तेग बहादुर शहीदी दिवस : कल से शुरू होंगे गुरुद्वारे में कार्यक्रम, सजेगा दीवान / तेग बहादुर शहीदी दिवस : कल से शुरू होंगे गुरुद्वारे में कार्यक्रम, सजेगा दीवान

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:35 AM IST

Sagar News - सिखों के नौवें गुरु और हिंदू धर्म के रक्षक गुरु तेग बहादुर साहिब का शहीदी दिवस पर 10 दिसंबर से कार्यक्रम की शुरुआत...

Sagar News - teg bahadur martyrdom day the program will begin tomorrow in the gurudwara program sajeda diwan
सिखों के नौवें गुरु और हिंदू धर्म के रक्षक गुरु तेग बहादुर साहिब का शहीदी दिवस पर 10 दिसंबर से कार्यक्रम की शुरुआत होगी। जबकि समापन 12 दिसंबर को होगा। आयोजन भगवानगंज स्थित गुरुद्वारा में होगा।

श्री गुरु सिंघ सभा के अध्यक्ष सतिंदर सिंह होरा ने बताया कि 12 दिसंबर को को सुबह 6 बजे से गुरुद्वारा में दीवान सजाया जाएगा, कीर्तन, लंगर होगा। अध्यक्ष होरा ने बताया हिंद दी चादर कहलाने वाले गुरु तेगबहादुर का शहीदी दिवस हमें प्रेम, त्याग और बलिदान का संदेश देता है। गुरु तेग बहादुर ने धर्म की रक्षा के लिए अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया था। विश्व इतिहास में धर्म और मानवीय मूल्यों, आदर्शों और सिद्धांत की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले गुरु तेग बहादुर साहब का स्थान अद्वितीय रहा हैं। गुरु तेग बहादुर का जन्म अमृतसर में गुरु हरगोबिन्द साहिब जी के घर में हुआ था। वही बचपन में उनका नाम त्यागमल था। सिखों के नवें गुरु,गुरु तेग बहादुर को धर्म, आदर्शों के लिए शहीद होने वाले महापुरुषों में गिना जाता हैं। गुरु तेग बहादुर ने कश्मीरी पंडितों की मदद के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया था। औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर जी को मौत की सजा सुनाई थी क्योंकि गुरु तेग बहादुर ने इस्लाम धर्म को मानने से इंकार कर दिया था। इसके बाद मुगल शासक औरंगजेब ने सबके सामने उनका सिर कलम कर दिया था। गुरुद्वारा शीश गंज साहिब और गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब उन स्थानों का स्मरण दिलाते हैं, जहां गुरुजी की हत्या की गयी। गुरु तेगबहादुर की याद में उनके शहीदी स्थल पर दुरुद्वारा बना हैं। जिसका नाम गुरुद्वारा शीश गंज साहिब हैं।

X
Sagar News - teg bahadur martyrdom day the program will begin tomorrow in the gurudwara program sajeda diwan
COMMENT