जुलाई में खत्म हाे रही सीवर प्राेजेक्ट की टाइम लिमिट; 3 साल में सिर्फ 40%काम, कंपनी ने मांगा एक साल का एक्सटेंशन

Sagar News - शहर की नालियाें में बहने वाले अाैर वाटर सप्लाई की लीकेज लाइनाें से घराें तक पहुंचने वाले सीवर (टाॅयलेट का गंदा...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:06 AM IST
Sagar News - mp news time limit of sewer project ending in july only 40 of the work in 3 years the company asked for one year extension
शहर की नालियाें में बहने वाले अाैर वाटर सप्लाई की लीकेज लाइनाें से घराें तक पहुंचने वाले सीवर (टाॅयलेट का गंदा पानी) काे दूर ले जाकर उसके ट्रीटमेंट का महत्वाकांछी प्राेजेक्ट यहां दम ताेड़ने लगा है। दाे महीने बाद जुलाई में इसकी टाइम लिमिट समाप्त हाे रही है। तीन साल में कंपनी महज 40 फीसदी काम ही पूरा कर पाई है। अब दाे महीने में कितना काम हाेगा यह समझने की बात है। कंपनी लक्ष्मी सिविल प्राइवेट लिमिटेड ने काम में देरी की तीन बड़ी वजह गिनाते हुए अब प्राेजेक्ट काे पूरा करने के लिए निगम से 1 साल का एक्सटेंशन मांगा है।

केंद्र के अमृत मिशन के तहत शहर में सीवर लाइन बिछाने के लिए जुलाई 2016 में प्राेजेक्ट शुरू हुअा था। 325 कराेड़ रुपए लागत के इस काम की गति शुरुअाती दाैर से ही धीमी रही। वजह थी शहर के लाेगाें में इस प्राेजेक्ट काे लेकर कई तरह की भ्रांतियाें के चलते जगह-जगह सीवर लाइन बिछाने से राेका जाना। धीरे-धीरे कंपनी ने पार्षदाें काे विश्वास में लेकर काम अागे बढ़ाया। कभी कंपनी की तरफ से लेटलतीफी हुई ताे कभी दूसरी अड़चने सामने अाई। डेढ़ साल पहले एक पेटी कांट्रेक्टर काम अधूरा छाेड़कर राताें-रात भाग गया। लेबर का पेमेंट न हाेने से कई दिनाें तक बबाल मचा रहा। कंपनी ने एडवांस लेकर भागने पर पेटी कांट्रेक्टर के खिलाफ धाेखाधड़ी की शिकायत थाने में की। यह मामला कुछ दिन बाद थम ताे गया लेकिन काम ने गति नहीं पकड़ी। इसी बीच शहर में दाे से तीन स्थानाें पर कंपनी के इंजीनियराें से मारपीट के मामले सामने अाए। कुछ दिन पहले एक पार्षद द्वारा इंजीनियराें पर हमले के बाद कंपनी ने काम राेक दिया था। कंपनी ने तीन साल में 20-22 वार्डाें में ही काम शुरू हाे पाया। इनमें प्राेजेक्ट के शुरुअाती वार्ड तिली, बाघराज, शिवाजीनगर, पंतनगर, काकागंज तरफ का काम पूर्ण हाेने जा रहा है, लेकिन टाैरियाें पर बसे, परकाेटा, इतवारी, पुरव्याऊ, शनिचरी व शुक्रवारी जैसे वार्डाें में काम करना बड़ी चुनाैती मानी जा रही है।

काला पत्थर अाैर पानी से लाइन बिछाने में दिक्कत

शहर की लाखा बंजारा झील के कैचमेंट एरिया से लगे काकागंज, पंतनगर, बाघराज, वृंदावन, शिवाजीनगर व तिली वार्ड में कहीं 5 ताे कहीं 6 फीट खुदाई करने पर पानी निकल रहा है। कुछ इलाकाें में जमीन के अंदर काला ठाेस पत्थर है, जिसे काटकर पाइप लाइन डालने में कंपनी काे दिक्कत अा रही है। हालांकि इन इलाकाें में ज्यादातर काम पूर्ण हाे गया है।

प्राेजेक्ट में लेटलतीफी के 3 कारण

बरसात में काम बंद
लेबर की समस्या
पंपिंग स्टेशन के लिए जगह नहीं

बरसात में काम बंद
लेबर की समस्या
पंपिंग स्टेशन के लिए जगह नहीं
प्राेजेक्ट में कहां-किसकी चूक रही

लक्ष्मी सिविल
पीएमसी
नगर निगम

बरसात में काम बंद
लेबर की समस्या
पंपिंग स्टेशन के लिए जगह नहीं
  विवेक माेढ़े, वाइस प्रिसिडेंट, लक्ष्मी सिविल


- जुलाई 2019 में कंपलीट करना है।


- नहीं, इतने जल्दी ताे नहीं हाे पाएगा।


- निगम से 1 साल का एक्सटेंशन मांगा है।


- एक्सटेंशन पाने के लिए हमारे पास अाधार हैं। बरसात, साइट क्लियर न मिलने अाैर दाे चुनाव के कारण भी काम प्रभावित हुअा है।

एक्सटेंशन देंगे पर काम की गति बढ़ाने की शर्त पर : मेयर

Ãसीवर प्राेजेक्ट का काम समयावधि में पूरा नहीं हाे पाया। इसमें कई व्यवहारिक परेशानियां अाईं। बड़ा प्राेजेक्ट है। इसे जल्दबाजी में पूरा कराना नहीं चाहते। कंपनी ने एक साल का एक्सटेंशन मांगा है। देंगे पर काम की गति बढ़ाने की शर्त पर। प्राेजेक्ट में देरी काे लेकर निगम के जिम्मेदार इंजीनियराें से जवाब-तलब करेंगे। - अभय दरे,महापाैर सागर

X
Sagar News - mp news time limit of sewer project ending in july only 40 of the work in 3 years the company asked for one year extension
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना