Hindi News »Madhya Pradesh »Sarni» हर बार रोप-वे का राग, शिखर मंदिर की सीढ़ियां तो ढंग से बना नहीं पाए

हर बार रोप-वे का राग, शिखर मंदिर की सीढ़ियां तो ढंग से बना नहीं पाए

मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक ने शुक्रवार को मठारदेव मंदिर में डे शेल्टर और जन सुविधाओं के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 11, 2018, 05:05 AM IST

मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक ने शुक्रवार को मठारदेव मंदिर में डे शेल्टर और जन सुविधाओं के विस्तार के लोकार्पण मौके पर रोप-वे लगाने में सब्सिडी देने की बात कही थी। उनके बयानों पर पलटवार करते हुए उन्हीं की पार्टी भाजपा के पार्षद ने इसे ढाेंग बताया। वार्ड 7 के भाजपा पार्षद और एडवोकेट अनिल वराठे ने कहा भाजपा के सांसद, विधायक और मंत्री सभी इसकी घोषणा कर चुके हैं। निगम अध्यक्ष ने फिर वही राग अलापा है।

शिखर मंदिर जाने वाले रास्ते पर ढंग से सीढ़ियां तो नहीं बन पाईं। रोप वे लगाने की बातें हो रही हैं। पार्टी से जुड़े पार्षद वराठे ने कहा सारनी को रोप वे जैसी संरचना नहीं बल्कि उद्योग-धंधों की जरूरत है। उजड़ते शहर में रोप-वे लगाना घाटे का ही सौदा है। ऐसी स्थिति में यहां प्लांट की इकाइयां लानी चाहिए। शनिवार को यहां जारी बयान में उन्होंने कहा जनता से हर बार झूठे वादे किए जाते हैं। चुनावी साल में तो इस तरह की घोषणाएं नहीं होनी चाहिए। जनता खुद समझदार हो गई है। इसलिए काम पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। न कि घोषणाओं पर। उन्होंने कहा 7 साल से रोप-वे सुन रहे हैं। इसमें बदलाव होना चाहिए। या तो इसे लगा देना चाहिए या इसकी बातें ही नहीं होनी चाहिए।

इधर, पार्षदों के दल ने भी सौंपा पत्र, रास्ता बनाने की मांग

पार्षदों के दल ने मुलाकात कर मठारदेव बाबा शिखर मार्ग पर सलकनपुर की तरह चौपहिया वाहन पहुंचने का मार्ग बनाने की मांग की है। इसके अलावा यहां रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए शॉपिंग कॉम्प्लेक्स बनाने की मांग भी की। पार्षद बंडू माकोड़े, संदीप झपाटे, लता पवार, सुनीता यादव, नरेंद्र उघड़े और सुनीता पवार ने उन्हें बताया वन विभाग ने एक रास्ता बनाया है, इससे आधी दूरी तक वाहन जाते हैं। निगम अध्यक्ष ने सर्वे का आश्वासन दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×