पूर्णमति माता के पैरों में छाले, फिर भी आचार्य श्री के दर्शन करने वे हर दिन कर रहीं 30 किमी की पदयात्रा

Sagar News - सागर | सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य विद्यासागर महाराज के शिष्य मुनि अचल सागर, मुनि भाव सागर ससंघ पार्श्व नाथ दिगंबर जैन...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 04:26 AM IST
Sagar News - mp news wholemouth39s feet blisters in the feet yet every 30km footsteps performed by acharya shri
सागर | सर्वश्रेष्ठ साधक आचार्य विद्यासागर महाराज के शिष्य मुनि अचल सागर, मुनि भाव सागर ससंघ पार्श्व नाथ दिगंबर जैन मंदिर बरोदिया कला में विराजमान हैं। यहां आर्यिका पूर्णमति माता समेत अाठ माता जी की आगवानी वीर सेवा दिव्य घोष के युवकों ने की। आर्यिका संघ की बुधवार की आहार चर्या रजवांस में हुई और बांदरी होते हुए उनके 15 फरवरी को भाग्योदय तीर्थ पहुंचने की संभावना है। माता के पैरों में छाले हैं फिर भी वे पदयात्रा करते हुए प्रति दिन 30 किलोमीटर बिहार कर रही हैं। झांसी से सागर पहुंचते ही उनका 200 किलोमीटर का बिहार हो जाएगा। गुरु दर्शन की प्यास के कारण वह कहीं भी रूक नहीं रही है।

वहीं बुधवार काे आर्यिका संघ ने श्रीजी के दर्शन किए, इसके बाद संत निवास में विराजमान मुनि विमल सागर ससंघ के दर्शन किए और धार्मिक विषयों पर चर्चा की। अार्यिका पूर्णमति माता ने कहा कि मुनिसंघ के दर्शन करने से मुझे अाज आनंद की अनुभूति हो रही है। गाैरतलब है कि आर्यिका संघ की बुधवार की आहार चर्या रजवास में हुई और वे बांदरी होते हुए 15 फरवरी को भाग्योदय तीर्थ पहुंच सकती हैं। जैन समाज के लाेगाें ने बताया कि माता के पैरों में छाले हैं फिर भी वे पदयात्रा करते हुए प्रति दिन बिहार कर रही हैं। झांसी से सागर पहुंचते ही उनका 200 किलोमीटर का बिहार हो जाएगा। गुरु दर्शन की प्यास के कारण वह कहीं भी रूक नहीं रही है। यहां अभिषेक हुआ शांतिधारा हुई आरती हुई एवं पूजन हुई ।

X
Sagar News - mp news wholemouth39s feet blisters in the feet yet every 30km footsteps performed by acharya shri
COMMENT