Hindi News »Madhya Pradesh »Sarni» हर साल रिटायर हो रहे 200 कर्मचारी, 100 का ट्रांसफर कर दिया, कैसे चलेगा सतपुड़ा प्लांट

हर साल रिटायर हो रहे 200 कर्मचारी, 100 का ट्रांसफर कर दिया, कैसे चलेगा सतपुड़ा प्लांट

सतपुड़ा पावर प्लांट में कर्मचारियों की कमी के कारण उत्पादन का कार्य प्रभावित हो रहा है। इसे लेकर मप्र विद्युत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 29, 2018, 04:50 AM IST

सतपुड़ा पावर प्लांट में कर्मचारियों की कमी के कारण उत्पादन का कार्य प्रभावित हो रहा है। इसे लेकर मप्र विद्युत उत्पादन कर्मचारी संघ बीएमएस ने सतपुड़ा पावर प्लांट के चीफ इंजीनियर कार्यालय में प्रदर्शन किया। श्रमिक नेताओं ने बताया हर साल करीब 200 कर्मचारी रिटायर हो रहे हैं। जबकि करीब 100 कर्मचारियों का ट्रांसफर खंडवा कर दिया है। ऐसे में भीषण कमी के कारण दबाव में काम हो रहा है।

संघ के प्रांतीय अध्यक्ष गणेश धोटे ने बताया मैन पावर की समस्या के कारण यहां का काम प्रभावित हो रहा है। जहां तीन कर्मचारियों की जरूरत है वहां 1 कर्मचारी काम कर रहा है। सारनी पावर प्लांट में इस साल 145 अधिकारी, कर्मचारी रिटायर हो रहे हैं। ऐसे में 1330 मेगावाट क्षमता का सारनी पावर प्लांट संचालित कर पाना मुश्किल हो रहा है। कर्मचारियों को 25 घंटे ओवर टाइम का भुगतान होता है। जबकि हर महीने उनसे 40 से 50 घंटे काम कराया जा रहा है। इसलिए कर्मचारियों को 125 घंटे के ओवर टाइम की मंजूरी दी जानी चाहिए। उन्होंने सातवें वेतनमान के अनुसार ओवर टाइम का भुगतान किया जाना चाहिए। कर्मचारियों की कमी को पूरा करने के लिए नई भर्तियां की जानी चाहिए। अत्यधिक काम से कर्मचारी मानसिक रूप से प्रताड़ित होने के अलावा शारीरिक रूप से बीपी, शुगर और हार्ट की बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं। उन्होंने शाम 5.30 बजे सीई आॅफिस में एसीई एसएम सोलापुरकर को ज्ञापन सौंपा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×