The Delay Of One And A Quarter Months The Work Of Both The Parks Is Incomplete Shoddy Pebbles Removed From Gaur Park Are Now Employed In Chandra Park

स्मार्ट सिटी : सवा माह की देरी के बाद भी दोनों पार्क का काम अधूरा, गौर पार्क से हटाए घटिया पेबर अब चंद्रा पार्क में लगा रहे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट के तहत शहर में पहला काम तीन बड़े पार्काें के रीडव्लपमेंट का शुरू हुअा था। इन पार्काें में हुए गुणवत्ताहीन अाैर बेतरतीब काम काे देख लाेग अब स्मार्ट राेड अाैर झील सफाई जैसे बड़े प्राेजेक्ट पर सवाल उठाने लगे हैं। इनकी प्लानिंग काे लेकर लाेगाें में संशय है। इसकी वजह है स्मार्ट सिटी कंपनी द्वारा नियुक्त प्राेजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंसी ग्रांट थार्नटन की एसी चेंबर में बैठकर की गई फील्ड की प्लानिंग के साथ ठेकेदार द्वारा पेटी पर काम कराने से लेकर इनमें लगे सामान की खरीदी में पारदर्शिता का अभाव है। इस तरह अागामी प्राेजेक्ट की दुर्दशा काे लेकर लाेगाें के जहन में कई सवाल हैं।

दरअसल, स्मार्ट सिटी कंपनी पीएमसी से कागजी प्लानिंग ताे बेहतर तैयार करा रही है, लेकिन इसे धरातल पर उतारने में फिसड्डी साबित हाे रही है। जितनी राशि में पार्काें का रीडव्लपमेंट हुअा है उतनी राशि में तीन नए पार्क तैयार हाे सकते थे। यह बात स्मार्ट सिटी से जुड़ एक वरिष्ठ अफसर भी मानते हैं। पार्काें के घटिया काम के बाद 80, 60 अाैर 45 फीट चाैड़ी स्मार्ट राेड बनाने के लिए अतिक्रमण हटाने में अाने वाली दिक्कत काे लेकर काेई चर्चा नहीं। झील में मैनुअल डिसिल्टिंग का काम स्थानीय ठेकेदाराें से कराया जा सकता है। एेसे में काम का तरीका अाैर काम में क्वालिटी काे लेकर सवाल उठना लाजमी है।

चंद्रा पार्क में बहुत काम बाकी, गाैर पार्क में लगी घास बारिश में खराब

चंद्रा पार्क

भास्कर ने बस स्टैंड स्थित डाॅ. हरिसिंह गाैर पार्क अाैर सिविल लाइंस स्थित चंद्रा पार्क का जायजा लिया। पिछले दिनाें ईडी रामप्रकाश अहिरवार ने गाैर पार्क में जिन घटिया पेबर ब्लाॅक पर जिम्मेदाराें काे फटकार लगाई थी उन्हें बदल दिया गया है। इस पार्क में अभी कक्षाें की फिनिसिंग, हटाए गए अतिक्रमण के स्थान पर पार्किंग, फाउंटेन, अाेपन लाइब्रेरी, चेयर लगाने का काम बाकी है। बरसात में घास खराब हाे गई है। चंद्रा पार्क में अाेपन थियेटर अाकार ताे लेने लगा है, लेकिन यहां पाथवे में लगाए जा रहे पेबर ब्लाॅक की क्वालिटी ठीक नहीं है। कुछ ताे लगने के साथ ही टूटने लगे हैं। लाेकल स्तर के पेबर ब्लाॅक कभी भी खराब हाे सकते हैं। यहां अाेपन जिम, झूले, पाैधे, घास, कर्व स्टाेन, लेवलिंग का काम चल रहा है। इस पार्क काे तैयार हाेने में अभी दाे महीने का वक्त लगेगा।

गौर पार्क

बगैर सुरक्षा कितने टिकेगी हरियाली, झूले, लाइट अाैर अाेपन जिम

स्मार्ट सिटी कंपनी गाेपालगंज स्थित जिस मधुकर शाह पार्क काे तैयार बता रही है वहां अाए दिन गाय-कुत्ते देखे जा रहे हैं। गाय यहां महंगी अाॅर्टिफिशियल घास काे चट कर रही हैं। अन्य दाे पार्क तैयार हाेने के बाद इनकी सुरक्षा भी भगवान भराेसे रहेगी। एेसे में पार्काें में ग्रीनरी, झूले, लाइट अाैर अाेपन जिम की सुरक्षा पर बड़ा सवाल खड़ा है।

