• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sarni News
  • कंपनी के आवासों में रिटायरमेंट के बाद भी सामान्य किराए पर रह सकेंगे लोग
--Advertisement--

कंपनी के आवासों में रिटायरमेंट के बाद भी सामान्य किराए पर रह सकेंगे लोग

पावर जनरेटिंग कंपनी ने आवासीय परिसर के क्वाटर्स का किराया कम कर दिया है। अनधिकृत कब्जे पर 10 गुना किराया वसूलेगी...

Danik Bhaskar | Mar 16, 2018, 04:00 AM IST
पावर जनरेटिंग कंपनी ने आवासीय परिसर के क्वाटर्स का किराया कम कर दिया है।

अनधिकृत कब्जे पर 10 गुना किराया वसूलेगी कंपनी

परियोजना प्रमुख की अनुमति बगैर आवासों में रहने को अनधिकृत कब्जा मानते हुए कंपनी 10 गुना किराया वसूल करेगी। कंपनी के कार्मिकों के सामान्य किराए की 10 गुना दर पर उक्त किराया वसूल किया जाएगा। इसके लिए कंपनी ने सख्ती लागू की है। जारी आदेश में इसकी दरों को भी दर्शाया है। मगर, अनुमति लेकर आवासों में रहने के किराए काफी कम कर दिया है। पहले सुपर डी आवास में रहने पर करीब 11500 रुपए किराया लिया जाता था। अब इसे 4750 कर दिया है। वहीं ई टाइप का किराया करीब 8500 रुपए वसूला जाता था इसे 3950 और सुपर एफ कॉलोनी के किरा को पहले 6500 से घटाकर 2800 किया है।

संगठनों में होड़, किराया कम कराने का श्रेय

पावर प्लांट में कार्यरत कर्मचारियों के संगठनों में इसका श्रेय लेने की होड़ है। मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग जनता यूनियन के सचिव रमेश गव्हाड़े ने बताया संगठन पिछले कई दिनों से कंपनी से इसे कम करने की मांग पर अड़ा था। यह यूनियन की जीत है। वहीं मप्र विद्युत उत्पादन कर्मचारी संघ जनरेटिंग कंपनी के प्रांतीय अध्यक्ष गणेश धोटे ने कहा बीएमएस ने इस मुद्दे को पुरजोर तरीके से उठाया। जो भी हो, किराया कम होने से कर्मचारियों को राहत है।

जानिए किसका कितना

किराया

भवन टाइप कर्मचारी का किराया अन्य का किराया

ए टाइप 1290 5160

बी टाइप 910 3640

सी टाइप 565 2260

डी टाइप 475 1900

ई टाइप 395 1580

एफ टाइप 280 1120

जी टाइप 190 760

नोट: अनधिकृत रूप से कब्जे पर कंपनी के कर्मचारियों के सामान्य किराए का 10 गुना वसूला जाएगा।