• Hindi News
  • Rajya
  • Madhya Pradesh
  • Sagar
  • Sagar News mp news the eye specialist39s wife expressed her wish for eye donation before her death now her eyes will be illuminated by someone39s world

नेत्र विशेषज्ञ की पत्नी ने निधन से पहले जताई नेत्रदान की इच्छा, अब उनकी आंखों से रोशन होगी िकसी की दुनिया

Sagar News - नेत्रदान को महादान कहते हैं, क्योंकि ये किसी के अंधेरे जीवन में खुशियों का रंग लाता है। शहर में इस महादान की पहल को...

Nov 22, 2019, 09:12 AM IST
Sagar News - mp news the eye specialist39s wife expressed her wish for eye donation before her death now her eyes will be illuminated by someone39s world
नेत्रदान को महादान कहते हैं, क्योंकि ये किसी के अंधेरे जीवन में खुशियों का रंग लाता है। शहर में इस महादान की पहल को दिशा देने का काम एक नेत्र रोग विशेषज्ञ की प|ी ने किया है।

जिले के पूर्व सीएमएचओ और नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रमोद गोदरे की प|ी प्रतिभा गोदरे निधन बुधवार को भोपाल में हुआ था। जीवनभर अपने पति को आंखों का इलाज करते हुए देखने वाली प्रतिभा ने मृत्यु से पहले नेत्रदान करने की इच्छा जाहिर की थी। जिसके बाद उनके पति डॉ. गोदरे ने भोपाल अॉर्गन डोनेशन सोसायटी को इसकी सूचना दी। सोसायटी के सदस्य अपनी डॉक्टरों की टीम के साथ अस्पताल पहुंचे और प्रतिभा का नेत्रदान कराया। फिलहाल प्रतिभा की आंखें भोपाल आई बैंक में रखी गईं है। जिन्हें जल्द ही किसी नेत्रहीन व्यक्ति को लगाकर उसकी दुनिया रोशन की जाएगी।

जानकारी के अनुसार नेत्रदान के बाद प्रतिभा का शव सागर के बालक कॉम्प्लेक्स स्थित उनके घर लाया गया। प्रतिभा अपने पीछे दो पुत्र और एक पुत्री समेत भरापूरा परिवार छोड़कर गईं हैं। प्रतिभा का गोपालगंज मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान डॉ. अशोक सिंघई, डॉ. अरुण सराफ, डॉ. एनएस मौर्य, कपिल मलैया, डॉ. मनीष जैन आदि मौजूद थे।

आप भी कर सकते हैं नेत्रदान

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में आई बैंक खुलने के बाद यह पहली बार है जब शहर की किसी महिला ने नेत्रदान किया हो। हालांकि नेत्रदान भोपाल में किया गया। लेकिन यदि आप नेत्रदान करना चाहते हैं तो बीएमसी में आई बैंक की शुरुआत हो चुकी है। इसके लिए मृत्यु के बाद यदि परिजन नेत्रदान करना चाहें तो आई बैंक के हेल्पलाइन नंबर 07582-236065 पर संपर्क करें, इसके लिए पंजीयन की आवश्यकता नहीं है। बस मृत्यु के तुरंत बाद आई बैंक को फोन करें। डॉक्टर के आने तक इलाज के पेपर और मृत्यु प्रमाण पत्र तैयार रखें। मृत्यु के छह घंटे के भीतर नेत्रदान होना चाहिए। डॉक्टर के आने तक दानदाता की आंखें बंद रखें, इस पर गीली रूई रख सकते हैं।

X
Sagar News - mp news the eye specialist39s wife expressed her wish for eye donation before her death now her eyes will be illuminated by someone39s world
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना