• Hindi News
  • National
  • Sagar News Mp News Strange Logic Of The Power Company Lizards Mice Snakes Electric Lightning Due To Lightning And Lightning Falling From The Wind

बिजली कंपनी के अजीब तर्क : छिपकली, चूहे, सांप, आसमानी बिजली और तेज हवा से गिरे पेड़ों के कारण हो रही बिजली गुल

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
तेज हवा-पानी के अलावा छिपकली, सांप, चूहे, चमगादड़ भी बिजली सप्लाई बाधित कर रहे हैं। यह दावा खुद बिजली कंपनी के अधिकारियों ने किया है। सोशल मीडिया के जरिए कंपनी के इंजीनियर अजीज खान ने बताया है कि बारिश से बचने के लिए ये जीव-जंतु ऊंचाई की तरफ जाते है। वे बिजली के खंभों पर भी चढ़ते हैं।

इसी दौरान वे सप्लाई लाइन की चपेट में आ जाते हैं, जिससे सब-स्टेशन में फाॅल्ट हो जाता। समस्या ये है कि इन जंतुओं के शरीर में जब तक नमी रहती है, तब तक ऑटोमेटिक बिजली बहाल नहीं होती। हमारे स्टाफ को इन मरे जंतुओं को रात के अंधेरे में ढूंढने में समय लगता है। इसके कारण ही बिजली सप्लाई को बहाल करने में देरी होती है।

शुक्रवार को छिपकली के कारण हुई थी बिजली गुल : पेड़ गिरने से बाधित हुई सप्लाई

एई खान के अनुसार बिजजी सब स्टेशन में लाइनों पर फाल्ट आने पर सुरक्षा के लिए 11के वी ,33के वी लाइनों पर सर्किट ब्रेकर लगे रहते है,जो कि लाइन पर फाल्ट आने पर ऑटोमेटिक लाइन बन्द(ट्रिप) कर देते है। यह फाल्ट तब ही दूर हाेता है जब हमारा स्टाफ उसे ढूंढकर अलग कर दे या वह स्वमेव हट जाए। शुक्रवार को 11 केवी लाइन पर एक छिपकली आ गई। इसके चलते फॉल्ट हुआ और बिजली गुल हो गई। इसी प्रकार चीनी मिट्टी के इंसुलेटर बादल के तड़कने,बिजली गिरने, तेज हवा में लाइन पर पेड़ की डाल गिरने से भी फूट जाते है। इससे भी लाइन फाल्ट होती है।

पेड़ गिरा, एमई बर्स्ट हुई, कटरा समेत कई इलाकों में बिजली गुल : शनिवार तड़के सुबह करीब 4.30 बजे शहर के कुछेक हिस्साें की बिजली सप्लाई बाधित रही। इसी तरह पॉवर हाउस में स्थित सब-स्टेशन की एक एमई बर्स्ट हो गई। इसके चलते बस स्टैंड, कटरा बाजार, परकोटा, शनीचरी क्षेत्र की बिजली सप्लाई बाधित रही। बिजली कंपनी के डीई सुनीलकुमार सिन्हा के अनुसार हम लोग लगातार कोशिश कर रहे हैं लेकिन मौसम व अन्य व्यवहारिक-तकनीकी कारणों के चलते निश्चित समय में सप्लाई बहाल करना कठिन हो रहा है।

एई खान के अनुसार बिजजी सब स्टेशन में लाइनों पर फाल्ट आने पर सुरक्षा के लिए 11के वी ,33के वी लाइनों पर सर्किट ब्रेकर लगे रहते है,जो कि लाइन पर फाल्ट आने पर ऑटोमेटिक लाइन बन्द(ट्रिप) कर देते है। यह फाल्ट तब ही दूर हाेता है जब हमारा स्टाफ उसे ढूंढकर अलग कर दे या वह स्वमेव हट जाए। शुक्रवार को 11 केवी लाइन पर एक छिपकली आ गई। इसके चलते फॉल्ट हुआ और बिजली गुल हो गई। इसी प्रकार चीनी मिट्टी के इंसुलेटर बादल के तड़कने,बिजली गिरने, तेज हवा में लाइन पर पेड़ की डाल गिरने से भी फूट जाते है। इससे भी लाइन फाल्ट होती है।

पेड़ गिरा, एमई बर्स्ट हुई, कटरा समेत कई इलाकों में बिजली गुल : शनिवार तड़के सुबह करीब 4.30 बजे शहर के कुछेक हिस्साें की बिजली सप्लाई बाधित रही। इसी तरह पॉवर हाउस में स्थित सब-स्टेशन की एक एमई बर्स्ट हो गई। इसके चलते बस स्टैंड, कटरा बाजार, परकोटा, शनीचरी क्षेत्र की बिजली सप्लाई बाधित रही। बिजली कंपनी के डीई सुनीलकुमार सिन्हा के अनुसार हम लोग लगातार कोशिश कर रहे हैं लेकिन मौसम व अन्य व्यवहारिक-तकनीकी कारणों के चलते निश्चित समय में सप्लाई बहाल करना कठिन हो रहा है।

खबरें और भी हैं...