चेयरमेन ने दी थी 30 जून की टाइम लिमिट, दाेनाें पार्क अभी तक कंपलीट नहीं हुए

3 कराेड़ की लागत से शहर के सिविल लाइंस स्थित चंद्रा पार्क, गाेपालगंज स्थित मधुकर शाह अाैर बस स्टैंड स्थित डाॅ. हरिसिंह गाैर पार्क का काम शुरू हुअा था। पहले टैंडर काे लेकर सवाल उठे, इसके बाद काम शुरू हुअा ताे कभी प्लानिंग में कमी, ताे कभी मटेरियल अाैर इनमें लगने वाले अाेपन जिम, लाइटिंग, फव्वारे, रेलिंग, पेबर ब्लाॅक की गुणवत्ता अाैर सामग्री खरीदी काे लेकर सवाल उठते रहे हैं। तीनाें पार्क का ठेका प्रताप बिल्डटेक भाेपाल के नाम पर है। ठेकेदार काे 5 फरवरी तक तीनाें पार्क कंपलीट करना थे, लेकिन इसके बाद दाे बार उसे 60-60 दिन का एक्सटेंशन दिया गया। चेयरमेन प्रीति मैथिल ने 30 जून की टाइम लिमिट दी थी, लेकिन दाेनाें पार्क अभी भी कंपलीट नहीं हुए।

चेयरमेन ने दी थी 30 जून की टाइम लिमिट, दाेनाें पार्क अभी तक कंपलीट नहीं हुए

3 कराेड़ की लागत से शहर के सिविल लाइंस स्थित चंद्रा पार्क, गाेपालगंज स्थित मधुकर शाह अाैर बस स्टैंड स्थित डाॅ. हरिसिंह गाैर पार्क का काम शुरू हुअा था। पहले टैंडर काे लेकर सवाल उठे, इसके बाद काम शुरू हुअा ताे कभी प्लानिंग में कमी, ताे कभी मटेरियल अाैर इनमें लगने वाले अाेपन जिम, लाइटिंग, फव्वारे, रेलिंग, पेबर ब्लाॅक की गुणवत्ता अाैर सामग्री खरीदी काे लेकर सवाल उठते रहे हैं। तीनाें पार्क का ठेका प्रताप बिल्डटेक भाेपाल के नाम पर है। ठेकेदार काे 5 फरवरी तक तीनाें पार्क कंपलीट करना थे, लेकिन इसके बाद दाे बार उसे 60-60 दिन का एक्सटेंशन दिया गया। चेयरमेन प्रीति मैथिल ने 30 जून की टाइम लिमिट दी थी, लेकिन दाेनाें पार्क अभी भी कंपलीट नहीं हुए।

झील की प्लानिंग पर 9 अगस्त काे कार्यशाला, सुझाव मांगे

झील के चारों ओर निर्बाध वाॅकवे, मिनी पार्क, वाॅटर स्पोर्टस एक्टिविटी, वाॅटर फाउंटेन शो, झील में मिलने वाले गंदे नालो पर रोक लगाने के लिए माॅडुलर एसटीपी, डिसिल्टिंग अादि की प्लानिंग की जानकारी शहर के लाेगाें काे देने अाैर उनके सुझाव जानने के लिए 9 अगस्त काे दाेपहर 12 बजे पाॅलीटेक्निक काॅलेज में कार्यशाला अायाेजित की गई है। इस दाैरान स्मार्ट सिटी की चेयरमेन व कलेक्टर प्रीति मैथिल शहर की प्राचीन व एतिहासिक इमारताें के संरक्षण पर चर्चा करेंगी।

पार्काें में तैनात हाेंगे गार्ड, पेबर ब्लाॅक व सामान की क्वालिटी मेंटेन कराएंगे: ईडी

स्मार्ट सिटी कंपनी के ईडी रामप्रकाश अहिरवार का कहना है कि सीईअाे स्मार्ट सिटी काे मैंने लिखा है कि तीनाें पार्काें के काम की माॅनीटरिंग के साथ क्वालिटी पर ध्यान रखा जाए। संडे काे मैंने चंद्रा पार्क का जायजा लिया था। यहां जाे पेबर ब्लाॅक लग रहे हैं अाैर अाेपन जिम व अन्य उपकरणाें की खरीदी का अार्डर पहले हाे चुका था। हम इनकी क्वालिटी मेंटेन कराएंगेे। गाैर पार्क के पेबर ब्लाॅक बदले गए हैं। तीनाें पार्क में गार्ड लगाने काे बाेला है।

खबरें और भी हैं...